राजनैतिक चुनावों में भी होती है ब्रांडिंग : बद्रीनाथ

नई दिल्लीः चुनाव के लिए आयोग द्वारा निर्धारित की गई राशि नाकाफी है ।प्रत्याशी इससे कहीं अधिक व्यय करते हैं । कई दल टिकटों की बिक्री भी किया करते हैं ।मंगलायतन विश्वद्यालय के पत्रकारिता और जनसंचार विभाग व आईबीएम विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला के अंतिम दिन फाइनेंशियल क्रोनिकल पत्रिका के संपादक केए बद्रीनाथ ने ये विचार व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि चुनाव में भी ब्रांडिग होती है ।इंडिया शाइनिंग जैसे स्लोगन चुनावी ब्रांडिग का ही उदाहरण था ।चुनाव के समय मीडिया भी इसमें शामिल हो जाती है ।मंगलायतन विवि में क्या मीडिया समाज और उसकी अर्थव्यवस्था को बदल रहा है विषय पर आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न हुई ।दूसरे दिन दूरदर्शन के सलाहकार भारत भूषण ने अपने संबोधन में कहा कि मीडिया गति अधिक तेज है ।वह पत्रकाओं से होते हुए रेडियो टेलीविजन से होती हुई ब्लॉग और सोशल मीडिया तक पहुँच गई है।डायनेमिक्स ऑफ मीडिया विषय पर बोलते हुए श्री भूषण ने मीडिया की टीआरपी पर बात की । उन्होंने सोशल मीडिया को ज्यादा कारगर बताया ।उन्होंने बताया कि दिन भर में करीब चार घंटे हम सोशल मीडिया पर रहते हैं ।यह स्मार्ट फोन के कारण सम्भव हुआ है। एप्स की लोकप्रियता और उसकी तकनीकी के बारे में भी बताया उन्होंने बताया कि भारत से ही प्रत्येक वर्ष करीब सात हजार करोड़ गूगल कम लेता है।वहीं इस मौके पर अमर उजाला के समाचार संपादक अरुण आदित्य ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि राहत इंदौरी के शेर सरहदों पर तनाव है क्या,जरा पता करो चुनाव है क्या … को व्याखित करते हुए कहा कि अब सीमाओं पर नहीं देश के आंतरिक हिस्सों में भी तनाव है ।वर्तमान में लोकतंत्र दांव पर लगा हुआ है।हालात ये हैं कि समाज मीडिया को बदल रहा है ।मंगलायतन विवि के डीन अकादमिक प्रो. जेएल जैन ने कहा कि मीडिया का विस्तार हुआ है।इसके साथ ही मूल्यों में गिरावट आई है।पत्रकारिता के डीन और कार्यशाला के कन्वीनर प्रो.शिवाजी सरकार ने कहा कि टीवी का विज्ञापन सोशल मीडिया में बंट चुका है और इसका हिस्सा सोशल मीडिया को भी मिल रहा है।इसलिए चैनल्स पर आर्थिक संकट आ गया है ।आईबीएम के विभागध्यक्ष और कार्यशाला के समन्वयक डॉ राजीव शर्मा ने दो दिवसीय कार्यशाला के उद्देश्य और उसमें व्यक्त किये गए विचारों से सम्बंधित रिपोर्ट पढी।कुलपति प्रो. केवीएसएम कृष्णा ने कार्यशाला की सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त की ।छात्रों द्वारा प्रश्न पूछे गए। पत्रकारिता विभाग के छात्रों द्वारा बनाई गई लघु फ़िल्म मासूम भी दिखाई गई जिसकी सभी ने सराहना की।कार्यशाला में आईवीपीआर के छात्रों ने मंगलायतन कुलगीत प्रस्तुत किया ।अतिथियों के स्वागत के साथ उन्हें प्रतीक चिंह भी भेट किये।डॉ सौरभ कुमार ने सभी का आभार व्यक्त किया । कार्यशाला का सफल संचालन प्रिया सिंह और अंशिका तिवारी ने किया ।विशेष सहयोग प्राध्यापक मयंक जैन का रहा ।कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार सतीश कुलश्रेष्ठ,पीएन शर्मा ,प्रो एआर फ़तही ,महेश कुमार ,प्रो आरके शर्मा ,असिस्टेंट रजिस्ट्रार अनुभव सोनी ,डॉ शगुप्फता परबीन ,होटल मैनेजमेंट की प्रिंसिपल अलीशा चौधरी, उन्नति राणा ,मो.मेहंदी ,आशीष जैन सोनी सिंह ,शुभांकर रे का विशेष सहयोग रहा ।प्रबंधन पत्रकारिता विभाग की विभागाध्यक्ष मनीषा उपाध्याय ने किया।

%d bloggers like this: