More
    Homeसाहित्‍यगजलमानव ही मानवता को शर्मसार करता है

    मानव ही मानवता को शर्मसार करता है

    मानव ही मानवता को शर्मसार करता है
    सांप डसने से क्या कभी इंकार करता है

    उसको भी सज़ा दो गुनहगार तो वह भी है
    जो ज़ुबां और आंखों से बलात्कार करता है

    तू ग़ैर है मत देख मेरी बर्बादी के सपने
    ऐसा काम सिर्फ़ मेरा रिश्तेदार करता है

    देखकर जो नज़रें चुराता था कल तलक
    वो भी छुपकर आज मेरा दीदार करता है

    दे जाता है दर्द इस दिल को अक़्सर वही
    अपना मान जिसपर ऐतबार करता है

    मुझको मिटाना तो चाहता है मेरा दुश्मन
    लेकिन मेरी ग़ज़लों से वो प्यार करता है

    आलोक कौशिक
    शिक्षा- स्नातकोत्तर (अंग्रेजी साहित्य) पेशा- पत्रकारिता एवं स्वतंत्र लेखन सम्पर्क सं.- 8292043472

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Must Read

    spot_img