लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under राजनीति.


INDIA-POLITICS-PARLIAMENT-VOTEमनमोहन सिंह लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। वे कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार का नेतृत्व करेंगे। हालांकि, मंत्रालयों के बंटवारे को लेकर संप्रग में मनमुटाव की खबर आ रही है।संप्रग गठबंधन के प्रमुख दल डीएमके मतभेद के कारण सरकार में शामिल न होकर उसे बाहर से समर्थन देने का फैसला किया है। दूसरी तरफ नेशनल कांफ्रेंस भी कांग्रेस के नाराज़ चल रही है।

जम्मू और कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने एक समाचार चैनल को बताया कि बेहतर होता यदि कांग्रेस डॉक्टर फ़ारूक़ अब्दुल्ला को यह बता देती कि वे मंत्रिमंडल में शामिल होंगे या नहीं।

प्राप्त खबर के मुताबिक इसके बाद गुरुवार देर रात मनमोहन सिंह ने फ़ारुक अब्दुल्ला से फ़ोन पर बात की है। अब्दुल्ला ने पत्रकारों को बताया कि कौन मंत्री बनेगा यह प्रधानमंत्री और यूपीए अध्यक्ष को तय करना होता है। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री ने मुझसे बात की है और बताया है कि डीएमके के साथ कुछ मतभेद हैं जिन्हें वे पहले हल करना चाहते हैं।”

उल्लेखनीय है कि पाँच वर्ष पहले इसी दिन मनमोहन सिंह ने पहली बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी। शुक्रवार शाम राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल राष्ट्रपति भवन के अशोक हॉल में मनमोहन सिंह को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाएंगी।

संप्रग के भीतर मंत्रालयों और विभागों के बंटवारे को लेकर मतभेद की ख़बर तब सामने आई थी, जब डीएमके नेता टी.आर. बालू ने गुरुवार शाम पत्रकारों को बताया कि उनके नेता करुणानिधि ने पत्रकारों से यह बताने को कहा है कि डीएमके यूपीए सरकार को बाहर से समर्थन देगी।

इसके बाद तत्कार खबर आई कि संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के निवास पर पहुंचीं और दोनों नेताओं के बीच लगभग डेढ़ घंटे तक बातचीत चली। लेकिन यह साफ नहीं हो पाया है कि अबतक इस राजनीतिक समस्या का कोई समाधान निकल पाया है या नहीं।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz