लेखक परिचय

प्रवीण गुगनानी

प्रवीण गुगनानी

प्रवीण गुगनानी, दैनिक समाचार पत्र दैनिक मत के प्रधान संपादक, कविता के क्षेत्र में प्रयोगधर्मी लेखन व नियमित स्तंभ लेखन.

Posted On by &filed under कविता.


प्रवीण गुगनानी

मेरा रोम रोम

ही तो कह रहा था

तुम्हीं ने नहीं सुना.

न सुना और न महसूसा

कि

कहीं कुछ घट रहा है पल प्रति पल

दिन प्रति दिन

हर समय हर कहीं

और जो घट रहा है

उसे नहीं देखा जा सकता

सीधी नंगी आँखों से.

उसे तो देखना होगा कहीं

प्रतिबिम्बों में जो मिट गए हैं उभरने के पूर्व ही.

नासूर से शब्दों में

पीड़ा नहीं हो रही थी.

शब्दों को दर्द का संभवतः रूपांतरण करते आ गया था

आ गया था उन्हें वह सभी कुछ कहते

जिसे कहने को शब्द न पूरे पड़ते थे

न ही अर्थों को उठाना पड़ता था

भावार्थों का कुछ अतिरिक्त बोझ.

व्याकरणों की सीमाओं में

और उनके अनुशासनों में भला मैं कैसे रहता?

फिर तुम्हीं कहो जो तुमने सोचा वो मैं कैसे कहता?

कहता तो क्यों?

और गाया तो क्यों नहीं?

बेरंगे से गीतों का मैंने

क्यों नहीं किया शृंगार?

शब्दों पर क्यों नहीं उगाए पुष्पों के पौधे?

पता नहीं! पता करनें की चाहत भी नहीं!! 

Leave a Reply

1 Comment on "शब्दों पर क्यों नहीं उगाए पुष्पों के पौधे?"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Vijay Nikore
Guest

प्रवीण जी, कविता अच्छी लगी । बधाई ।
आपसे संपर्क के लिए आपका इ-मेल पता क्या है ?
विजय निकोर

wpDiscuz