चीटी मेरी बेस्ट फ्रेंड है

चीटी मेरी बेस्ट फ्रेंड है.
बी ए.पास बी एड.ट्रेंड है|

हर दिन लाँग ड्राइव पर जाती.
अपने खुद को खुद ही चलाती|
शक्कर गुड जैसे भोजन को.
अपने सिर पर रख ले आती|
करती है दिन रात परिश्रम.
नहीं काम का कभी एंड है|

चलती है तो चलती जाती.
बिना रुके ही बढ़ती जाती|
थकने का तो नाम ना लेती.
जब तक मंजिल ना मिलजाती|
द्दृढ़ इच्छा के एयर पोर्ट पर.
करती श्रम का प्लेन लेंड है|

है कतार में बढ़तीजाती.
गिर जाती तो उठकर आती|
अगर कहीं व्यवधान हुआ तो.
काट काट चक्कर आ जाती|
शिक्षा देती है हम सबको.
श्रम का हर दम अपर हॆंड है|

उठो और चल पड़ो बात यह.
कही विवेकानंदों ने है|
लंगड़ों ने पर्वत लांघे हैं.
नदी पार की अंधों ने है|
हर चीटी ने इसी बात का.
हमें किया ई मेल सेंड है|

Leave a Reply

%d bloggers like this: