लेखक परिचय

राजीव पाठक

राजीव पाठक

वर्तमान में पत्रकारिता में शोध छात्र हैं।

Posted On by &filed under समाज.


राजीव पाठक

गुवाहाटी में एक लड़की के साथ जो कुछ हुआ,उसके बारे में हमें मिडिया ने अपनी पूरी जिम्मेदारी के साथ सभी जानकारियां दी | महिला आयोग ने भी अपनी सक्रियता दिखाई | और अंततः जैसा अन्य मामलों में होता है वैसे ही समाज जाग खड़ा हुआ | लगा की अब इसके दोषियों को ऐसी सजा मिलेगी कि देश में इस प्रकार के अपराध को रोकने हेतु एक नजीर होगा | लेकिन मजे की बात देखिये कि इस केस में जिस पुलिस प्रशासन को सबसे गुनाहगार बता दिया गया था, जब उसी ने तहकीकात शुरू की और जब हकीकत सामने आने लगी तो एक ऐसी चुप्पी साधी गई है जिस चुप्पी का मतलब है ‘केस की छानबीन चल रही है’ ऐसा मानकर जगे हुए समाज को पूर्व कि भांति फिर बेवकूफ बना दिया गया | लेकिन हकीकत कुछ और है |

दरअसल टीम अन्न के सदस्य और कृषक मुक्ति संग्राम के अग्रदूत अखिल गोगोई ने इस घटना के प्रकाश में आते हीं यह बयान दिया कि इसके पीछे सरकारी तंत्र से पल रहे गुंडों का ही हाथ है | इस बयान को मौका पर चौका मरने वाला समझ कर लोगों ने भी ज्यादा तबज्जो नहीं दिया और सरकार ने तो पलटवार में इसे गैर जिम्मेदाराना करार दिया | लेकिन संयोग हो या सही जानकारी, अखिल गोगोई की बात अगले ही दिन सच साबित हुआ | जब विडिओ में चेहरे को पहचाना गया उसमें एक स्थानीय न्यूज चैनल का पत्रकार भी था जो उसी पब में दारू पीने आया था |इसी पत्रकार ने सबसे पहले लड़की के साथ छेड़छाड़ शुरू किया |यह कोई और नहीं ‘न्‍यूज लाइव’ चैनल के रिपोर्टर

 

गौरव ज्‍योति हैं, जिन्होंने ही यह दरिंदगी शुरू की ।न्‍यूज लाइव के मालिक हेमंत विश्‍व शर्मा हैं। हेमंत विश्व शर्मा असम के शिक्षा व

 

चिकित्‍सा मंत्री भी हैं। गुवाहाटी के विधायक हैं और काफी दबंग माने जाते हैं | साथ ही पता चला है कि विडिओ में दिख रहा लाल शर्ट

 

वाला कलिता यूथ कांग्रेस

 

से जुड़ा रहा है, नौकरी मिलने के बाद सेवा शर्तों की वजह से उसने यूथ कांग्रेस छोड़ दी थी | लेकिन कलिता का अभी भी कांग्रेस से

 

नजदीकी रिश्ता बताया जाता है |ज्ञात हो कि कलिता ने कांग्रेस नेता हेमंत विश्व शर्मा के लिए चुनाव प्रचार और तमाम तरह के चुनावी

 

प्रबंधन को भी अंजाम दिया है | ये सभी बातें अखिल गोगोई ने मिडिया के सामने भी रखी,और फिर जो लीपा-पोती का खेल शुरू हुआ,

 

उस पर अब राजनीतिक रंग चढ़ गया है | साहब ! राजनीति का रंग तो काला होता है जिसपर यह रंग चढ़ जाय,फिर उसकी पारदर्शिता

 

का अंत हो जाता है | वही हो रहा है इस घटना में उस लड़की को न्याय दिलाने के नाम पर |

 

असम प्रदेश कांग्रेस के नेताओं को जब यह हकीकत पाता लगा कि उस लड़की को नोचने वाले भीड़ में अधिकांश असम

 

यूथ कांग्रेस के मनचले थे,तो आनन-फानन में महिला आयोग के नाम पर दिल्ली से कुछ होशियार औरतों का एक दल फ़ौरन गुवाहाटी

 

भेज दिया गया | महिला आयोग की सदस्या अल्का लाम्बा को यह जिम्मेदारी दी गई कि इस मामले में कांग्रेस,हेमंत विश्व शर्मा और

 

उनके चैनल का नाम न आये ऐसा सफाई वाला काम किया जाय | महिला आयोग के सदस्याओं का गुवाहाटी के हवाई अड्डे पर राज्य

 

महिला आयोग के सदस्याओं ने गर्मजोशी से स्वागत किया जिसका कोई औचित्य नहीं था |लेकिन इसके पीछे गजब की चालाकी थी |

 

स्थानीय मिडिया को क्या बताया जाय और क्या न बताया जाय ये बातें स्वागत के बहाने असम राज्य महिला आयोग के सदस्याओं ने

 

अल्का लाम्बा को बता दिया | योजना तरीके से बनाई गई अतः मामला को गंभीर बताते हुए मिडिया से ज्यादा बात-चीत नहीं की गई |

 

महिला आयोग और राज्य महिला आयोग के सदस्याओं का पीड़ित लड़की से मिलना हुआ | इधर असम कांग्रेस ने एक नया नाटक रचा |

 

अखिल गोगोई के ग्रुप से किसी एक लड़के को समझा-बुझाकर मिडिया के सामने एक बयान में कहलवाया गया कि अखिल गोगोई कृषक

 

मुक्ति संग्राम के नाम पर युवाओं को उग्रवादी संगठनों से जोड़ने का काम करते है | फिर क्या

 

था स्थानीय मिडिया का ध्यान योजना पूर्वक लड़की वाले घटना से हटा दिया गया और नया मुद्दा ये बना कि अखिल गोगोई की

 

सी.बी.आई. जाँच होनी चाहिए | महिला आयोग कांग्रेस आलाकमान के मुताबिक अपना कार्य कर दिल्ली वापस आ गई | लड़की के घर

 

वालों को कांग्रेस का संरक्षण मिलेगा ऐसा आश्वासन दिया गया | केस चलता रहेगा, लड़की को कोर्ट में जाते रहना है | ‘उसने किसी को

 

नहीं पहचाना’ ऐसा बयान देना है | ये सब बातें तय की जा चुकी है | लेकिन एक उम्मीद न्यायलय से है जो पीड़ित के साथ हुए राजनीति

 

को भी समझ सकता है और गुनाहगारों को जल्द से जल्द और सख्त सजा सुना सकता है ताकि फिर से कोई ऐसी हरकत न करे और

 

हरकत करने वाले को राजनीतिक संरक्षण न मिले |

 

अब इस पूरे मामले पर गंभीरता से विचार करिए | दर्जन भर सवाल आपके माथे में भी उपज रहा होगा | लेकिन यकीन मानिये

यही राजनीति का असली रंग है | जिसके चढ़ने पर पारदर्शिता का अंत हो जाता है | राजनीति का रंग मेरे समझ से काला है

Leave a Reply

6 Comments on "क्या हुआ बाद में गुवाहाटी के उस लड़की के साथ !"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
शिवेंद्र मोहन सिंह
Guest
शिवेंद्र मोहन सिंह

वाह रे राजनीति? इसलिए ही ढंग के लोग इससे दूर ही रहते हैं. और बेढंगे लोगों को वोट देते रहते हैं और लुटते रहते हैं. हाथी के दांत खाने के और दिखने के और.

श्रीराम तिवारी
Guest
राजीव जी और अनिल जी से निवेदन है कि विषयान्तर्गत मेरी पूर्व की टिप्पणी का कांग्रेस के समर्थन या भाजपा के विरोध से कोई सरोकार नहीं है. मेरा मंतव्य यह है कि सामंती शोषण और व्यभिचार के विषाणु वर्तमान दौर के पूंजीवाद और खास तौर से नव-धनाड्य वर्ग के नौनिहालों[टीन एज़र्स] के मस्तिष्क में कुलबुला रहे हैं.यह साफ़ तौर पर मानवीय मूल्यों का पराभव और बाज़ार की अपावन ताकतों के अनैतिक अमानवीय विचलन की पराकाष्ठा है.जब तक व्यवस्था परिवरतन नहीं होगा ये असम जैसी घटनाएं होती रहेंगी. इसका कांग्रेस ,भाजपा और तमाम पूंजीवादी पार्टियों घटिया प्रचार कर राजनैतिक लाभ लेने… Read more »
राजीव पाठक
Guest

आदरणीय श्रीराम तिवारी जी आपको जो पूर्वाग्रह युक्त लग रहा है, वास्तव में वह भय मुक्त कहने की हिम्मत है | जुटाइए यह हिम्मत | कोई और भी किया होता तो भी हकीकत को ही मैं सामने रखता | बंकि आपका एक विचार अच्छा लगा ” राजनीति तो कोरा कागज है उसमें कौनसा रंग किसे भरना है यह देश काल और परिस्थितियाँ तय करती हैं |” तिवारी जी गुवाहाटी की परिस्थिति को आप कैसे देखते हो वो तो आपही जाने |

Anil Gupta
Guest
भाई श्रीराम तिवारी जी को इस बात पर आपत्ति है की इस आलेख में कांग्रेसियों का नाम क्यों लिखा. लेकिन क्या कोई ये बताएगा की पिछले कुछ वर्षों के अधिकतर मामलों में, तंदूर कांड से लेकर जेसिका लाल,और अमेठी का सुकन्या गेंग रेप और सुकन्या के परिवार सहित गायब होने के मामले में कांग्रसी ही क्यों संलिप्त पाए जाते हैं. भाजपाई तो केवल एस एम् एस से ही काम चला लेते हैं.आखिर महात्मा गाँधी ने स्वयं अपनी आत्म कहा में लिखा है की ६९ की उम्र में दिन में यात्रा करते समय उनका स्खलन हो गया था. एन डी तिवारी… Read more »
श्रीराम तिवारी
Guest
इस शर्मनाक घटना पर इस तरह के एक पक्षीय पूर्वाग्रह युक्त आलेख जरुर कालिमा दर्शाते हैं ,राजनीति में काला रंग भरने में इस तरह के विचार उत्प्रेरक का काम करते हैं. दरसल राजनीति तो कोरा कागज है उसमें कौनसा रंग किसे भरना है यह देश काल और परिस्थितियाँ तय करती हैं. असम में जी घटित हुआ वह देश और दुनिया के हर राष्ट्र में प्रकारांतर से नित्य घटित हो रहा है.यह सामंत युग में सिर्फ भूस्वामियों ,जमीदारों और राजे रजवाड़ों के द्वारा होता था,अब पूंजीवाद ने इसका विस्तार कर दिया है अब इसमें बाजारबाद की नाजायज नव धनाड्य ओलादें- टीन… Read more »
wpDiscuz