लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under विविधा.


-ऋतु चटर्जी

हमें अच्छा लगता है जब दूसरों के मामले को लेकर हमारे पेट में दर्द होता है। आखिर हम मीडिया वाले जो हैं। विवादित जोड़े और मीडिया वालों में काफी समानता दिखाई देती है। कारण दूसरे निजी जीवन में क्या कर रहे हैं इससे हमारा पेट दुखता है और हम चाहते हैं जब हम कुछ करें तो सबका पेट दुखे। जनता भी कम समझदार नहीं है, किसी को ज़ुकाम है तो पहले मीडिया के पास जाता है फिर डाक्टर के पास, किसी का अपने पति से झगड़ा हो गया तो पहले मीडिया के पास फिर वकी़ल के पास, घर में चोरी हो जाए तो पहले मीडिया के पास फिर पुलिस के पास और नई खोज के अनुसार अब मीडिया सास-बहू के झगड़े भी निबटाएगी। पति-पत्नी के बीच शास्त्रों के अनुसार किसी को भी मध्यस्थता करने का अधिकार नहीं है, उनकी सन्तान तक इसकी अधिकारी नहीं होती परन्तु अब नवीन शास्त्रों के अनुसार मीडिया के हस्तक्षेप के बिना किसी भी घर का झगड़ा नहीं निबट सकता। भाई-बहन में भी निबटारा अब मीडिया ही करवाएगी। भले ही वे 5 वर्ष के हों या 50 वर्ष के, अपहरण का मामला हुआ तो पहले मीडिया फिर पुलिस। मैं इसके पक्ष में तो हूं कि हमारे देश की सम्पूर्ण प्रशासनिक एवं कानूनी व्यवस्था में पत्रकारिता एक महत्वपूर्ण स्तंभ के समान है और वास्तविकता भी यही है कि मीडिया देश के लोकतन्त्र का चौथा स्तंभ है। प्रशासन के बहरेपन के खिलाफ मीडिया बोले तो यह सर्वथा उचित है परन्तु यह जनता एवं प्रशासन के मध्य दलाली का काम करे यह कदापि उचित नहीं है, मीडिया आवाज़ पहुंचाने का ज़रिया बने और शेष कानून को करने दे। यह मीडिया का कौन सा नया रूप है कि वह हर जगह डण्डा लेकर मामलों का निबटारा करने पहुंच जाती हैर्षोर्षो निर्णय देना मीडिया का नहीं कानून का काम है। हम घर की दहलीज़ के भीतर रहने वाली बातों को संसार भर के सामने तमाशा बना देते हैं, बदले में सारी दुनिया के सामने हमारा तमाशा बनाकर अपनी टी.आर.पी रेटिंग बढ़वा ली जाती है। पटना से एक छोटे बच्चे का अपहरण हो गया। उसके पिता के अनुसार पुलिस ने पहले रिर्पोट दर्ज नहीं की फिर की भी तो कार्यवाही नहीं कर रही है। उस समय के एक पूर्वाग्रह से ग्रस्त न्यूज़ चैनल के ज़रिए अपनी बात पुलिस में डी.आई.जी तक पहुंचाने से परिणाम यह हुआ कि डी.आई.जी साहब ने घटना सुनना तो दूर चैनल वालों को ही चार बातें सुनाकर फोन काट दिया। अपहरण की बात तो अधर में रही और पुलिस-मीडिया के बीच शीत-युद्ध का नंगा प्रर्दशन अवश्य हो गया।

एक अन्य पहलू पर नज़र डालकर देखते हैं, समझ में यह नहीं आता कि पुलिस मीडिया के लिए कहानियां छोड़ती ही क्यूं है। ऐसे मामले जहां हत्या बलात्कार और अपहरण जैसी घटनाएं हों वहां पुलिस फौरन ही अपने कर्तव्य क्यूं नहीं निभाती। जब पुलिस ही पीछे हट जाती है तो जनता अपने स्वयं के नियम का़नून बनाएगी ही और उसमें मीडिया का सर्वोपरि होना स्वाभाविक है कारण मीडिया की छवि आज भी उसी प्रथम जनक्रान्ति के रूप में है जिसने हस्तलिखित पृष्ठ द्वारा जन-जन तक एक दूसरे के विचारों को पहुंचाने का बीड़ा उठाया था। वो प्रिंट मीडिया ही था जिसकी बनाई छवि को आज इलेक्ट्रानिक मीडिया विभत्स रूप से भुना रहा है,सम्भवत: मीडियाबंधू जोरदार, मसालेदार और ब्रेकिंग न्यूज़ के पीछे भागते-भागते भूल गए हैं कि मीडिया मात्र माध्यम है ना कि निर्णयकर्ता या निर्णायक।

इस बात से इन्कार नहीं किया जा सकता है कि आज मीडिया है तो दैनिक जीवन काफी सुविधाजनक है। रोजाना की सामान्य दिनचर्या में यदि कुछ ऊंच-नीच हो जाए तो और कोई सहाय हो न हो पर ईश्वर के अलावा मीडिया ज़रुर आपके साथ होती है और जहां तक हो सके मामले को सुलझाने में आपकी सहायता भी करती है। लेकिन क्या सभी मीडिया सम्बंधित व्यक्ति अपना कर्तव्य निभाने में सक्षम हैं। लगभग हर रोज कहीं ना कहीं एक नई घटना का सूत्रपात होता ही रहता है, परन्तु इसका यह मतलब तो नहीं कि प्रत्येक घटना की आंखो देखी स्थिति का सीधा प्रसारण किया जा सके। लेकिन मीडियावालों के बीच छिड़े लोकप्रियता पाने के युद्ध में मीडिया की मानवता पीछे छूट गई है। कैमरा लिए दिनभर शहर का चक्कर काटते नए पत्रकार केवल सनसनी की खोज में कुछ भी कर गुजरने पर आमादा रहते हैं। वे बिना आज्ञा किसी के दफ्तर अथवा घर कहीं भी पहुंच जाते हैं केवल इसलिए कि आस-पास के इलाके में सनसनी फैल जाए और कोई खास खबर न भी मिले तो कम से कम सस्ती लोकप्रियता का मौका न छूटने पाए। जबतक मीडिया की कार्यवाही लोकहित तक सीमित रहें प्रिय मालूम होती है और जब यह कार्य केवल अपने समाचार चैनल की टीआरपी रेटिंग के हित में किया जा रहा हो तो यह किसी अपराध से कम नहीं लगता।

लखऩऊ का लालबाग क्षेत्र दोपहर के करीब 2 बजे का समय, अचानक शोर गुल के कारण जून की दोपहर का गर्म सन्नाटे से भरा माहौल चहल पहल से भर उठता है। दो व्यक्ति भयानक गाली गलौज करते हुए सड़क पर एक दूसरे को धकियाते हुए ले आते हैं। उनके आस पास भीड़ जमा हो चुकी है। पास पड़ोस के अलसाए दुकानदार इससे पहले कि कुछ समझ पाएं पास खड़ी कार का शीशा तेज आवाज के साथ टूट कर बिखर जाता है। सम्भवत: दोनो के झगड़े के मध्य किसी शरारती ने काम दिखा दिया था। बात भले ही मामूली रही हो पर इस घटना के चलते मामला गम्भीर हो गया। जिसकी कार थी अब उसकी बारी थी। कार का भुग्तभोगी मालिक मजबूत व्यक्ति था अपने सहयोगियों के साथ आकर उसने दोनों को बुरी तरह मारना-पीटना शुरु कर दिया। जो बचाने आए थे छोड़कर भाग गए। अब पुलिस का मामला बन चुका था, पर पुलिस को कोई नहीं बुलाता। इसी बीच एक न्यूज चैनल की गाड़ी वहां आ पहुंचती है। बेहद मामूली आपसी झड़प जिसमें कोई घायल नहीं हुआ। इस घटना में ऐसा कुछ नहीं था जिसे उभारा जाता पर कारीगर की कारीगरी देखिए…फौरन ही उन दोनों मार खाए लोगों को बुलवाया गया और उन्हें उकसाकर दोबारा हाथापाई की नौबत पैदा कर दी गई। इस बार झगड़ा पहले से ज्यादा भड़क गया। यह सब कुछ पुलिस के घटनास्थल पर आने तक शूट किया जाता रहा। पुलिस के आते ही मामले को असाम्प्रदायिक तत्वों द्वारा मचाया गया उत्पात बताया गया। शीघ्र ही घबरायी पुलिस ने दोनों को मारपीट कर पूछताछ आरम्भ कर दी और उन्हें पूरी रात बिना कारण ही जेल में सड़ाया गया। साफ समझ में आ रहा है कि पूरे दिन खोजने पर भी जब कोई खास मसाला हाथ नहीं लगा तो मीडिया के इन सड़कछाप लोगों ने जो एक प्लास्टिक के टुकड़े का परिचय-पत्र और हाथ में माईक कैमरा थाम कर स्वयं को समाज का ठेकेदार कहने लगते हैं वे सीधे-सीधे कानून को हाथ में लेने को तैयार हो गए। ऐसे लोगों को गैरजिम्मेदार नागरिक कहें या असामाजिक तत्वर्षोर्षो ऐसी मीडिया की किसे जरूरत।

कुछ खास चैनलों पर तो दिनभर केवल आने वाले प्रलय से डराया जाता है या फिर सीधे स्वर्ग का मार्ग ही दिखा दिया जाता है मानों यदि आप अपने दैनिक जीवन से असहज हों तो तुरन्त सशरीर स्वर्ग यात्रा पर निकल पड़िए। इस वैज्ञानिक युग में जब देश को अंधकार से भरी दुनिया में रोशनी की खोज है तब टी.वी चैनलों पर भूतों की तस्वीरें दिखाकर मीडिया क्या साबित करना चाहती है। परीकथाएं और सास-बहू के रोने धोने के प्रसंग दिखाने के लिए क्या अन्य चैनल कम पड़ गए हैं जो न्यूज़ चैनल भी इस दौड़ में हिस्सा लेने लगे हैं। तन्त्र-मन्त्र, अंधविश्वास इस सबसे तो मीडिया का कभी कोई सम्बंध नहीं था वरन कभी ऐसे मामलों में लोगों को फंसा कर जब उनके साथ हुई धोखाधड़ी की घटनाएं सामने आती हों तब अवश्य दूसरों को सावधान करने हेतु मीडिया का आगे आना देखा जाता रहा है। हर वस्तु में मिलावट है, बंधागोभी,पालक और साग में कीड़े हैं, बैंगन, परवल, भिन्डी और लोभिया में रंग है, दूध में ज़हर है, घी में चर्बी है, आटे में पाउडर है मतलब अब आप भोजन करना छोड़ दीजिए और जो वस्तु न्यूज़ चैनलों पर विज्ञापित की जाएं केवल उन्हें ही खाएं। कारण जिन वस्तुओं का भारी भरकम रकम वाला विज्ञापन चैनल को मिलेगा निश्चित ही वह वस्तु आपके लिए शुद्ध हो जाएगी।

दुर्घटनाओं का रस लेकर पूरे दिन एक ही खबर को घिसते रहना दर्शाता है कि पत्रकारिता के क्षेत्र में कर्मठ एवं खोजी स्वभाव के पत्रकारों की कितनी किल्लत हो गई है। तरह-तरह के एनीमेशन्स द्वारा आत्महत्याओं, सड़क अथवा हवाई दुर्घटनाओं, हत्यओं को यह कह कर दिखाना कि “असलियत हम बताते हैं कि वास्तव में फलां काण्ड हुआ कैसे।´´ देखा जाए तो पुलिस प्रशासन एवं कानून व्यवस्था को तुरन्त ही ऐसी रिर्पोट देने वाले पत्रकारों से पूछना चाहिए कि हमसे पहले घटनास्थल पर तुम पहुंचे और हमसे ज्यादा घटनाओं के विषय में तुम्हें पता है कहीं तुम ही तो इसके प्रमुख सूत्रधार नहीं हो परन्तु ऐसा नहीं हो पाता कारण मीडिया के बढ़ते रसूख शासन एवं अधिकारियों में मीडियाकर्मियों की घुसपैठ और पहुंच साथ ही व्यक्तिगत रूप में लाईसेन्सी पिस्तौलधारी माफिया स्वरुप मीडियावालों के मुंह लगने से तो पुलिस भी भय खाती है। पुलिस सम्भवत: यह समझने लगी है कि जो कार्य वह वदीZ में करती है मीडियावाले उसी कार्य को बगैर वर्दी के करने में समर्थ हैं और शासन व्यवस्था भी इनके साथ है। सचिवालय का प्रवेश पत्र गाड़ी पर चिपका हो तो बिना चुनाव लड़े साधारण मीडियाकर्मी स्वयं को नेता से कम नहीं मानता वाहन सहित लालबत्ती का रस्ता काटकर सचिवालय में प्रवेश न कर सके ऐसा पत्रकार किस काम का,हर नेता के घर में बैठक हर राजनीतिक दल के दफ्तर में घुसपैठ, नियम तोड़ कर भी झगड़े को आमादा पत्रकार अपनी परिभाषा भूलता जा रहा है। नई पीढ़ी के पत्रकार भी गुण्डागदीZ को पत्रकारिता मानने लगे हैं। ऐसे में आम जनता भी अपनी पहचान बनाने के लिए बड़े वाहनों पर प्रेस चिपका कर घूमने को अपनी शान मानने लगी है क्यूंकि डर कर इनसे कोई प्रेस का परिचय पत्र भी नहीं मांगता। अपराध को इससे बढ़ावा तो मिला ही है और अधिकांशत: प्रेस की चिपकियों से सजी गाड़ियों में ही पापकर्म होने लगे हैं, वाहनों में ही शराब की महफिलें भी सजती हैं और बड़े-बड़े सौदे भी किए जाते हैं अर्थात करे कोई और भरे कोई।

इस सबका इलाज तो तभी हो सकेगा जब मीडिया स्वयं कानून और नियमों के समक्ष आत्मसर्मपण करेगी। जब मीडियाकर्मी सर्वाधिक कानून का पालन करने वाले लोगों में से होंगे जब पे्रस वाले पार्किंग का पैसा भरने लगेंगे, जब पार्किंग निषेध से उठने वाली गाड़ियों में प्रेस की गाड़ियां नहीं होगी। जब नेता स्वयं चलकर प्रेस वालों को निवेदन कर अपनी सभाओं और पार्टियों में बुलाने आएंगे बजाए इसके कि एक फोन पर प्रेस वालों की कतारें बैण्डबाजे वालों से पहले पहुंच कर मुफ्त के खाने पीने को नहीं खड़ी हो जाया करेंगी। वेतन कम मिलने पर ब्लैकमेलिंग और दलाली के कार्य ऊपरी कमाई का ज़रिया नहीं होंगे। विज्ञापन पाने के लिए अच्छे और बुरे के बीच का फर्क करने की क्षमता को नज़रअन्दाज़ नहीं किया जाएगा। मीडिया को समझना ही होगा कि यदि कोई सही अर्थों में समाज का ठेकेदार कहलाने योग्य है तो वह हम ही हैं। यदि समाज का ठेका उठाया ही है तो फिर समाज के हर अच्छे-बुरे के जिम्मेदार हम ही हैं। यदि हम ही समाज के नियमों को ताख पर रख छोड़ेंगे तो हममें और आम जनता में अन्तर ही क्या रहेगा। मीडियाकर्मी वर्दीधारी नहीं हैं फिर भी आम जनता से हटकर हैं कारण हमारी जिम्मेदारियां आम जनता से कहीं ज्यादा हैं। हम सड़क पर पड़े व्यक्ति को नज़रअन्दाज कर नहीं जा सकते जबकि आम आदमी मुसीबत से बचने को ऐसा करने का अधिकार रखता है, हमें दूसरों के सर का दर्द नहीं बनना हमें तो मुसीबतों से खेलना होगा यही मीडियाधर्म है।

(लेखिका एक प्रतिष्ठित इलेक्‍ट्रॉनिक चैनल में काम करती हैं)

Leave a Reply

2 Comments on "हमें अच्छा लगता है जब दूसरों के मामले को लेकर हमारे पेट में दर्द होता है"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
लोकेन्द्र सिंह राजपूत
Guest

ये बेलगाम घोड़े का रथ हो गई है। मीडिया का आवश्यक रूप से आचार संहिता की जरूरत है।

sunil patel
Guest

सुश्री ऋतू जी ने आज की मीडिया का सच बता दिया है. वास्तव में जरुरत है मीडिया के लिए कुछ नैतिक मापदंडो की.

wpDiscuz