लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under समाज.


sanskritभारत के विभिन्न प्रान्तों में विद्यालयों में भाषा सम्बद्ध नीति समान नहीं है। कहीं दो भाषाएँ पढ़ाई जाती है तो कहीं तीन। उनमें जो एक भाषा सब प्रान्तों में अनिवार्य रूप में पढ़ाई जाती है वह अंग्रेजी है। अधिकांश पढ़े लिखे लोगों के 62 वर्षों के अथक प्रयत्नों के पश्चात् भी हमारे देश के 10 प्रतिशत लोग अंग्रेजी समझ पाते हैं और 1 प्रतिशत बोल पाते हैं। 100 प्रतिशत भारतीयों की मातृभाषा कोई न कोई भारतीय भाषा है, जिनकी जननी संस्कृत है। यदि संस्कृत को सभी प्रान्तों में अध्ययन के लिए अनिवार्य भाषा बनाया होता और अंग्रेजी इतना परिश्रम संस्कृत सीखने पर किया होता तो भारत के सभी लोग आपस में जुड़ जाते और क्षेत्रीय भाषाओं को समझ पाते। बिना संस्कृत जाने आप भारतीय भाषाओं का पूरी तरह से आस्वाद नहीं उठा सकते। उदाहरण के रुप में ‘वन्दे मातरम्’ इस गान को लिया जाए। इसमें मूल बांग्ला शब्दों की तुलना में संस्कृत शब्द अधिक हैं। इस कारण अधिकतर जनता ‘वन्दे मातरम्’ को संस्कृत गीत मानती है। ‘जन-मन-गण’ इस गीत की स्थिति भी ऐसी ही है। क्या बिना संस्कृत जाने राष्ट्रगानों का अर्थ समझ में आ जायेगा?

भारत की सभी भाषाओं पर अंग्रेजी, फारसी, अरबी इत्यादि विदेशी भाषाओं का आक्रमण जारी है। वार्तापत्र, दूरदर्शन एवं दैनिक व्यवहार में मिली जुली भाषा का प्रयोग बढ़ता जा रहा है। ऐसी ही स्थिति रही तो भारत की किसी भी भाषा को शुद्ध बोलना अधिकांश लोगों के लिए असंभव हो जायेगा। इस संकट का एक कारण है मण्डी में आनेवाली विविध नूतन वस्तुओं के लिए नामों का भारतीय आविष्कार उपलब्ध न होना। इस कार्य को संस्कृत भाषा माध्यम से निश्चित पूरा किया जा सकता है। 1700 धातु 22 उपसर्ग और 20 प्रत्ययों के आधार पर संस्कृत में अनगिनत शब्दों का सृजन किया जा सकता है और भारतीय भाषाओं को बचाया जा सकता है। वर्तमान में 27 लाख 20 हजार शब्द संस्कृत भाषा में प्रयुक्त होते हैं। वें अर्थवाही हैं। उदाहरण के लिए हृदय शब्द को लीजिए। इसमें प्रथम धातु है हृ याने हरण करना, दूसरा है दा याने देना और तीसरा है य याने घुमाना। यह तीनों कार्य हृदय करता है।

संस्कृत भारत को जोड़ती है। यदि कोई व्यक्ति भारतभ्रमण पर निकलता है और दक्षिण भारत पहुँच जाता है तो उसे सामान्य शब्दों जैसे- पानी, खाना इत्यादि के प्रयोग की आवश्यकता पड़ती है। किन्तु दक्षिण भारत में पानी, खाना इन शब्दों को अल्प लोग ही समझ पाते हैं। उनकी अपनी भाषाओं में पानी के लिए तन्नी, वेल्लम्, नीरू जैसे शब्द हैं। किन्तु यदि आपने संस्कृत शब्द- जल, भोजन इत्यादि का प्रयोग किया तो सभी इन्हें समझ जायेंगे और आपको भूखे, प्यासे रहने की नौबत नहीं आयेगी। झारखण्ड के अधिक लोग अस्वस्थ हो जाने पर वेल्लोर का रूख करते हैं। उन्हें यह अनुभव निश्चित रूप से आता होगा। पूरा भारत अधिकांश संस्कृत शब्दों को समझता है, जैसे- चित्रम्, फलम्, चायपानम्, मधुरम् इत्यादि।

संस्कृत को बोलने के कारण सभी भारतीयों के मन में यह भाव अवश्य क्रौंधता है कि सभी भारतीय भाषाएँ संस्कृतोत्मव है। सभी भाषाओं में लगभग समान भावों की अभिव्यक्ति है। अत: तमिल् और कन्नड, कन्नड और मराठी, असमिया और बांग्ला ऐसे संघर्ष नहीं होते। भारत की एकात्मता दृढ़ होती।

भाषा केवल अभिव्यक्ति का माध्यम मात्रा नहीं है। वह संस्कारों की वाहक है। महाराष्ट्र में गुलाम दस्तगीर बिरासदार नाम के एक मुसलमान सज्जन है। धाराप्रवाह संस्कृत बोलते हैं तथा भाषण करते हैं। राज्य सरकार के द्वारा नियुक्त संस्कृत के प्रचारक हैं। सज्जन, सरल, नम्र और देशभक्त हैं। इसका कारण घर के संस्कार नहीं तो संस्कृत भाषा के संस्कार हैं। क्या संस्कृत बोलनेवाला व्यक्ति गाली दे सकता है? कभी नहीं।

इंग्लैंड देश में St. James School इस संस्था के तत्वावधान में कई विद्यालय चलते हैं। आश्चर्य यह है कि इस संस्थान के विद्यालयों में 6 वर्ष तक संस्कृत भाषा अनिवार्य रूप में पढ़ाई जाती है। उन विद्यालयों में पढ़ने और पढ़ानेवाले दोनों गोरे लोग हैं। उन्हें यह पूछने पर कि यहाँ संस्कृत क्यों पढ़ाई जाती है, वे कहते हैं –

1) Sanskrit stands at the root of very many eastern and western languages, including English and most other European languages, Classical or modern. Its study illuminates their grammer and etymology.

2) Innumerable English words can be shown to desire from forms still extant in Sanskrit.

3) Sanskrit literature embodies a comprehensive map of the human makeup, spiritual, emotional mental and physical. It presents a new way of understanding our relation to the rest of creation and lays out the laws productive of a happy life.

4) The word ‘Sanskrit’ means ‘Perfectly Constructed’. Study of its grammar brings order to the mind and clarifies the thinking.

आजकल बाबा रामदेवजी के कारण भारत के अधिकांश नागरिक यह जान गये हैं कि कपालभाती और भ्रामरी प्राणायाम का स्वास्थ्य पर कैसा अनुकूल प्रभाव पड़ता है। संस्कृत भाषा बोलते समय अधिक बार अ: इस स्वर का उपयोग करना पड़ता है। अ: का उच्चारण करते ही पेट की हवा बाहर छोड़नी पड़ती है और बिना किसी प्रयास के कपालभाती प्राणायाम हो जाता है। अं इस स्वर के उच्चारण में ‘मकार’ का उच्चारण सम्मिलित है। भ्रामरी प्राणायाम में मकार का ही उच्चारण होता है। अत: विद्यालयं, जीवनं, क्षेत्रं इत्यादि शब्दों के सतत उच्चारण से अनायास भ्रामरी प्राणायाम होता रहता है।

ऐसी ज्ञान, विज्ञान, कला जैसे समस्त शास्त्रों को अभिव्यक्त करनेवाली इस वैश्विक, संस्कारदायिनी और सटीक भाषा को क्या हमें भुला देना चाहिए? या उस संस्कृत माता के अमृतरूपी दूध को प्राशन कर सुसंस्कारित, सम्पन्न, विश्वकल्याणकारी समाज का निर्माण करना चाहिए?

जयतु संस्कृतम्! जयतु भारतम्!

-श्रीश देवपुजारी

अ.भा. मन्त्री

संस्कृत भारती

Leave a Reply

18 Comments on "विद्यालयों में संस्कृत क्‍यों पढ़ानी चाहिए"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
डॉ. मधुसूदन
Guest
==अंगेज़ी पर संस्कृत प्रभाव के== अनगिनत उदाहरण मुझे मिले हैं। मैं स्ट्रुक्चरल इंजिनियरिंग का विशेषज्ञ हूं। और उसकी पारिभाषिक शब्दावली पर काम कर रहा हूं। आपके अवलोकन के लिए एक सूचि प्रस्तुत हैं। हर उदाहरण में, “कृ” धातु का ही “क्रि” अपभ्रंशित रूप है। हर शब्दमें कुछ करने का ही भाव है, जो कृ का वास्तविक अर्थ है। Creation, एक इश्वरकी “कृति” के अर्थमें, accreditation किसी कार्यका सत्यापन, concrete= एक ठोस निर्माण अर्थात “कृति” के अर्थमें crest= एक शिखर, चोटी, शीर्ष की कृति या प्राकृतिक निर्माण इस अर्थमें, decrement= घटानेकी क्रिया, discretion=विवेक पूर्ण निर्णय लेनेकी क्रिया, procreate= जन्म देना, उत्पन्न… Read more »
Antoinette
Guest

Ivan

डॉ. मधुसूदन
Guest
(१)जितनी सरलतासे और गतिसे, यह टिप्पणीयां देवनागरी लिपि और संस्कृतजन्य शब्दावलिका प्रयोग करते हुए,और जितनी न्य़ूनतम जगहमे लिखी जा रही है, उन्ही विचारोंको यदि अंग्रेजीमे लिखा जाय, तो निश्चितहि कमसे कम देढ गुना, और शायद दो गुना समय, और जगह लग सकती है। (२) संसारमे १८ भाषापरिवार प्रमुख है। सभीसे सर्वाधिक समृद्ध भारत-यूरोपीय परिवार समझा जाता है।इस परिवारकी अतुलनीय और समृद्ध भाषा है, संस्कृत।जिसके धातुओंका,प्रत्ययोंका, उपसर्गोंका सिंचन सारी परिवारकी भाषाओंमें हुआ है।संस्कृत शब्दोमें, विचार शीघ्रतासे,समुचित रूपसे, और संक्षेपमे, व्यक्त करनेकी क्षमता और उतनीहि सक्षम हमारी देवनागरी लिपिभी है। यह दुगुना लाभ है। (३)संसारमे तीन प्रकारकी लिपियां: चित्रलिपि, भावलिपि और ध्वनिलिपि… Read more »
sunil patel
Guest
यह सिद्ध है की संस्कृत एक उच्च स्तरीय भाषा है. संस्कृत के बारे कहना सूरज को दिया दिखाना है. संस्कृत दुनिया मैं एकमार्त्र सम्पूर्ण भाषा है. संस्कृत स्कूल में सिखाई जाती है. यह केवल पास होने के लिए सीखी जाती है. बच्चा उतना हे सीखता है और तब तक हे सीखता है जब तक स्कूल के पाठ्यक्रम में होती है. कुछ चुनिन्दा बड़े सहरो में ही संस्कृत स्कूल होते है. मैं संस्कृत सीखना चाहता हु तो इन्टरनेट पर कहीं भी फ्री मुफ्त मैं संस्कृत सिखाने वाले ऑनलाइन संसथान नहीं है. हां बहुत सी वेबसाइट संस्कृत सिखाती है पर वो कनाडा,… Read more »
समन्‍वय नंद
Guest
देवपुजारी जी द्वारा लिखित लेख काफी अच्छा है । संस्कृत भाषा के उत्थान के लिए कार्य करने वाले श्री देवपुजारी जी को सर्वप्रथम उनका धन्यवाद करना चाहता हूं । कुछ लोग भारत में ही संस्कृत का विरोध क्यों करते हैं । संस्कृत भारत का आधार है । बिना संस्कृत के भारतीय सभ्यता व संस्कृति की कल्पना नहीं की जा सकती । अगर किसी को भारत को जानना है तो निश्चित रुप से उसे संस्कृत जानना होगा । अंग्रेजी से भारत को नहीं जाना जा सकता । अंग्रेजी में अनुवादित ग्रंथों से भारत को जानना संभव नहीं है ये तो सभी… Read more »
wpDiscuz