गोवा: कांग्रेस ने खो दी सबसे बड़ी पार्टी होने की भी हैसियत

नई दिल्लीः पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के लिए जारी कैंपेन के बीच कांग्रेस को गोवा में बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस जहां गोवा में सरकार बनाने का दावा पेश कर पर्रिकर सरकार पर जीत का सपना संजोये थी। वहीं पार्टी के ही दो विधायकों ने इस सपने पर पानी फेर दिया। यही नहीं राज्य में कांग्रेस से नंबर वन होने की हैसियत भी छीन ली। दरअसल, पार्टी के दो विधायक सुभाष शिरोडकर और दयानंद सोपते कल नई दिल्ली में बीजेपी में शामिल हो गए।

कांग्रेस पर्रिकर सरकार को बर्खास्त कर सरकार बनाने का दावा करती रही है। पिछले दिनों कांग्रेस ने दावा किया था कि बीजेपी के कई विधायक उसके संपर्क में हैं। लेकिन दावा धरा का धरा रह गया. मनोहर पर्रिकर इसी साल फरवरी से बीमार हैं और वह दिल्ली, मुंबई, गोवा और अमेरिका में इलाज करा चुके हैं। फिलहाल पर्रिकर गोवा स्थित अपने घर में डॉक्टर की देखरेख में हैं।

दोनों विधायकों के कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल होते ही विधानसभा का गणित बदल गया है। दोनों के विधानसभा से इस्तीफा देने के बाद बहुमत का आंकड़ा 21 से गिरकर 20 हो गया है. दोनों कांग्रेस विधायकों के बीजेपी में शामिल होने से दोनों दलों की विधानसभा में विधायकों की संख्या 14-14 यानि बराबर हो गयी है।

गोवा में 2017 में विधानसभा चुनाव हुए थे, तब किसी भी दल को बहुमत नहीं मिला था। बीजेपी ने महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी, गोवा फोरवॉर्ड पार्टी के तीन तीन विधायकों सहित तीन निर्दलीय विधायकों और एक एनसीपी के विधायक के समर्थन से सरकार बनाई थी ।

%d bloggers like this: