Posted On by &filed under अपराध, क़ानून, समाज.


मृतकों में 6 महिलायें व 7 बच्चे भी शामिल
मुंबई । एक व्यक्ति ने अपने ही परिवार के 14 सदस्यों की कथित तौर पर हत्या करने के बाद आज तड़के खुदकुशी कर ली. ठाणे में घटी इस खौफनाक घटना में मारे जाने वाले लोगों में सात बच्चे भी शामिल है।
पुलिस ने कहा कि ये निर्मम हत्याएं रात लगभग एक बजे हुईं. आरोपी ने सभी को कोई नशीली चीज देकर बेहोश कर दिया था और इसके बाद एक बड़े चाकू से उनके गले रेत दिए. आरोपी की पहचान हसनिल वारेरकर के रूप में हुई है. मरने वालों में 6 महिलाएं भी शामिल है।
एक पुलिस अधिकारी ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि हालांकि अभी इसके कारणों का पता नहीं चल पाया है, पर शुरुआती जांच से लगता है कि यह संपत्ति विवाद का नतीजा हो सकता है. पीड़ितों में वारेकर के माता-पिता, उसकी बहनें, भतीजे-भांजी शामिल हैं।
पुलिस के मुताबिक कल रात घर में हसन का पूरा परिवार मौजूद था. रात को खाना पीना होने के बाद ये घटना घटी. शक है कि खाने में कुछ जहरीला पदार्थ मिलाया गया रहा होगा जिसके बाद आरोपी ने वारदात को अंजाम दिया. पुलिस ने कहा कि जिस घर में यह भयावह घटना घटी, उसी घर में आरोपी भी फांसी पर लटका पाया गया।
ठाणे के संयुक्त पुलिस आयुक्त आशुतोष डंबारे ने कहा, “प्रथम दृष्टया ऐसा लगता है कि हमलावर ने घर के सभी दरवाजे और खिड़कियों को बंद कर दिया और अपने ही परिवार के सो रहे सदस्यों की हत्या कर दी. उसके बाद उसने अपने बंगले में सीढ़ियों के पास फांसी लगा ली. हत्या में इस्तेमाल चाकू को उसके शव के पास से बरामद किया गया है.”।उन्होंने बताया कि आसपास के कुछ युवाओं ने साबिया के चिल्लाने की आवाज सुनी और घर के दरवाजे और खिड़कियां तोड़कर अंदर घुस गए. डंबारे ने कहा कि फॉरेंसिक टीम को घटनास्थल पर बुलाया गया है और शवों को परीक्षण के लिए भेज दिया गया है । इस घटना में जीवित बची परिवार की एकमात्र सदस्य हमलावर की बहन साबिया भारमल (22) बताई जा रही है, जो गंभीर रूप से घायल है. उसे स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है.पुलिस के अनुसार अब बहन के बयान के बाद ही इस सनसनीखेज हत्याकाण्ड से पर्दा उठ पाएगा.
4 (1)

One Response to “परिवार के 14 लोगों की हत्या कर खुद को लगाई फांसी,”

  1. योगी दीक्षित

    घटना वास्तव में बहुत दुखद और दिल को दहलाने वाली है. आश्चर्य यह है कि अभी तक सेकुलर चौकड़ी ने इसमें RSS और BJP के षडयंत्र होने का शोर नहीं मचाया. ऐसे दर्दनाक मुद्दों को तो ये चौकड़ी वोटों की फसल काटने के लिए बड़ी जल्दी लपक लेती है.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *