संत से बना है शैतान आसाराम

त से बना है शैतान आसाराम
हजारो गलत किये इसने काम
उन काली करतूतों के ही कारण
काल कोठरी में बंद हुआ आसाराम

जज ने जब अपना निर्णय सुनाया
अपने कर्मो का फल इसे याद आया
भरी अदालत में सिर पकड कर
सुबक सुबक कर रो रहा था आसाराम

तीन गवाहों को मरवाया था इसने
जो गवाह थे केस में इसके
उनके मरवाने पर क्यों नहीं रोया ?
अब तू क्यों रोता है आसाराम ?

“जैसी करणी वैसी  भरनी”
पापो का तेरा घडा फूट गया
अब तू ता उमर जेल में रहेगा
कैदी न. 310 बना है आसाराम

पहले तो छोटा सा आश्रम तेरा
अहमदाबाद में साबरमती किनारे
400 से ज्यादा आश्रम बनाये तूने
कैसे बनाये बता तू आसाराम ?

अरबो की सम्पति पास है तेरे
अरमान भरे नहीं अब भी तेरे
हेरा फेरी करता है तू सांझ सबेरे
बता तू कैसे ये बनाई आसाराम ?

संत नहीं है बहरूपिया है तू
नित्य नए रूप रचता है तू
कभी शिव बना कभी कृष्ण बना
क्यों ऐसा करता था तू आसाराम ?

फितरत पता चल गई है तेरी
तू करता था शराब में हेरा फेरी
17 अप्रैल 41 में पैदाइश तेरी
पाकिस्तान में जन्मा था आसाराम

पापो का अम्बार लगाया तूने
बचिच्यो को भी न छोड़ा तूने
क्यों करता था तू ऐसे काम ?
जल्दी बता तू अब आसाराम ?

नेता भी तेरे पास आते थे
क्या काम था क्यों आते थे ?
उनसे भी तू मिला हुआ था
बताओ उनके नाम आसाराम ?

जनता का तूने बेबकूफ बनाया
भक्तो की भी छिनी तूने माया
उनकी आस्था पर दाग लगाया
माफ़ ने करेगे तुझे वे आसाराम

आर के रस्तोगी 

Leave a Reply

%d bloggers like this: