‘मुजफ्फरनगर’ के बाद ‘आगरा’ का भी नाम बदलने की मांग

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सरधना से विधायक संगीत सोम के मुजफ्फरनगर का नाम बदले जाने की मांग के बाद अब आगरा नार्थ से बीजेपी विधायक जगन प्रसाद गर्ग ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर आगरा का नाम बदले जाने की मांग की है। आपको बता दें कि इससे पहले सीएम योगी इलाहाबाद का नाम प्रयागराज कर चुके हैं और फैजाबाद का नाम अयोध्या किए जाने का ऐलान कर चुके हैं।

आगरा नार्थ से बीजेपी विधायक जगन प्रसाद गर्ग ने सीएम योगी को लिखे पत्र में कहा है कि आगरा में बहुत सारे वन (जंगल) और अग्रवाल (महाराजा अग्रसेन के अनुयायी) हैं इसलिए शहर का नाम बदलकर ‘अग्रवन’ किया जाना चाहिए।

योगी के विधायक संगीत सोम बोले- अभी तो कई शहरों के नाम बदलने हैं
विधायक ने कहा कि इस क्षेत्र को शुरुआत में अग्रवन के नाम से जाना जाता था और महाभारत में इसका उल्लेख भी मिलता है। लेकिन समय के साथ, शहर को अकबरबाद के रूप में नामित किया गया और बाद में यह ‘आगरा’ बन गया, जिसका कोई विशेष अर्थ नहीं है। उन्होंने कहा कि इसलिए इस शहर का नाम दोबारा से ‘अग्रवन’ किया जाना चाहिए।

हम अहमदाबाद का नाम बदलने पर विचार कर रहे हैं: विजय रूपाणी
विधायक जगन प्रसाद गर्ग ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री से मिलूंगा और उनसे आगरा का नाम अग्रवन करने की मांग करूंगा। उन्होंने कहा कि वैश्य समुदाय जो महाराजा अग्रसेन के अनुयायी है उनकी आगरा में करीब 10 लाख है।

आपको बता दें कि शुक्रवार को सरधना से भाजपा विधायक संगीत सोम ने कहा था कि मुजफ्फरनगर का नाम बदल कर लक्ष्मीनगर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मुगलों ने शहरों के नाम बदल कर हिन्दुस्तान की सभ्यता, संस्कृति को नष्ट करने का काम किया, अब भाजपा सरकार इतिहास में दर्ज शहरों के पुराने नाम वापस कर रही है।

गाजियाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया से बातचीत में विधायक संगीत सोम ने शहरों के नाम भाजपा सरकार की ओर से बदले जाने की चर्चा की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का फैसला सराहनीय है। कहा कि मुख्यमंत्री ने इलाहाबाद, फैजाबाद का नामकरण प्राचीन नाम पर किया है तो वह इतिहास को ध्यान में रखकर किया है। चाहे इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने की बात हो या फिर फैजाबाद का नाम अयोध्या किए जाने का। भारत के प्राचीन इतिहास में प्रयागराज, अयोध्या, काशी दर्ज हैं। उन्होंने कहा कि मुगलों ने शहरों का नाम बदल कर सभ्यता, संस्कृति को नष्ट करने का काम किया। अब मुख्यमंत्री के नेतृत्व में भाजपा सरकार इतिहास में दर्ज शहरों के नाम को फिर से वही कर रही है।

%d bloggers like this: