Posted On by &filed under राजनीति.


piyush_2096340fडेढ़ सौ वर्षों से फैले प्रदूषण का बोझ भारत का गरीब नहीं उठा सकता : पीयूष गोयल
न्यूयॉर्क,। भारत ने पिछले 150 वर्षों से हवा में कार्बन डाई ऑक्साइड घोलने का भार विकसित देशों से वहन करने को कहा क्योंकि भारत के गरीब आदमी से साफ-सुथरी धरती के लिए और अधिक बोझ उठाने को नहीं कहा जा सकता।केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि पिछले 150 साल में हवा में कार्बन डाई ऑक्साइड के प्रवाह का भार कौन वहन करेगा, जबकि पश्चिमी दुनिया, विकसित देश आगे बढ़े हैं, उनमें औद्योगिकीकरण हुआ और उन्होंने अपने लोगों को घर और नौकरियां दीं है, उनकी अच्छी जीवनशैली है, अच्छी प्रति व्यक्ति आय है जबकि हम पिरामिड की तह में संघर्ष कर रहे हैं। वह यहां केटेलाइजिंग ए ट्रिलियन डॉलर इन्वेस्टमेंट विषय पर परिचर्चा में बोल रहे थे।उन्होंने पहली अंतरराष्ट्रीय वैश्विक ऊर्जा मंत्रीस्तरीय फोरम बैठक में कहा कि मैं अपने देश के गरीबों के पास नहीं जा सकता और उनसे यह नहीं कह सकता कि पिछले 150 साल में जो हुआ, वह उनकी जिम्मेदारी है, जिन्हें दिन में दो जून की रोटी मुश्किल से नसीब होती है।गोयल ने कहा कि मैं गरीब आदमी यह नहीं कह सकता कि आपको बिजली के लिए और अधिक भुगतान करना होगा ताकि हम अगली पीढ़ी और दुनिया की छह अरब जनता के लिए साफ-सुथरी धरती छोड़ सकें। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि जलवायु पर खतरे को पूरी धरती पर खतरे के तौर पर देखा जाना चाहिए।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz