इसी गाँव चला आता है ।


लौट के फिर क्यों इसी गाँव चला आता है ,
छोड़ के शहर इसी गाँव चला आता है ।
अब तो इस गांव से पतझड़ कभी नहीं जाता ,
लेकर आँधी वो इसी गाँव चला आता है ।
धर्म , मजहब है और जाति का फसाद यहाँ ,
वक़्त बेवक्त इसी गाँव चला आता है ।
कभी बुलाने पर सुनते नहीं थे जो हमको,
हाथ जोड़े वो इसी गाँव चला आता है ।
ठंड से भूख से थी मौत की खबर जो छपी,
जाने क्यों वो भी इसी गाँव चला आता है ।
देता भाषण है सभाएं है करता रैली वो,
वादे करने वो इसी गाँव चला आता है ।
जलते चिरागों को बुझाने का है हमे ‘एहसास ‘
आग लगाने वो इसी गाँव चला आता है ।
– अजय एहसास

Leave a Reply

%d bloggers like this: