लेखक परिचय

डॉ. सुरेंद्र जैन

डॉ. सुरेंद्र जैन

लेखक विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं।

Posted On by &filed under राजनीति.


डॉ. सुरेन्‍द्र जैन

विकीलीक ने कांग्रेस के साम्प्रदायिक चेहरे पर से एक बार और पर्दा उठा दिया। कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी ने अमेरिकी राजदूत को कहा है कि” भारत को जेहादी आतंकियों से ज्यादा खतरा हिंदू संगठनों से है।” इससे पहले इन्हीं महाशय ने संघ की तुलना सिमी से करने की नादानी की थी। विकीलीक ने कुछ दिन पहले यह रहस्योदघाट्न किया था कि कांग्रेस भारत में साम्प्रदायिक राजनीति करती है। इसी राजनीति के कारण कांग्रेस ने अंतुले से आरोप लगवाये थे कि करकरे की हत्या में हिन्दू संगठनों का हाथ है। अब एक और कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह ने करकरे के साथ तथाकथित रूप से हुइ बात का हवाला देते हुए कहा था कि करकरे को हिन्दू संगठनों से खतरा है । महाराष्ट्र के गृह मंत्री ने स्पष्ट रूप से कहा है कि करकरे की दिग्विजय से बात के कोई रिकार्ड नहीं हैं। इससे पहले करकरे की पत्नी तथा मुम्बई हत्याकांड के जांच अधिकारी ने इस तरह की किसी बात से इंकार किया था। इन सबके बावजूद कोई न कोई कान्ग्रेसी इस प्रकार के अनर्गल दुष्प्रचार में लगा रहता है। उन्हें न इस बात की चिंता है कि उनकी इस बचकाना और घिनोनी हरकतों से आतंकियों की कितनी हिम्मत बढती है, पाकिस्तान के हौंसले कितने बुलंद होते हैं ,जांच एजेंसियां कितनी प्रभवित होती हैं तथा दुनिया में भारत की कितनी जगहंसाई होती है। अभी तक ऍसा लगता था कि इन हरकतों से ये अनजाने में आतंकियों की सहायता कर रहे हैं परन्तु अब लगता है कि ये नेता जानबूझ कर आतंकियों की मदद करते हैं। गद्दी के लालच में ही इन्होंने भारत का विभाजन किया था, आज भी ये सत्तालोलुप चंद मुस्लिम वोटों के लिये देश को एक और विभाजन की ओर ले जा रहे हैं।

बार- बार हिंदू संगठनों का डर दिखा कर वे मुस्लिम समाज को आतंकित करना चाहते हैं। वे इस नापाक हरकत से कई पाप कर रहे हैं। वे अपने इस दुष्प्रचार से आतंकी संगठनों की भाषा बोलकर उनके प्रवक्ता के रूप में काम कर रहे हैं। दूसरे, उनकी इन हरकतों से मुस्लिम समाज का एक वर्ग भ्रमित होकर देश की मुख्य धारा से अलग हो सकता है। क्या इनके इन पापों की भरपाई की जा सकती है? हिन्दू संगठनों से लडना है तो हम उन्हें चुनौती देते हैं कि वे वैचारिक आधार पर सभ्य समाज की तरह लडें। वे किसी भी मंच पर हमें गलत सिद्ध करें, हम सत्य सामने लायेंगे। इसके बाद समाज को सही गलत का निर्णय करने दें। इस लडाई में वे देश के हितॉ का बलिदान न दें। यदि कांग्रेस में कोई सद बुद्धि वाला नेता बचा है तो वह इन लोगों को समझाये। देश को वे इस मोड की ओर न ले जायें जहां से वापस आना उनके लिये मुश्किल हो जाये।

जहां तक राहुल गांधी का सवाल है , वे बचकाना बुद्धि के नासमझ युवक हैं। उन्हें न देश के इतिहास की समझ है और न देश की समस्याओं की। देश की जडों तक उनकी पहुंच नहीं है। वे इस देश की सत्ता को केवल अपनी जागीर समझकर अपने प्रबंधकों के हाथ की कठपुतली बन कर बेहूदी हरकते करते रहते हैं। उन्हें यह भी नहीं मालूम की विदेशी राजनयिकों से देश की आंतरिक राजनीति पर कितनी चर्चा करनी चाहिये। उन्हें नहीं मालूम वे देश का कितना नुकसान पहुंचा रहे हैं। शायद देश के नुकसान की उनको परवाह भी नहीं है।

Leave a Reply

19 Comments on "क्या सत्तालोलुप कांग्रेस भारत को एक और विभाजन की ओर ले जाना चाहती है?"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
अभिषेक पुरोहित
Guest

“”””””””””””संघ काम मूलत: खेल व् शारीरिक काम है”””””””””””””

इस बात पर आपको कोई संधेह है??
शायद अपने अखबार से ही संघ को देखा है कभी शाखा आईये सारे के सारे भरम दूर हो जायेंगे ,दूर करना चाहेंगे तो नहीं तो हम सब अपने अपने कुवे में बैठे ये ही सोचते रहते है की समुद्र इतना है उतना है

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'/Dr. Purushottam Meena 'Nirankush'
Guest
आदरणीय श्री पुरोहित जी आपने विस्तार से उत्तर दिया और मुझे किसी भी राजनैतिक दल से सम्बद्ध नहीं माना. इसके लिए आपका कोटि-कोटि धन्यवाद. जहाँ तक आपकी बातों, तर्कों और साक्षों पर टिप्पणी का सवाल है तो वे मेरी राय में उतने ही विश्वसनीय और सही हैं, जितना कि आपका निम्न कथन, जिसकी सच्चाई के बारे में सारा संसार जानता है. “”””””””””””संघ काम मूलत: खेल व् शारीरिक काम है””””””””””””” ऐसे हालत में, मैं अधिक लिखकर प्रवक्ता के वैचारिक धरातल को मेरे कारण कलुषित नहीं होने देना चाहता! आशा करता हूँ कि आपका मार्गदर्शन मिलता रहेगा. एक बार फिर से धन्यवाद!… Read more »
अभिषेक पुरोहित
Guest

अब मै आपको कुछ youtube के लिंक देता हु जरा इंग्लिश में है पर विश्वास है अप समझ जायेंगे
http://www.youtube.com/watch?v=_hxQcWhfYY0&feature=रेलातेद

लाध्द्धक के कार्य इसमे देखे http://www.youtube.com/watch?v=ल्ग़१ज्ञ्ज्को

सुनामी के समय ;http://www.hvk.org/articles/0305/22.हटमल
तमिल में है पर भावना अप समझ ही जायेंगे http://www.youtube.com/watch?v=orgTEQofKfQ
http://www.youtube.com/watch?v=G7BcDFovB4I&feature=रेलातेद
अब सेवा भारती के काम देखिये http://www.sevabharathi.org/
अब एकल विद्यालय द्वरा किये गए सेवा कार्यो के बारे में देखिये
http://www.sanghparivar.org/ekal-vidyalaya-primary-education-for-indias-tribal-rural-पोपले,http://hubpages.com/hub/Charity-and-Community-Service-रस
,http://www.youtube.com/watch?v=-HDmUISu9EA
अब वनवासी कल्याण आश्रम दवरा http://www.youtube.com/watch?v=z4e74IkuMyk&feature=&p=CC982996F8BBA098&index=0&playnext=१
http://www.youtube.com/watch?v=txFTf-GHNtw&playnext=1&list=PLCC982996F8BBA098&index=१
ये चंद उधाहर्ण है अब भी ये आपको नहीं दिखाते है जो इसमे किसका दोष??

अभिषेक पुरोहित
Guest
आपने मेरे स्वयम द्वारा देखे गए कार्य पर टिप्पणी नहीं की,क्यों??मेने कहा शायद पुणे इसका अर्थ ये है की मुझे ठीक से याद नहीं की वो जगह पुणे ही है या कोई और ,ओए ये बात भी है मेने देखा नहीं है सुना है लेकिन जो मेने देखा है उस पर भी आप टिप्पणी कर देते तो उचित रहता चलिए अब आपको थोडा विस्तार से बताता हु |और हा वो जगह पुणे नहीं नागपुर है जरा सुरेश जी का ये लिंक देखे http://blog.sureshchiplunkar.com/2010/10/hindu-female-priest-vhp-rss-social-work.html samajik samarasta ke kary संघ व् परिषद् द्वारा किये गए है जिसमे मेने स्वयं भाग लिया है… Read more »
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'/Dr. Purushottam Meena 'Nirankush'
Guest
आदरणीय श्री पुरोहित जी आपने अपनी टिप्पणी दिनांक : २५.१२.१०, ०९.४२ के शुरू में लिखा है कि- “……..कोई वास्तविक घटनाये पता हो, या किसी नेता के वक्तव्य के बारे में पता हो तो बताइए जिसने हिन्दुवाद के नाम पर ब्राहमणवाद को बढावा दिया हो ……” जबकि आदरणीय श्री पुरोहित जी आपने अपनी इसी टिप्पणी के अंत में सुनी-सुनाई बातों को आधार मानकर विश्व हिन्दू परिषद का गुणगान कर दिया है! कृपया देखें :- “………….ये भी सुनने में आया है की शायद पुणे में विश्व हिन्दू परिषद् हिन्दू माताओ को “पुरोहित” बनाने की ट्रेनिंग दे रही है वो बी बिना जाती… Read more »
wpDiscuz