लेखक परिचय

सिद्धार्थ शंकर गौतम

सिद्धार्थ शंकर गौतम

ललितपुर(उत्तरप्रदेश) में जन्‍मे सिद्धार्थजी ने स्कूली शिक्षा जामनगर (गुजरात) से प्राप्त की, ज़िन्दगी क्या है इसे पुणे (महाराष्ट्र) में जाना और जीना इंदौर/उज्जैन (मध्यप्रदेश) में सीखा। पढ़ाई-लिखाई से उन्‍हें छुटकारा मिला तो घुमक्कड़ी जीवन व्यतीत कर भारत को करीब से देखा। वर्तमान में उनका केन्‍द्र भोपाल (मध्यप्रदेश) है। पेशे से पत्रकार हैं, सो अपने आसपास जो भी घटित महसूसते हैं उसे कागज़ की कतरनों पर लेखन के माध्यम से उड़ेल देते हैं। राजनीति पसंदीदा विषय है किन्तु जब समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का भान होता है तो सामाजिक विषयों पर भी जमकर लिखते हैं। वर्तमान में दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर, हरिभूमि, पत्रिका, नवभारत, राज एक्सप्रेस, प्रदेश टुडे, राष्ट्रीय सहारा, जनसंदेश टाइम्स, डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट, सन्मार्ग, दैनिक दबंग दुनिया, स्वदेश, आचरण (सभी समाचार पत्र), हमसमवेत, एक्सप्रेस न्यूज़ (हिंदी भाषी न्यूज़ एजेंसी) सहित कई वेबसाइटों के लिए लेखन कार्य कर रहे हैं और आज भी उन्‍हें अपनी लेखनी में धार का इंतज़ार है।

Posted On by &filed under राजनीति.


सिद्धार्थ शंकर गौतम

आम चुनाव में भले ही अभी पर्याप्त समय बचा हो किन्तु देश के भावी प्रधानमंत्री हेतु दर्जन भर नाम राजनीतिक हलकों में तैर रहे हैं। कांग्रेस नीत संप्रग सरकार के दूसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की जिस बेरहमी से छीछालेदर हुई है उससे इतना तो तय है कि आगामी लोकसभा चुनाव के बाद यदि कांग्रेस सत्तासीन होती है (जिसकी संभावना हालांकि कम ही है) तो भी मनमोहन सिंह का राजनीतिक पुनर्वास सेवानिवृति की राह को प्रशस्त करेगा। वैसे कांग्रेस की ही बात करें तो पी चिदंबरम को हाल ही में मशहूर पत्रिका दी इकानोमिस्ट ने संभावित प्रधानमंत्री का तमका दे दिया है। फिर कांग्रेस के ही बड़े चेहरों में सुशील कुमार शिंदे की किस्मत भी चमक सकती है। हां इससे इतर राजनीति की थोड़ी बहुत समझ रहने वाला भी यह समझता है कि राहुल गांधी को संभावित प्रधानमंत्री के रूप में नकारने का साहस न तो चिदंबरम में है न ही शिंदे में। खैर कांग्रेस की एकल पारिवारिक राजनीति के बारे में आम जनता को कुछ बताने-समझाने की आवश्यकता नहीं है। देश के दूसरे सबसे बड़े राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी में जरूर प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षा रखने वालों की कमी नहीं है। नरेन्द्र मोदी की दावेदारी पर पूर्व में ही काफी बखेड़ा हुआ है जिसका खामियाजा भी पार्टी को उठाना पड़ा है। मोदी पर २००२ के गोधरा दंगों का दाग इतना गहरा हो चुका है कि उनकी संभावित प्रधानमंत्री पद की दावेदारी पर भविष्य में पार्टी भले ही एकजुट हो जाए किन्तु उसके अन्य सहयोगी दल मोदी को कटाई स्वीकार नहीं करेंगे। नीतीश कुमार का नाम इस फेहरिस्त में सबसे आगे रखा जा सकता है। इस माह होने जा रहे गुजरात विधानसभा चुनाव में भी मुख्यमंत्री कौन से अधिक भावी प्रधानमंत्री कौन की चर्चा हो रही है। फिर दोनों दलों से इतर भी कई क्षेत्रीय क्षत्रप खुद को दिल्ली की सत्ता का दावेदार बनाने की जुगत में हैं। चाहे मायावती हों या शरद पवार; सभी का एकमेव लक्ष्य प्रधानमंत्री की कुर्सी ही है। हां; क्षेत्रीय क्षत्रपों की इस सूची में मुलायम सिंह का नाम न लेना अपरिपक्वता ही है। हाल ही में कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता नारायण दत्त तिवारी ने अपने लखनऊ प्रवास के दौरान मुलायम सिंह को आशीर्वाद देते हुए कहा कि वे देश संभालें और बेटे अखिलेश को सूबे की जिम्मेदारी उठाने दें। यूं भी मुलायम की राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं का अंतिम निचोड़ है प्रधानमंत्री पद। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंद्र कुमार गुजराल की प्रधानमंत्री पद पर ताजपोशी मुलायम सिंह को नकारते हुए हुई थी। इससे पहले भी मुलायम का नाम प्रधानमंत्री पद के दावेदारों में प्रमुखता से लिया जाता रहा है। राजनीति के धरतीपकड़ राजनेता की छवि में राम चुके मुलायम भी दिल में प्रधानमंत्री पद की आस रखते हैं जिसे उन्होंने कभी नकारा भी नहीं है। उनकी दावेदारी अन्य क्षेत्रीय क्षत्रप से कहीं अधिक मजबूत मानी जा रही है और वर्तमान राजनीतिक गठबंधन के दौर में यह असंभव भी नहीं है। कुल मिलकर तमाम राजनीतिक कयासबाजियों को झुठलाते हुए २०१४ में कांग्रेस से राहुल, भाजपा से मोदी और संभावित तीसरे मोर्चे से मुलायम की दावेदारी पर किसी को संशय नहीं होना चाहिए। और यदि जनादेश खंडित आता है या संभावित तीसरे मोर्चे को अपेक्षाकृत अधिक सीटें प्राप्त होती हैं तो मुलायम की उड़ान कोई नहीं रोक सकता। पर मेरा सवाल यहां यह है कि यदि मोदी सांप्रदायिक हैं और तमाम राजनीतिक दल सांप्रदायिक ताकतों को रोकने हेतु कांग्रेस के साथ हो सकते हैं तो मुलायम को क्यों नहीं सांप्रदायिक कहा जाता और क्यों उनके विरोध में कांग्रेस या अन्य दल नहीं उतरते?

 

दरअसल मोदी और मुलायम में कई समानताएं हैं जो इन्हें राजनीति में काफी हद तक विवादित व्यक्तित्व बनाती हैं। मोदी के सर पर यदि मुस्लिमों के कत्ले आम का आरोप लगाया जाता है तो १९९०-९१ में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर फैजाबाद में कारसेवकों और हिन्दुओं पर गोली चलवाने वाले मुलायम पर क्यों नहीं सांप्रदायिकता का तमगा नहीं लगता? चूंकि मुलायम की राजनीति मुस्लिम-यादव गठजोड़ पर टिकी है और ये दोनों ही जातियां अल्पसंख्यकों की श्रेणी में आती हैं लिहाजा यदि वे बहुसंख्यक हिन्दुओं पर गोलियां चलवाते भी हैं तो उनके सौ खून माफ़ और यही मोदी अगर कथित रूप से मुस्लिमों का नरसंहार करवाते हैं तो वे खूनी, धरती पर बोझ। मोदी हों या मुलायम; दोनों की राजनीति साम्प्रदायिता की रोटियां सेंकने से चलती है। मोदी को हिन्दुओं का समर्थन प्राप्त है तो मुलायम को मुस्लिम समुदाय अपना रहनुमा मानता है। दोनों यह बात अच्छी तरह जानते भी हैं और उन्हें अनुमान भी है कि उनकी भविष्य की राजनीति का दम-ख़म भी यही वर्ग है। उत्तरप्रदेश की सपा सरकार के ६ माह के कार्यकाल में सूबे में ९ छोटे-बड़े सांप्रदायिक दंगे हो चुके हैं जिनमें हिन्दुओं को निशाना बनाया गया है वहीं २००२ के बाद से अब तक गुजरात में एक भी बड़ा सांप्रदायिक दंगा नहीं हुआ। यह साबित करता है कि मोदी और मुलायम में से कौन अधिक सांप्रदायिक है? फिर दोनों के ही औद्योगिक घरानों से निकटतम संबंध हैं। मोदी को जहां टाटा, गोदरेज, अडानी समूह का साथ मिला है तो मुलायम के पास भी सहारा, अंबानी जैसे कद्दावर समूह हैं। यानी आर्थिक पक्ष से दोनों ही काफी मजबूत हैं। दोनों की राजनीतिक सूझ-बूझ अद्भुत है और मुलायम का तो राजनीतिक समझौते करने में कोई सानी नहीं है। ऐसे में जब कोई सवाल उठाता है कि मोदी को प्रधानमंत्री आखिर क्यों बनना चाहिए जबकि उनपर तो गोधरा दंगे के दाग हैं; मैं पूछता हूं कि क्या जनता मुलायम सिंह जैसे मुस्लिम परस्त को भी देश का भावी प्रधानमंत्री पद पर देखना पसंद करेगी? यदि सांप्रदायिक होने से मोदी प्रधानमंत्री नहीं बन सकते तो मुलायम कौन से दूध के धुले हैं? उन्हें क्यों कांग्रेस इतना आश्रय दे रही है कि उनकी हसरतें कुलांचें मारने लगी हैं। मुख्य मसला भावी प्रधानमंत्री का नहीं बल्कि देश की अस्मिता का है जिसे किसी भी हाल में नकारा नहीं जा सकता।

Leave a Reply

4 Comments on "मोदी प्रधानमंत्री नहीं तो मुलायम आखिर क्यों?"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
AMIT
Guest

sir ji AMBANI BHAI MUKESH ANIL GUJRAT ME 30000 KAROD KA NIVESH KARNE JA RAHE HAI ,,, MULAYAM KI AMBANI SE ITANI PAHCHAN HAI TO WAHI NIVESH UP ME KYO NHI LATE HAI

इक़बाल हिंदुस्तानी
Guest

desh ka p m koee secular hi bn skta hai aur mulayam secular mane jate hain. modi aur congress ke raj me hue dngo me musalman ye frq krta hai ke modi ne dnge kraye the jbki congress ke raj me sngh privar pr dnge krne ka aarop lgta rha hai.

yamunashankarpanday
Guest
इन राजनीतिज्ञों ने देश को एक निम्बू बनाकर छोड़ दिया है , जैसे जिसकी आवस्यकता हुई निचोड़ा अपना कार्य साधा और चल दिया ! एक प्रकार से भारत की जनता इनके बाप की नौकरी का कार्य करती है ! भारत की जनता पहले से ही pt जवाहर लाल के वंशजों से पीड़ित है ,उसके बाद तो वश परंपरा का एक शिलशिला ही चल पड़ा है जो हमें राजतन्त्र की और ले जा रहा है !चौधरी चरण सिंह के पुत्र का पुत्र , मुलायम के पुत्र की पत्नी पश्चात् उसका पुत्र यादव कुल ,,,? यानि की देश ध्वजा वाहक कुछ नामचीन… Read more »
Anil Gupta
Guest
सिद्धार्थ जी इस देश में हिन्दुओं के कत्लेआम को कोई साम्प्रदायिकता नहीं मानता है. और जनता, जो अधिसंख्यक हिन्दू ही है, भी इस बारे में जडवत व्यव्हार करती है.उत्तर प्रदेश के पिछले दो विधान सभा चुनावों का अगर विश्लेषण करें तो एक बात स्पष्ट हो जाती है की हिन्दू अपनी आदत के अनुरूप बंट कर और कम संख्या में वोट डालते हैं जबकि मुस्लिम अधिक संख्या में और राजनीतिक गुना भाग करके वोट करते हैं. पिछली बार २००७ में मुलायम सिंह सत्ता में थे और एंटी इनकम्बेंसी फेक्टर के चलते माहौल उनके खिलाफ था लेकिन आम लोगों में ये धारणा… Read more »
wpDiscuz