Posted On by &filed under राजनीति.


राजनाथ, वोहरा ने अमरनाथ में दर्शन किए

राजनाथ, वोहरा ने अमरनाथ में दर्शन किए

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एन एन वोहरा ने अन्य श्रद्धालुओं के साथ आज दक्षिण कश्मीर हिमालय में स्थित अमरनाथ गुफा में पवित्र हिमलिंग के दर्शन किए और इसके साथ ही वाषिर्क यात्रा शुरू हो गई।

राज्यपाल इस 48 दिन की तीर्थयात्रा का प्रबंधन संभालने वाले श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) के अध्यक्ष भी हैं। वह यहां होने वाली ‘प्रथम पूजा’ में शामिल हुए और 3,880 मीटर की उंचाई पर स्थित इस गुफा में बनने वाले प्राकृतिक शिवलिंग की पूजा की। गृह मंत्री सबसे पहले दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं में शामिल थे। पिछले साल भी सिंह ने अमरनाथ यात्रा के पहले ही दिन बाबा अमरनाथ के दर्शन किए थे।

राजनाथ सिंह यहां कल पहुंचे थे और घाटी में हाल ही में हुए आतंकवादी हमलों के मद्देनजर उन्होंने एक उच्च स्तरीय बैठक में यहां की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा भी लिया।

इस बैठक में अमरनाथ गुफा की सुरक्षा पर भी विस्तार से चर्चा हुई।

अमरनाथ यात्रा निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक पुलिस, सीआरपीफ, बीएसएफ और सेना के बहुस्तरीय सुरक्षा घेरे में दो स्थानों से शुरू हुई। इसमें एक रास्ता है दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले का 42 किमी लंबा पारंपरिक पहलगाम मार्ग और दूसरा रास्ता है महज 12 किमी लंबा मध्य कश्मीर केोंदेरबल जिले का बालटाल मार्ग।

श्रद्धालु बालटाल के रास्ते यात्रा करना पसंद करते हैं क्योंकि इस मार्ग से यह यात्रा एक दिन में पूरी हो जाती है।

अधिकारियों के मुताबिक आज सुबह 12,576 श्रद्धालु नुनवान स्थित बेस कैंपों से पहलगाम और बालटाल के लिए निकले। दोपहर तक 2,430 श्रद्धालुओं ने गुफा में पवित्र शिवलिंग के दर्शन किए।

उन्होंने बताया कि 1,130 महिलाओं, 71 बच्चों और 18 साधुओं समेत कुल 7,486 श्रद्धालु तड़के ही बालटाल से निकल गए जबकि 5,090 श्रद्धालुओं का जत्था, जिनमें कई दर्जन साधु थे, अमरनाथ के दर्शन के लिए नुनवान से निकले।

यात्रा में किसी भी तरह के विघ्न को रोकने और सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए प्रशासन ने सुरक्षा के जबरदस्त इंतजाम किए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि यात्रा मार्ग पर संवेदनशील इलाकों में विशेष बचाव दलों को भी तैनात किया गया है।

आज सुबह बालटाल के दुमैल में स्थित एक कैंप में दिल्ली के 53 वर्षीय श्रद्धालु विनोद कुमार मृत पाए गए। वे यहां कल ही आए थे और पहले जत्थे में जाने वाले थे लेकिन इससे पहले ही उन्हें दिल का दौरा पड़ गया और उनकी मौत हो गई।

यात्रा 18 अगस्त को खत्म होगी। इसी दिन श्रावण पूर्णिमा और रक्षा बंधन भी है।

( Source – PTI )

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz