हम जान बुझ कर फिसल गये

miss-uसभी मिट्टी के घरौंदे टूट गये
हाथों से हाथ जब छुट गये
तैरने लगे सपने बिखर के
नैनों से जो सावन फ़ूट गये

तरस गये शब नींद को
तश्न्गी से लब तरश गये
नाखुदा ने पुकार भी की
कई अब्र फ़िर भी बरस गये

सरगोशी से कुछ बात चली
हम गिरते-गिरते संभल गये
मुझे था पता उस आज़ाब का
हम जान बुझ कर फिसल गये

“आलोक धन्वा” जी ने इस कविता की सराहना खुले दिल से की थी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: