डॉ. लोहिया की सोच-गंगा-स्वामी निगमानंद का बलिदान

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म, राजनीति

अरविन्द विद्रोही डॉ. राम मनोहर लोहिया सिर्फ एक व्यक्ति का नाम नहीं एक सम्पूर्ण आन्दोलन है | समाज-देश के हर पहलु पर सजग नज़र व सटीक – प्रखर – सार्थक विचार रखने वाले युग दृष्टा डॉ लोहिया भारत की राजनीति में कमज़ोर तबके के अमिट हस्ताक्षर है | डॉ लोहिया का साफ़ कहना था कि… Read more »

संतों के सामाजिक सरोकार

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

विजय कुमार बाबा रामदेव के अनशन से जिनके स्वार्थों पर आंच आ रही थी, ऐसे अनेक नेताओं ने यह टिप्पणी की, कि बाबा यदि संत हैं, तो उन्हें अपना समय ध्यान, भजन और पूजा में लगाना चाहिए। यदि वे योग और आयुर्वेद के आचार्य हैं, तो स्वयं को योग सिखाने और लोगों के इलाज तक… Read more »

स्वामी निगमानंद का बलिदान..याद रखेगा-हिन्दुस्तान…

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म, राजनीति

श्रीराम तिवारी “काटे मलय परशु सुन भाई! निज गुण देहि सुगंध वसाई!! “ताते सुर शीसन चढत,जग वल्लभ श्रीखंड! अनल दाहि पीटत घनहिं,परशु बदन यह दंड!! उपरोक्त चौपाई और उसके नीचे जो दोहा मानस से उद्धृत किया गया है दोनों ही बहुत सरलतम हिंदी में और प्रासंगिकता के लिए प्रस्तुत आलेख की पृष्ठभूमि के बेहतरीन प्रस्तर निरुपित… Read more »

आखिर टल ही गया अमरनाथ यात्रा पर टकराव

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

विनोद बंसल श्री अमरनाथ एवं बूढा अमरनाथ यात्री न्यास के द्वारा गत 8 मई से ही यात्रियों के 15 जून से प्रारम्भ होने बाली यात्रा के लिए पंजीयन प्रारम्भ कर दिया गया तथा हजारों भक्त 13 मई शाम तक जम्मू पहुंच गये। न्यास ने यात्रा रवाना करने की पूरी तैयारी कर ली थी। इसके लिए… Read more »

आज के भगीरथ निगमानंद की खामोश मौत

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म, मीडिया, विविधा

मीडिया ने फाइव स्टार आंदोलन को उछाला, एक सच्चे बलिदान की उपेक्षा की राजेश त्रिपाठी भारत की जीवनरेखा पावन सुरसरि जिन्हें हम श्रद्धा से गंगा मैया कह कर पुकारते हैं की रक्षा के लिए 115 दिनों से अनशनरत स्वामी निगमानंद की सोमवार 13 जून को कोमा की अवस्था में हुई मौत अपने पीछे कई सवाल… Read more »

दूसरे यतीन दास की मौत

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म, पर्यावरण

आर. सिंह आज (15 जून) सबेरे-सबेरे जब समाचार पत्र खोला तो प्रथम पृष्ठ पर प्रकाशित एक समाचार ने बरबस मेरा ध्यान खींच लिया और समाचार पढने के बाद तो मैं एक तरह से बुझ सा गया. समाचार था गंगा बचाओ आंदोलन का योद्धा 115 दिनों के अनशन के बाद मौत के मुँह में चला गया. समाचार… Read more »

11 जून को गंगा दशहरा- गंगा का धरती पर अवतरण

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

देहरादून से चन्द्रशेखर जोशी की विशेष रिपोर्ट:- गंगा दशहरा के अवसर पर्व पर मां गंगा में डुबकी लगाने से सभी पाप धुल जाते हैं और मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है। वैसे तो गंगा स्नान का अपना अलग ही महत्व है, लेकिन इस दिन स्नान करने से मनुष्य सभी दुःखों से मुक्ति पा जाता… Read more »

मसखरे लफ़फाज़ ओर ढोंगी बाबाओं से ज़न-क्रांति की उम्मीद करने वालो सावधान!

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

श्रीराम तिवारी जब -जब इस धरती पर कोई नया भौतिक आविष्कार हुआ ,इंसान को लगा कि ‘दुःख भरे दिन बीते रे भैया ,अब सुख आयो रे’ इसी तरह जब-जब किसी निठल्ले आदमी ने धर्म-अध्यात्म के कंधेपरचढ़करअपनी शाब्दिक लफ्फाजी से समाज में आदर्श राज्यव्यवस्था स्थापित करने और परिवर्ती व्यवस्था को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया तो तत्कालीन… Read more »

रोकना होगा हिन्दू मान-बिन्दुओं का उपहास

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

विनोद बंसल फ़िल्म, फ़ैशन व मस्ती के नाम पर या सस्ती लोकप्रियता पाने की लालसा में हिन्दू धर्म के प्रतीकों का अपमान आज कल आम बात बनती जा रही है। कभी गीतों में कभी चित्रों में तो कभी टेलीविजन के कार्यक्रमों व विज्ञापनों में कोई भी और अभी भी इन प्रतीकों (हिन्दू देवी-देवताओं, साधू-संतों तथा… Read more »

नमस्‍ते वायो। त्‍वमेव प्रत्‍यक्षं ब्रह्म।।

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

हृदयनारायण दीक्षित भारतीय अनुभूति में सृष्टि पांच महाभूतों (तत्वों) से बनी है। पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश ये पांच महाभूत हैं। इनमें ‘वायु’ को प्रत्यक्ष देव कहा गया है। वायु प्रत्यक्ष देव हैं और प्रत्यक्ष ब्रह्म भी। विश्व के प्राचीनतम ज्ञानकोष ‘ऋग्वेद’ (1.90.9) में स्तुति है ‘नमस्ते वायो, त्वमेव प्रत्यक्ष ब्रहमासि, त्वामेव प्रत्यक्षं ब्रह्म… Read more »