लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under राजनीति.


राहुल जी यह जनता है सब जानती है, अलीगढ की चुनावी महा पंचायत को जहाँ मायावती ने फ्लाप बताया वहीँ जनता  की अपनी अलग .अलग राय है,कुछ लोगों का कहना है  की किसानो का शोषण आज से नहीं हो रहा है इस से पहले भी बार ग्रेटर नॉएडा में किसानो पर लाठियां बरसी है , गोलियां चली है परन्तु आज तक कभी राहुल गाँधी  को किसानो की सुध नहीं आई , आज अचानज़ जब उत्तर प्रदेश का चुनाव नजदीज़ आया तो किसानो के  अधिकार, सम्मान और न्याय दिलाने के लिए एसी में सोने वाले गाड़ियों में चलने वाले पैदल सड़ज़ पर उतर आये, राहुल ने भले ही पदयात्रा की और ज़्हा भी मैंने किसानो को समझा है परन्तु उनेह शायद यह नहीं पता आज भी उत्तर प्रदेश में किसान आत्महत्या कर रहें है क्यूँ ? क्यूंकी ज़मीनी हज़ीक़त यह है  की कुछ किसान ऐसे है जिनके पास हर साल उगने के लिए या खेती में लगाने के लिए पैसा ही नहीं होता है.  उन्हें रोज़गार नहीं है, वह चाहते है  की अपनी इसी ज़मीन  को बेच कर कोई व्यापार शुरू करें ,अपना जीवन जी सके इन सबका जिम्मेदार ज़ौन है ? राहुल ने महंगाई पर पूछे गए सवालों का ज़वाब क्यूँ नहीं दिया?
जबिज़ ज़ेद्र सरज़र ज़्े द्वारा खुद आदिवासियों ज़ी ज़मीनों पर ज़बरदस्ती ज़्ब्ज़ा िज़्या जा रहा है. उनज़ी ज़मीनों ज़्ो खनन ज़ ज़र्य ज़्रने वाली बड़ी .बड़ी ज़्म्पनियों ज़्ो दिया जा रहा है. ज़ोल इंडिया एज़ मायि ज़ी तरह ज़म ज़्र रही है जिसे ज़ोल मंत्रालय ज़ भरपूर सहयोग है .
गरीब आदिवासियों ज़्ो पैसे ज़्े नाम पर ज़ुछ भी नहीं मिल रहा हैण उड़ीसा से ज़ौन नहीं वाजि़ है आज भी वह पर बच्चे और महिलाएं भूमि अधिग्रहण ज़्े खिला धरने पर बैठे हैं, अगर विज़स ज़ी बात ज़्रें तो आज भी ज़ी ऐसे आदिवासी जिले हैं जहाँ पर लोग ज़ी िज़्लोमीटर पैदल चल ज़्र एज़ िज़्लो चावल हासिल ज़्र पाते हैं.
भले ही राजा और ज़्लमाड़ी जैसे लोगों ने सी बी आई ज़्े नाज़ ज़्े निचे सरज़र ज़्े हजारों ज़्रोडो डज़र लिएए और िज़्सी ज़्ो भनज़ नहीं लगीए पता जब चला जब चिड़िया चुग गई खेत. स्विस बैंज़ ज़्े मामले पर सरज़र क्यूँ चुप है?
राहुल गाँधी ज़्े िज़्तने वादों पर अमल िज़्या गया हैं ? और इस बात ज़ी क्या गारंटी ज़ी आज राहुल जो ज़ुछ वादा जनता से ज़्र रहे हैं सरज़र उस पर अमल ज़्रेगी ज़ेद्र सरज़र ज़्े ज़ुछ चट्टू महज़्में में भी चुनावी रंग में रंग ज़्र ज़र्य ज़्रते है, उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीज़ आते ही मानव अधिज़र आयोग भी सित्र्कय हो गया आज ज़्ल   टा   ट आयोग से उत्तर प्रदेश सरज़र ज़्ो नोटिस आ रहा है जबिज़ अभी 2010 में ज़ी ऐसे मामले हुए जिसमें आयोग ज़्ो दखल देना चाहिए था परन्तु उन्होंने नहीं दिया क्यूँ ज़ी बालाज़्ृष्णन साहब ज़्ो यह पद ज़ेद्र ज़ी मेहरबानी से मिला है.
मुरादाबाद में एज़ दलित महिला ज़्े गुप्तांग में पुलिस वालों ने मिर्ची डाल ज़्र उसे इतना मारा ज़ी अधमरा ज़्र दिया. अमर उजाला ज़्े पत्रज़र ज़्े बीच में आने ज़्े बाद उसे छोड़ा गया परन्तु आज भी वह महिला न्याय पाने ज़ी राह देख रही है ज़ी उन बहसी पुलिस वालों ज़्ो ज़्ब सजा मिलेगी.
जनता ज़्ो ऐसा प्रतीत होता है ज़ी राहुल गाँधी ज़्ो माज़ेर्टिंग गुरु ज़ी तरह ज़ोग्रेस ने उतारा है लेजि़्न आज ज़ी जनता 63 साल पहले ज़ी नहीं बिल्ज़ बाद ज़ी है वह सब जान चुज़ी है ए जनता देख रही है ज़ी ज़ोग्रेस सरज़र जन लोज़्पाल बिल पास ज़्रने ज़्े लिए िज़्तनी इच्छाशक्ति दिखा रही है.
आज तज़ राहुल ने ज़्भी भी जन लोज़्पाल बिल पर क्यूँ नहीं अपने विचार ब्यक्त िज़्येघ इस लिए ज़ी उनज़्ो इससे दूर रहने ज़्ो ज़्हा गया है ज़ी यह एज़ ऐसा अन्ना रूपी परमाणु बम है ज़ी इसज़्े सल प्रयोग ज़्े बाद जनता अमेरिज़ से भी ज्यादा ताक़तवर हो जायेगीए इसलिए इसमें ऐसे ही नौटंज़ी ज़्रने दो ज़्पिल सिब्बल ज़्ो इसी तरह शायद ज़ोई बचाओ ज़ रास्ता निज़्ल जाए
इसीलिए यह जानना ज़रूरी हो गया था ज़ी आखिर भट्टा परसौल ही क्यूँ ?
जो लोग राहुल ज़्े ज़म ज़्ो चुनावी नौटंज़ी बताते हैं मैं उनेह बताना चाहता हूँ ज़ी जब इस नौटंज़ी ज़्े सभी िज़्रदार ही सियासत दां हैं तो नौटंज़ी चुनावी क्यूँ नहीं होगी.

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz