बिहार में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) की ‘बीजेपी भगाओ, लोकतंत्र बचाओ’ रैली में कांग्रेस को नहीं मिला न्योता

नई दिल्लीः भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) भाकपा माले की गुरुवार को पटना में आयोजित ‘भाजपा भगाओ, लोकतंत्र बचाव’ रैली में राजद और शरद यादव की लोकतंत्रिक जनता दल सहित अन्य वामदलों ने हिस्सा लिया पर इसमें कांग्रेस को आमंत्रित नहीं किया गया।भाकपा माले के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने बीजेपी के खिलाफ वामदलों सहित अन्य विपक्षी दलों को आमंत्रित किए जाने तथा कांग्रेस को आमंत्रित नहीं किए जाने के बारे में पूछे जाने पर कहा कि आज बहुत सी नीतियों का हम जो दुष्परिणाम झेल रहे हैं वह उसके जमाने की नीतियां हैं।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा से भाकपा माले की रैली में उनकी पार्टी को आमंत्रित नहीं किए जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि आरजेडी के साथ वे महागठबंधन में शामिल हैं पर अन्य दल जो सीधे तौर पर हमलोगों के संपर्क में नहीं हैं हो सकता है कि वे आरजेडी के साथ बातकर अपना काम चलाएं।

पटना के गांधी मैदान में आयोजित भाकपा माले की रैली को संबोधित करते दीपांकर ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए 2014 के लोकसभा चुनाव के समय बीजेपी के नारों और वादों का जिक्र किया और पूछा कि न खाऊंगा, न खाने दूंगा का क्या हुआ? उन्होंने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी 2014 के चुनाव में बड़े-बड़े वादे किए थे पर उन वादों का क्या हुआ।

%d bloggers like this: