लेखक परिचय

जगमोहन ठाकन

जगमोहन ठाकन

फ्रीलांसर. यदा कदा पत्र पत्रिकाओं मे लेखन. राजस्थान मे निवास.

Posted On by &filed under गजल.


love                    जग मोहन ठाकन

तेरी वक्रोक्ति को लबों की सजावट समझकर

हम खिल खिलाते रहे  मुस्कुराहट समझकर

जब जब घण्टी बजी किसी भी द्वार की

हम दौड कर आये तेरी आहट समझकर

ना आना था ,    ना आये    तुम कभी

संतोष कर लिया तेरी छलावट समझकर

मजमून तो कोई खास नहीं था चिठी का

पर पढते रहे    तेरी लिखावट समझकर

वो गिरते गये गिरने की  हद से भी ज्यादा

हम उठाते रहे उनकी थिसलाहट  समझकर

उनकी तो मंशा ही कुछ और निकली ” ठाकन”

हम तो झुकते रहे यों ही तिरिया हठ समझकर

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz