संस्कार भारती ने भारतीय नव वर्ष के अवसर पर यमुना किनारे किया सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन

संस्कार भारती ने भारतीय नव वर्ष के अवसर पर यमुना किनारे किया सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन

संस्कार भारती ने  भारतीय नव वर्ष  के अवसर पर यमुना किनारे  किया  सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन – संस्कार भारती (दिल्ली प्रांत) द्वारा भारतीय नव वर्ष  के अवसर पर यमुना तट के किनारे  सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं भारतीय नव वर्ष अभिनंदन समारोह  का  आयोजन किया गया .कार्यक्रम में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरेन रिजीजू मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे.

पत्रकारों से बात करते हुए श्री रिजीजू ने कहा कि वर्षो बाद उन्हें यमुना तट पर आने का मौका मिला ,यहाँ आकर उन्हें एक विशेष तरह के ऊर्जा की अनुभूति प्राप्त हुई. उन्होंने सभी को भारतीय नव वर्ष की शुभकामनाएं दी साथ ही लोगो से अपील करते हुए कहा कि अपने व्यस्त जीवन से समय निकाल कर लोग यमुना के सफाई में अपना योगदान दे.

किरेन रिजीजू के साथ , मशहुर सूफी गायक पद्मश्री  भजन सोपोरी भी उपस्थित थे अपने संबोधन में श्री सोपोरी ने कहा कि वो अपने जीवन में पहली बार यमुना तट पर आए और यहाँ आकर उनको एक विशेष अनुभूति हो रही है साथ ही लोगो को शुभकामना देते हुए उन्होंने  कहा कि प्रत्येक व्यक्ति का जीवन सुर से भरा हो देश  का माहौल संगीतमयी हो .इसके साथ ही उन्होंने सभी को बधाई देते हुए कहा कि इस तरह के आयोजन से देश और समाज में समरसता का भाव आता है इसलिए इस तरह के कार्यक्रम लगातार होते रहने चाहिए , उन्होंने कीरेन रिजीजू से अपील की कि जब भी उन्हें समय मिले तो वो अपना योगदान इस तरह के आयोजन में दें ताकि इस तरह के कार्यक्रम के आयोजन से युवाओं में देश के सांस्कृतिक विरासत के प्रति एक विशेष उत्साह जागृत हो.

संघ के नेता श्री अलोक कुमार  ने दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि “हम ओजोन की परते और भू-जल को लगातार प्रदूषित कर रहें हैं ,क्योकिं  हम अपने सभ्यता को भूल गए इसलिए नव वर्ष के अवसर हम ये तय करे की बड़े – छोटे का भेद मिटाकर  समाज में एकता और समरसता का भाव उत्पन हो साथ ही उन्होंने कहा कि नए वर्ष में हम सबको ये प्रण लेना चाहिए की हम समाज के सभी कुरीतियों को मिटाकर समाज में समरसता स्थापित करें”.

संस्कार भारती के तरफ संयोजक राजेश चेतन ने पत्रकारों से बात करते हुए  बताया कि समाज में पर्यावरण एवं सामाजिक समरसता के प्रती लोगों को जागरूक करने के लिए  इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन कई वर्षो से किया जा रहा है और आगे भी इस तरह के कई आयोजन किये जायेंगे