प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा- पाकिस्तान के मदरसों की भूमिका को भी आतंकवाद के नजर से देखना सही नहीं

नई दिल्लीः पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान में मदरसों की भूमिका की अनदेखी करना और उन्हें आतंकवाद से जोड़कर देखना अनुचित है। इसके साथ ही इमरान ने कहा कि देश में शिक्षा व्यवस्था में सुधार उनकी सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है।

मीडिया में गुरुवार को आई खबरों के अनुसार, इमरान ने देश के शीर्ष उलेमा के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान यह टिप्पणी की। प्रधानमंत्री कार्यालय ने उलेमा को मदरसा सुधार और अन्य मुद्दों पर विचार के लिए बुलाया था।

उन्होंने कहा कि सरकार वर्ग आधारित शिक्षा व्यवस्था को खत्म करना और पाठ्यक्रम में एकरूपता लाना चाहती है। इनमें मदरसे भी शामिल हैं। खान ने कहा कि समाज के विकास में मदरसों की भूमिका की अनदेखी नहीं की जा सकती और सभी धार्मिक संस्थानों को आतंकवाद से जोड़ना अनुचित होगा।

रिपोर्टों के अनुसार, पाकिस्तान में कई मदरसों के चरमपंथी आतंकी समूहों से करीबी संबंध हैं और अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी नेटवर्क को बनाए रखने में उनकी अहम भूमिका है।

इमरान ने कहा कि खुशहाली हासिल करने के लिए समान शिक्षा व्यवस्था का अहम महत्व है। उन्होंने कहा कि मदरसों के छात्रों का यह हक है कि वह जीवन के सभी क्षेत्रों में भाग लें और मदरसों को मुख्यधारा में लाया जाना आवश्यक है।

%d bloggers like this: