पत्रकार ही बदल सकते है इस समाज की सूरत

नई दिल्लीः ब्रह्माकुमारीज संस्थान के आबू रोड स्थित शांतिवन परिसर में चार दिवसीय राष्ट्रीय मीडिया महासम्मेलन का आयोजन किया गया। बेहतर विश्व के निर्माण के लिए प्रबुद्ध मीडिया विषय पर आयोजित इस सम्मेलन में भारत सहित कई देशों के पत्रकारों ने शिरकत की।

इस मौके पर मीडियाकर्मियों ने माना कि समाज पर खबरों का बहुत असर पड़ता है इसके लिए पत्रकारों को पहले स्वंय आध्यात्मिक और नैतिक रूप से सशक्त बनना होगा। उन्हें खुद को मूल्यनिष्ठ बनाकर समाज के सामने उदाहरण प्रस्तुत करना होगा, तभी दूसरों का और समाज का परिवर्तन संभव है। स्व परिवर्तन ही विश्व परिवर्तन का आधार है। कार्यक्रम का समापन पर सोमवार को किया गया। जिसमें सागर से पधारे इंक मीडिया कॉलेज के डायरेक्टर डॉ. आशीष द्विवेदी ने कहा कि पत्रकारों को अपनी मानसिकता बदलने की जरूरत है। रायपुर से पधारे संपादक मधुकर द्विवेदी ने कहा ब्रह्माकुमारीज संस्थान पिछले आठ दशक से समाज उत्थान का कार्य कर रही है। श्वेत वस्त्रधारिणी ये ब्रह्माकुमारी बहनें साक्षात् सरस्वती का अवतार हैं जो समाज में आध्यात्म की ज्योत जगा रही हैं। लोगों को बेहतर जीवन जीने की प्रेरणा दे रही हैं। उन्होंने संस्थान द्वारा सिखाए जा रहे राजयोग मेडिटेशन की वर्तमान मीडिया में प्रयोग की आवश्यता पर विशेष जोर दिया।

इस मौके पर विभिन्न टॉक शो एंव सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया। संस्थान की वरिष्ठ राजयोगिनी शिक्षिकाओं ने पत्रकारों को राजयोग मेडिटेशन की गहन अनुभूतियों का भी अनुभव कराया।

%d bloggers like this: