‘तितली’ चक्रवात पहुंचा पश्चिम बंगाल

नई दिल्ली:चक्रवात ‘तितली’ शुक्रवार को गहरे दबाव में तब्दील होकर कमजोर हुआ और पश्चिम बंगाल में दाखिल हुआ है जिसके बाद मूसलाधार बारिश हुई। शुक्रवार को तितली से कुल चार मौतें हुईं, जिनमें तीन ओडिशा और एक बंगाल में हुई।

चक्रवात और भारी वर्षा से पश्चिम बंगाल के पश्चिमी मेदिनीपुर और झाड़ग्राम जिलों में भारी नुकसान हुआ। पश्चिमी मेदनीपुर में एक व्यक्ति की जान चली गई तथा राजमार्ग पांच पर कई पेड़ उखड़ गए। पश्चिमी मेदिनीपुर और झाड़ग्राम में गुरुवार रात से बारिश हो रही है। इस बीच, मौसम विभाग ने चेतावनी दी कि शनिवार तक पश्चिम बंगाल में गंगा नदी के आसपास के क्षेत्रों में भारी बारिश हो सकती है। उसने कहा कि चक्रवात गहरे दबाव में तब्दील होकर कमजोर हुआ है और पूर्वोत्तर दिशा में बढ़ रहा है।

पश्चिमी मेदिनीपुर जिले के जिलाधिकारी पी मोहन गांधी ने बताया कि खड़गपुर में एक फैक्टरी की दीवार गिर जाने से 35 साल के एक गार्ड की मौत हो गई। बारिश से जुड़ी विभिन्न घटनाओं में 10 अन्य लोग घायल हुए हैं।

मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि गहरे दबाव की वजह से उत्तरी और दक्षिणी 24 परगना, पूरबा, पश्चिमी मेदिनीपुर, झाड़ग्राम, पूरबा बर्धमान, हावड़ा और हुगली जिलों में भारी वर्षा हो सकती है। विभाग ने कहा है कि कोलकाता, बांकुरा, पुरुलिया, बीरभूम, मुर्शिदाबाद, माल्दा, उत्तर और दक्षिण दिनाजपुर जिलों में शनिवार तक भारी वर्षा होने की संभावना है। पश्चिम बंगाल और ओडिशा के समुद्र तटीय क्षेत्रों में मछुआरों को शनिवार तक गहरे समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गयी है।

%d bloggers like this: