Posted On by &filed under दिल्ली, राज्य से, विविधा.


नई दिल्ली। सोमवार शाम को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के मल्टी पर्पज हॉल में आयोजित विशेष कार्यक्रम में भाजपा नेता और समाजसेवी अनुश्री मुखर्जी की किताब ‘द ग्रेट डिसीट ऐट डॉन’ का विमोचन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर के चेयरमैन राम बहादुर राय ने की। इस दौरान राम बहादुर ने पुस्तक की लेखिका अनुश्री के प्रयास की सराहना की और किताब को भारतीय राजनीतिक विचारधारा के लिए नया मार्ग प्रशस्त करने वाला बताया । उन्होंने कहा कि इस पुस्तक में इतिहास भी है और विचारधारा भी।

वहीं कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि आज हमें पहले की राजनीतिक विचारधाराओं से आगे निकलने की जरूरत है। चीन से लेकर रूस तक ने अपनी पुरानी विचारधाराओं को पीछे छोड़ा है । ऐसे में यह किताब नेहरू की राजनीतिक विचारधारा से लेकर आज तक क्या-क्या बदला और जनसंघ की इसमें कितनी महत्वपूर्ण भूमिका रही, सारी बातों का उल्लेख करती है। कहा कि यह किताब हमारी आने वाली पीढ़ी को नई विचारधारा अपनाने के लिए प्रेरित करेगी ।

पुस्तक के विमोचन-कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्याम जाजू ने कहा कि यह किताब कांग्रेस की फैलाई राजनीतिक भ्रांतियों को दूर करेगी और युवाओं के बीच राष्ट्रवादी विचारधारा के प्रति नया आकर्षण पैदा करेगी ।

बता दें कि भाजपा नेता व सामाजिक कार्यकर्ता अनुश्री मुखर्जी द्वारा लिखित इस पुस्तक में आज़ादी के बाद से लेकर मौजूदा राजनीतिक दलों, केंद्र सरकारों व उनकी नीतियों पर विस्तार से चर्चा की गई है। पुस्तक में जहां पुरानी सरकारों की गलत नीतियों की वजह से विदेश नीति पर पड़े दुष्प्रभाव पर प्रकाश डाला गया है, वहीं समय-समय पर वोट बैंक की राजनीतिवश राजनीतिक दलों के बदलते स्वरूप को भी दर्शाया गया है। पुस्तक की लेखिका अनुश्री बताती हैं कि अक्सर हिन्दुस्तान की राजनीति को अलग-अलग तरीके से प्रस्तुत किया जाता रहा है, लेकिन कई बार वो हर सच सामने नहीं आ पाता। इसलिए इस पुस्तक को शुरू से लिखने का ही मकसद रहा कि तमाम उन हकीकतों को संकलित कर सामने लाना और उन राजनीतिक परिदृष्यों से सीख लेते हुए आधुनिक भारत कैसे सुदृढ़ हो सकता है, इसकी भी चर्चा इस पुस्तक में की गई है। ज्ञात हो कि कौटिल्य प्रकाशन ने इस पुस्तक को प्रकाशित किया है।

Comments are closed.