यशवंत सिन्हा के विचार भाजपा और राष्ट्र के हित में : शत्रुघ्न

यशवंत सिन्हा के विचार भाजपा और राष्ट्र के हित में : शत्रुघ्न
के विचार और राष्ट्र के हित में : शत्रुघ्न

भाजपा सांसद आज अपने पार्टी सहयोगी यशवंत सिन्हा के समर्थन में सामने आए। उन्होंने कहा कि यशवंत सच्चे अर्थों में राजनेता हैं और उन्होंने सरकार को आईना दिखाया है।

बिहार से सांसद शत्रुघ्न की अपनी पार्टी के रुख से कई मुद्दों पर मतभिन्नता है।

यशवन्त सिन्हा ने एक अखबार में प्रकाशित एक लेख में वित्त मंत्री अरूण जेटली की, उनकी आर्थिक नीतियों को लेकर आलोचना की है। पूर्व वित्त मंत्री के विचारों को खारिज करने वाले, पार्टी के नेताओं पर शत्रुघ्न ने निशाना साधा और कहा कि ऐसा करना ‘बचकाना’ होगा क्योंकि उनके (सिन्हा के) विचार पूरी तरह से ‘‘पार्टी और राष्ट्र के हित में है।’’ कई ट्वीट कर सरकार पर कटाक्ष करते हुए शत्रुघ्न ने यशवन्त सिन्हा की टिप्पणियों को लेकर कही जा रही बातों के संदर्भ में दावा किया कि हम सब जानते हैं कि किस तरह की ताकतें उनके पीछे पड़ी हैं।

उन्होंने नरेंद्र मोदी का हवाला देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने हाल ही में कहा था कि राष्ट्र किसी भी दल से बड़ा है और राष्ट्र हित सबसे पहले आता है।

शत्रुघ्न ने ट्वीट किया, ‘‘ मेरा दृढ़ता से यह मानना है कि सिन्हा ने जो कुछ भी लिखा है वह पार्टी और राष्ट्र के हित में है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘ वह सच्चे अर्थों में राजनेता हैं, जिसने खुद को साबित किया है और जो देश के सबसे सफल वित्त मंत्रियों में से एक हैं। उन्होंने भारत की आर्थिक स्थिति को लेकर आईना दिखाया है और समस्या की जड़ पर चोट की है। ’’ यशवंत को बड़ा भाई बताते हुए शत्रुघ्न ने कहा कि इस तरह के विचारों के साथ सामने आने के लिए उनकी सराहना की जानी चाहिए।

ट्वीट में शत्रुघ्न ने अरूण शौरी की भी प्रशंसा की । अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में शौरी यशवंत के सहयोगी थे। शौरी भी मोदी सरकार की नीतियों के कड़े आलोचक हैं।

शत्रुघ्न ने लिखा, ‘‘ यशवंत सिन्हा और अरूण शौरी बहुत ही प्रबुद्ध और अनुभवी बुद्धिजीवी हैं। उनकी कोई महत्वाकांक्षा नहीं है और ना ही किसी पद (मंत्री पद) की उन्हें लालसा है, खासकर ऐसे समय में जब अगले चुनाव में दो वर्ष से भी कम समय रह गया है। ’’ उन्होंने कहा कि यशवंत के आलोचक उन्हें बिंदू दर बिंदू गलत साबित करके दिखाएं।

( Source – PTI )

Leave a Reply

%d bloggers like this: