भारत पहुंचे श्रीलंका के प्रधानमंत्री,शनिवार को मोदी के साथ करेंगे बातचीत

नई दिल्लीः श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे गुरुवार को तीन दिवसीय दौरे पर भारत पहुंचे। उनकी इस यात्रा का मकसद दोनों देशों के बीच कारोबार, निवेश, नौवहन सुरक्षा सहित अन्य क्षेत्रों में संबंधों को गहरा करना है। उनका यह दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब मीडिया में एक विवादित खबर आई थी कि श्रीलंका के राष्ट्रपति ने आरोप लगाया है कि भारत की खुफिया एजेंसी रॉ उनकी हत्या का षडयंत्र रच रही है। इस दावे को कोलंबो ने ‘गलत बताते हुए खारिज कर दिया था।

विक्रमसिंघे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को विभिन्न क्षेत्रों पर वृहत वार्ता करेंगे। मीडिया ब्रीफिंग में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, सब भारत और श्रीलंका के बीच दोस्ताना संबंध के बारे में जानते हैं। विकास सहयोग बातचीत के मुख्य एजेंडों में से एक होगा। उन्होंने कहा, श्रीलंका में सभी तरह के राजनीति विचारधाराओं को मानने वाले लोगों का संबंध भारत से गहरा है। हमारे बीच मजबूत मित्रता है। दोनों पक्ष विक्रमसिंघे के दौरे के समय भारत के सहयोग से जाफना में बन रही आवासीय परियोजना की स्थिति पर भी चर्चा कर सकते हैं। वहीं इस दौरान तमिल मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है। खासतौर पर तमिल वर्चस्व वाले क्षेत्र में सत्ता के विकेंद्रीकरण पर चर्चा होने की संभावना है। सूत्रों ने बताया कि दोनों ही पक्ष श्रीलंका के घाटे में चल रहे मट्टाला राजपक्षे अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का प्रभार भारत के हाथ में लेने की रूपरेखा पर भी चर्चा कर सकते हैं ।

विमानों की कमी की वजह से इस हवाई अड्डे को ‘दुनिया का सबसे खाली हवाई अड्डा’ कहा जाता है। ऐसी संभावना है कि भारत इस देश के साथ संयुक्त रूप से इस हवाईअड्डे को चलाए। सूत्रों के मुताबिक दोनों देश समुद्री सुरक्षा सहयोग की दिशाओं पर भी चर्चा करेंगे। श्रीलंका के प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान भारत के गृह मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी उनके साथ मुलाकात करेंगे।

%d bloggers like this: