गाजा तूफ़ान का कहर : ‘गाजा’ तूफान हुआ तेज, बारिश शुरू, स्कूल कॉलेज-बंद

नई दिल्लीः दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना चर्क्रवाती तूफान ‘गाजा’ और तेज हो गया है और इसके गुरूवार शाम या रात तक पंबन और कुड्डालोर तट को पार करने की आशंका है। कोडियाक कराई में लोगों ने अपने घर खाली कर दिए हैं। भारतीय मौसम विभाग की तरफ से जारी एक बुलेटिन में बताया गया है कि यह तूफान चेन्नई से 370 किलोमीटर दूर दक्षिणपूर्व में बंगाल की खाड़ी में केंद्रित है और अगले छह घंटों में इसके और अधिक तेज होने और दक्षिण पश्चिम क्षेत्र की तरफ पहुंचने की आशंका है।

इस तूफान के शाम तक या रात तक नागापट्टनाम के आसपास पंबन, कुड्डालोर पहुंचने की आशंका है और इस दौरान हवाओं की रफ्तार 90 किलोमीटर से 100 किलोमीटर तक हो सकती है। शुरू में इस तूफान की रफ्तार काफी कम थी लेकिन सुबह होते-होते यह रफ्तार अधिक हो गई और कुछ हिस्सों में तेज हवाएं औक बारिश भी हो रही है। हालात को देखते हुए क्काराईपेट्टाई, किचनकुप्पम, नाम्बियार नगर, अरकट्टुथुरई के मछुआरे भी राहत शिविर कैंप में जा रहे हैं। अगले 24 घंटों यानी शुक्रवार तक तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और उससे सटे दक्षिणी आंध्र प्रदेश में मछली पकड़ने पर पूर्ण रोक लगाने की सलाह दी गई है।

तूफान को देखते हुए अन्ना विश्वविद्यालय ने सभी संबद्ध कालेजों में दिन में होने वाली सेमेस्टर परीक्षाओं को रद्द कर दिया है। सभी पालिटेक्निक कालेजों में डिप्लोमा परीक्षाओं को 24 नवंबर को कराया जाएगा। एआईएडीएमके सरकार के मुताबिक, दूरसंचार कंपनियों ने आश्वासन दिया है कि उनके पास तूफान प्रभावित क्षेत्रों में सिर्फ पांच दिनों तक और उनके मुख्यालयों में 15 दिनों तक का ही तेल का भंडारण हैं। मोबाइल टेलीफोन कंपनियों ने भी सरकार को आश्वासन दिया है कि वे अपने मोबाइल टेलीकॉम टावर्स को पहियों पर रखकर नागापट्टिनम से कड्डालूर ले जाएंगे।

%d bloggers like this: