लेखक परिचय

डॉ. मधुसूदन

डॉ. मधुसूदन

मधुसूदनजी तकनीकी (Engineering) में एम.एस. तथा पी.एच.डी. की उपाधियाँ प्राप्त् की है, भारतीय अमेरिकी शोधकर्ता के रूप में मशहूर है, हिन्दी के प्रखर पुरस्कर्ता: संस्कृत, हिन्दी, मराठी, गुजराती के अभ्यासी, अनेक संस्थाओं से जुडे हुए। अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति (अमरिका) आजीवन सदस्य हैं; वर्तमान में अमेरिका की प्रतिष्ठित संस्‍था UNIVERSITY OF MASSACHUSETTS (युनिवर्सीटी ऑफ मॅसाच्युसेटस, निर्माण अभियांत्रिकी), में प्रोफेसर हैं।

Posted On by &filed under महत्वपूर्ण लेख, विविधा.


useडॉ. मधुसूदन
(एक) प्रवेश:

ॐ (१) विषय कुछ विशेष कठिन नहीं है।
ॐ (२) पर ध्यान देकर धीरे धीरे समय निकाल कर पढने का अनुरोध।
ॐ (३) गत कुछ महीनों के ४-५ भाषणों में, विद्वानों द्वारा उठाए गए प्रश्नों पर यह आलेख आश्रित है।
(दो) हिन्दी में अंग्रेज़ी का शब्द

अंग्रेज़ी शब्द हिन्दी में जब स्वीकारा जाता है; तो अकेला ही स्वीकार होता है।
जैसे Use अकेला ही लिया जाता है। और प्रयोग में भी अकेला ही सुनने में आता है। साथ Usability, Utility, Useful, Utilitarian, Useless, इत्यादि अनेक शब्द जो use से विकसित हुए हैं, उन्हें हिन्दी में लाना संभव नहीं है; न उचित है।

और ऐसे सारे के सारे शब्द हिन्दी में धडल्ले से लाते गए, तो हमारी प्रिय हिन्दी शीघ्रता से, दूषित होती चली जाएगी। और फिर वो दिन दूर नहीं, जब, हमारी हिन्दी ऐसी खिचडी बन जाएगी, जिसे पहचानना कठिन हो जाएगा।
केल्टिक भाषा ऐसे ही अनियंत्रित उधार शब्दों की खिचडी बन कर नष्ट हो गयी थी। हमे चेत के रहना होगा।
(तीन) कविता में शब्द की उपयुक्तता की कसौटी
हिन्दी कविता में भी अंग्रेज़ी शब्द हिन्दी के प्राकृतिक बहाव से मेल नहीं खाता। सामान्यतः
अपनी कुरूपता प्रकट कर ही देता है। वैसे अंग्रेज़ी कविता में भी मुझे गेयता का भाव अल्प ही प्रतीत हुआ। वाद्य संगीत के साथ ही अंग्रेज़ी कविता को गेयता प्रदान होती है।

हिन्दी कविता में, अंग्रेज़ी शब्द-प्रयोग गेयता को अकस्मात अवरुद्ध करता है।और व्यंग्य के सिवा अन्य रसों की निष्पत्ति में क्वचित ही काम आ सकता है।
ऐसी कविता में शब्द की उपयुक्तता की कसौटी भी एक निर्णायक कसौटी मानता हूँ।

(चार) Use भी हमारे *युज्* से निकला है।

और, पहले तो Use शब्द भी हमारे *युज्* इस संस्कृत धातु से निकला हुआ प्रमाणित किया जा सकता है। पर, यदि Use को उसके विस्तृत परिवार के साथ स्वीकारा गया तो हमारी भाषा भी
बदल जाएगी। और ऐसे स्वैराचारी, अनियंत्रित उधारी से हम अपनी भाषा को बिगाडने के उत्तरदायी होंगे।
ऊपर कहा जा चुका है; केल्टिक भाषा कैसी उधारी के कारण ही नष्ट हुयी थी। पर साथ साथ हमारी भाषा प्रदूषित भी होगी।
इस आलेख में, एक उदाहरण द्वारा इस बिन्दू का विकास किया है।

संस्कृत शब्द का परिवार अंग्रेज़ी के परिवार की अपेक्षा बहुत विस्तृत होता है।
और हिन्दी में घुल-मिल जाता है।
Use के स्थान पर उपयोग और उपयोग के साथ उपयोगिता, उपयुक्तता, उपयोगी, उपयोगितावाद, इत्यादि ७४ शब्द अंत में सूची बनाकर दिए हैं।

उपयुज का पूरा शब्द परिवार हिन्दी में प्रवेश कर सकता है।
अंग्रेज़ी शब्द अकेला ही आता है। वैसे अंग्रेज़ी शब्द का परिवार भी बहुत छोटा ही होता है।
(पाँच) *युज्* से Use निकला है।

संस्कृत की एक धातु है युज्, जिस का उच्चारण और अर्थ अंग्रेज़ी Use के निकट है।
युज् और Use का अर्थ प्रायः समान है; और इन दो शब्दों का उच्चारण भी लगभग समान है। ऐसे, उच्चारण और अर्थ, दोनों का मूल शब्द के उच्चारण और अर्थ के निकट होना, महत्वपूर्ण है। ये दो प्रमुख कसौटियाँ हैं, शब्द-मूल के शोध के लिए। निरुक्तकार यास्क ऋषि यही कहते हैं। ऐसी मूल शब्द की शोध-प्रक्रिया को, व्युत्पत्ति का शोध कहा जाता है।
हमारी सारी प्राकृत और प्रादेशिक भाषाओं के शब्द प्रमुखतः इन्हीं दो (उच्चारण और अर्थ की) कसौटियों के आधार पर अपनी व्युत्पत्ति ढूँढते हैं। और भारतीय भाषाओं के बहुसंख्य शब्द (७० से ८० प्रतिशत ) संस्कृत के शब्दों के मूल तक पहुंचते हैं। एक अपवाद तमिल भाषा का है, पर उसके भी ४० से ५० प्रतिशत शब्द संस्कृत से व्युत्पन्न होते हैं।
इस आलेख में, लेखक ने इन्हीं दो कसौटियों के आधार पर Use इस अंग्रेज़ी शब्द का मूल ढूँढने का प्रयास किया है।

(छः) उच्चारण और अर्थ की कसौटियाँ

(१) युज् और Use के समान उच्चारण।
(२) और उनके अर्थों की समानता नीचे दर्शायी है।
संस्कृत में:
निम्न अर्थों से, वा. शि. आप्टे का संस्कृत-हिन्दी कोश इस *युज्*शब्द के अर्थ देता है।
युज् के अर्थ होते हैं ===> (१) प्रयुक्त करना, (२) काम में लगाना, (३) इस्तेमाल करना, (४) नियुक्त करना, (५) स्थापित करना, (६) जुडना, (७) जोतना, (८) जोडना, (९) सुसज्जित करना इत्यादि। पूरा सवा पृष्ठ अर्थों से भरा है।
*युज्* धातु प्रथम गण (प.),चतुर्थ गण (आ.),सप्तम गण(उ.),दशम गण (उ.) ऐसे चार गणों में पाया जाता है।
अंग्रेज़ी में
प्रायः इन्हीं अर्थों में अंग्रेज़ी का Use शब्द भी अंग्रेज़ी में प्रयोजा जाता है।
बाहरी (अंग्रेज़ी-हिन्दी कोश से)
Use= उपयोग करना, प्रयोग में लाना, व्यवहार में लाना, भोगना, काम में लाना, इस्तेमाल करना, अभ्यस्त होना, इत्यादि।
वैसे अर्थ भी दो स्तरों के होते हैं। मूल से जुडा अर्थ, और विस्तरित (व्युत्पादित) अर्थ।
इन दोनों कसुअटियों से प्रमाणित होता है, कि, हमारा युज् ही अंग्रेज़ी Use का मूल है। अर्थ समान और उच्चारण भी निकट का है। उच्चारण का सूक्ष्म बदलाव हुआ है। पर ऐसे बदलाव हमारी प्राकृत भाषाओं में भी हुए हैं। अनेक (१०-१२) आलेखों में इसकी चर्चा हो गयी है-पाठक जानते ही होंगे।

(सात ) एक विद्वान का प्रश्न:

एक विद्वान श्रोता ने यह प्रश्न उठाया था।
ये विद्वान स्वयं हिन्दीभाषी नहीं थे; पर हिन्दी के विरोधक भी नहीं थे।
पर धडल्ले से प्रचुर अंग्रेज़ी शब्दप्रयोग करते थे। कुछ अभ्यास के कारण।
वैसे अभ्यास के कारण ही, भारत में भी ऐसी दूषित परम्परा रूढ हो चुकी है। पहले हम परतंत्र थे; पर आज भी मति-भ्रमित हैं; मानसिकता हमारी दास्यवृत्ति से ग्रस्त हैं।
भारत में, भी विद्वान इतने अंग्रेज़ी के अभ्यस्त हो गए हैं, कि शीघ्रता से ऐसा बदलाव लाना कठिन लगता है। फिर विद्वानों का अनुकरण कर ही सामान्य जन चला करते हैं। समस्या इसीलिए और भी कठिन है। पर हमें अपनी ही भाषाका गौरव जगाना होगा। विद्वानों को भी मैं निवेदन करता हूँ, कि इस उद्देश्य से स्वयं ही अध्ययन करे।

(आठ)युज धातु से व्युत्पादित शब्द:
संस्कृत की शब्द की समृद्धि:

यदि आप संस्कृत की शब्द समृद्धि देखें तो आप अवश्य स्तंभित हो जाएंगे।
कोई अंग्रेज़ी के use से ऐसी सूची बनाने का प्रयास कर के देखे। प्रमाणित हो जाएगा।
निम्न सूची में उपसर्ग, प्रत्यय, और सामसिक शब्दों की सूची बनाई है। अंग्रेज़ी में ऐसे प्रचुर सामासिक शब्द भी नहीं बनाए जा सकते।

(१)प्रयुज = उपयोग के लिए देना, (घन, वस्तु ) या ब्याज पर देन। फिर प्रयोजन
(२)उद्युज = तैयार करना।
(३) उद्योजक = उद्योग लगानेवाला
(४) वियुज = घटाना।
(५) उपयुज = उपभोग करना, खाना।
(६) नियुज = उकसाना, प्रेरित करना।
(७) विनियुज = वियुक्त या अलग करना।
(८) सायुज्य = सादृश्य, या समानता।
(९) अभियुज= कहना, या बोलना। (अभियोग भी इसी वर्गका लगता है।)
और फिर (१०) प्रयोजन, (११) नियोजन,(१२) अभियोजन, ऐसे और भी शब्द मिलेंगे।
उसी प्रकार युज धातुसे योग भी बनता है।
आगे (१३) उपयोग, (१४) उपयोगी, (१५) उपयोगिता, (१६) उपयुक्त, ((१७) उपयुक्तता, (१८)उपयोज्य, (१९) उपयोगितावाद,
फिर (२०) प्रयोग, (२१) विनियोग,(२२)संयोग, (२३) वियोग, (२४) आयोग,(२५) प्रतियोग से प्रतियोगिता।
(२६) ज्ञानयोगः= आत्मज्ञान प्राप्त करने या परमात्मानुभूति प्राप्त करने का मुख्यसाधन
(२७) राजयोग = धार्मिक चिन्तन का एक सरल योग (राजाओं द्वारा अभ्यास करने योग्य)
(२८) भक्तियोग = सानुराग निष्ठा, श्रद्धापूर्वक उपासना
(२९) दैवयोग = संयोग, भाग्य, अवसर
(३०) विसंयोगः= अलग-अलग होना, बिछोह, वियोग”
(३१) योगेश्वर = कृष्ण और याज्ञवल्क्य का विशेषण
(३२) उपयोगिन = योग्य, उचित
(३३) योगयुक्त = योगमार्ग में संलग्न
(३४) अभियोगिन = न्यायालय में वादी,
(३५)यथायोग्य = योग्य, उचित, सही
(३६) कथायोग = बातचीत के मध्य
(३७) प्रयोग = साधन, उपाय,
(३८) उद्योग = कार्य, कर्तव्य, पद, परिश्रम
(३९) अनुयोग = धार्मिक चिन्तन, टीका-टिप्पण
(४०) योग्य = उचित, सही,
(४१) प्रव्रज्यायोग = ज्योतिष का एक योग जो सन्यास का निर्देशक
(४२) योगापत्ति = प्रचलन में परिवर्तन
(४३) विधियोग = भाग्य का बल या प्रभाव
(४४) क्रमयोग = नियमित ढंग से
(४५) योगेश = याज्ञवल्क्य का विशेषण
(४६) योगशास्त्र = योगदर्शन
(४७) नियोगः = सही, यथार्थ
(४८) योगपीठम्= योग का अभ्यास करते समय बैठने की विशेष मुद्रा
(४९) ब्रह्मयोगः = ब्रह्मज्ञान का अनुशीलन या अभिग्रहण
(५०) प्रतियोगिन् = प्रतिरूप, जोड़ का, प्रतियोगी
(५१)संयोगिन् = मिलने वाला
(५२)योगिनी = शिव या दुर्गा की सेविकाओं की टोली
(५३)योगदण्डः = योग की शक्ति से युक्त छड़ी,जादू की छड़ी”
(५४)अयोग्य = जो योग्य न हो,अनुपयुक्त,निरर्थक”
(५५) अभियोगः= आरोप,दोषारोपण,पूर्वपक्ष
(५६) प्रयोगविद् = जो किसी वस्तु के व्यवहार को जानता हैं
(५७) योगाभ्यासी= जो योग का अभ्यास करता है
(५८)योगेन्द्र = याज्ञवल्क्य का विशेषण
(५९)योगबलम् = जादू की शक्ति
(६०) क्रियायोगः= तरकीब और साधनों का प्रयोग
(६१) योगसमाधि = आत्मा का गूढ़ भावचिन्तन में लीन होना
(६२) आयोग = किसी उद्देश्य से रची गयी समिति
(६३) समाधियोगः = ध्यान-मन का अभ्यास
(६४)योगाचार्यः =योग दर्शन का अध्यापक
(६५) योगः= जूआ
(६६) हठयोगः= योग की एक विशेष रीति या भावचिन्तन व मनन का अभ्यास
(६७) मनोयोग = दत्त चित्तता, खूब ध्यान देना”
(६८) समुद्योग = सक्रिय चेष्टा, ऊर्जा”
(६९) स्वरसंयोग = ध्वनि या स्वरों का मेल
(७०) योगमाया = दुर्गा का नाम
(७१) योगक्षेमः = धार्मिक कार्यो के निमित्त कल्पित संपत्ति
(७२) निरुद्योग = निश्चेष्ट, निकम्मा, आलसी, सुस्त
(७३) योगासन = सूक्ष्मभावचिन्तन के अनुरूप अंग-स्थिति
(७४) कर्मयोगः= सक्रिय चेष्टा, उद्योग

संदर्भ: (क) एम. आर. काले (संस्कृत व्याकरण),(ख) बाहरी का अंग्रेज़ी-हिन्दी कोश, (ग) यास्क लिखित निरुक्त, (घ) लेखक के व्याख्यान (च) भाषाविज्ञान की भूमिका -देवेन्द्रनाथ शर्मा।
(छ) भारतीय विचार मंच -लेखक कॅ लिफॉर्निया के विद्वानों समक्ष दो व्याख्यान,(ज) अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी समिति सम्मेलन का प्रमुख व्याख्यान।

Leave a Reply

4 Comments on "संस्कृत *युज्* से निकला अंग्रेज़ी Use"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
डॉ. मधुसूदन
Guest
आदरणीय मधुसूदन भाई , आपका ये ज्ञानयज्ञ समयसाध्य एवं परिश्रमसाध्य है , जिसको आप निरन्तर अपने शोध की ज्ञानसमिधाओं द्वारा प्रज्ज्वलित ही नहीं रखते है, उसकी ज्वाला को नित्य विवर्धित भी करते रहते हैं । एक युज् धातु से ही व्युत्पन्न हुए शब्दों का जो निर्झर आपने प्रवाहित किया , वह तो सागर जैसा विशाल होगया है । आपके वैदुष्य और शोध की प्रवृत्ति के साथ ही, प्राप्त ज्ञान के प्रसारण द्वारा सामान्यजन के अज्ञान को दूर करके सत्यता के उद्घाटन का प्रयास वस्तुत: स्तुत्य और प्रशंसनीय है । आपका आलेख अत्यन्त सशक्त एवं प्रभावी है , जो अंग्रेज़ी के… Read more »
Yogendra Joshi
Guest
(१) कही गयी बातें संस्कृत की समृद्ध शब्दसंपदा के संदर्भ में हैं या हिन्दी के? संस्कृत के समस्त शब्द हिन्दी में प्रयुक्त नहीं होते हैं। यह बात सही है कि हिन्दी (तथा अन्य भारतीय भाषाओंं) में संस्कृत के तमाम शब्द विद्यमान हैं किंतु सभी नहीं। ऐसा मैं सम्भव नहीं समझता हूं। (२) भारतीयों का अंगरेजी प्रेम अद्वितिय है। ऐसा इसलिए कि देशवासी जैसा होने का दावा करते हैं ऐसे अपने आचरण में नहीं होते। उन्हें स्वार्थलाभ हेतु अंगरेजी की अहमियत बनाये रखने से कोई परहेज नहीं क्योंकि समाज में ऐसा वर्ग उभर चुका है जो अंगरेजी के वर्चस्व से लाभान्वित… Read more »
इंसान
Guest
उन सभी बहुसंख्यक भारतीयों जो आधारभूत शिक्षा से वंचित हैं कभी अंग्रेजी नहीं सीख व समझ पाएंगे के सुख समृद्धि व सौभाग्य को ध्यान में रखते मुझे अंग्रेजी के वर्चस्व से लाभान्वित होते समाज के उस अल्पसंख्यक वर्ग से कम, उन के बल पर शिक्षित निष्क्रिय व संशयात्मक भारतीयों से अधिक आशंका रही है| उन्हें मैं अजमेर-स्थित मेयो कालेज से पढ़े कल के युवराजों की भांति देखता आया हूँ जो अन्य परिस्थितियों के बीच अंग्रेजी साम्राज्य और तथाकथित स्वतंत्रता के पश्चात उनके कार्यवाहक प्रतिनिधि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को चिरस्थाई सत्ता में बनाए रखने में सहायक रहे हैं| डॉ. मधुसूदन जी… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest

Read other articles by the author (almost 80) of them. Most aspects are covered.

Join the discussion

wpDiscuz