तमिलनाडु में हिंसा के बाद धारा 144 लागू, इंटरनेट सेवा भी बंद

नई दिल्ली: के तूतीकोरीन में स्टर्लाइट प्लांट के खिलाफ प्रदर्शन में मरने वालों की संख्या 12 हो गई है। ये सभी लोग पुलिस की कार्रवाई में मारे गए हैं। वहीं दर्जनों घायल हैं जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस विरोध प्रदर्शन को देखते हुए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (TNPCB) ने इस प्रोजेक्ट को बंद करने का आदेश दिया है।ट को बंद करने से 32 हजार 500 नौकरियों पर असर पड़ा है। जबकि 3 हजार 5 सौ लोगों इसी से अपना पेट पालते हैं। 2,500 कर्मचारी कॉन्ट्रैक्ट वर्कर जिन्हें नोटिस जारी किया गया है। इस बारे में जानकारी देते हुए टीएनपीसीबी ने कहा कि 18 मई और 1 9 मई को अपने अधिकारियों द्वारा किए गए निरीक्षण के दौरान, यह पाया गया कि “इकाई अपने उत्पादन संचालन को फिर से शुरू करने के लिए गतिविधियां कर रही थी।”
राज्य सरकार ने स्टरलाइट फैक्ट्री के आसपास कर रखी है। इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई है ।”सरकार ने सोशल मीडिया पर भड़काऊ संदेश प्रसारित होने का आरोप लगाते हुए एक आदेश में कहा कि ऐसे संदेशों से मंगलवार को तूतीकोरिन में स्टरलाइट कॉपर संयंत्र के खिलाफ करीब 20 हजार लोगों की बड़ी भीड़ एकत्रित हो गई ।

क्या है मामला

आपको बता दें कि स्थानीय नागरिक स्टर्लाइट कॉपर यूनिट को बंद करने की मांग कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि इसकी प्रदूषण की वजह से गंभीर बीमारियां पैदा होंगी,जिससे लोगों को खतरा है। बता दें कि स्टर्लाइट कॉपर यूनिट, कॉपर यूनिट ऑफ वेदांता लिमिटेड का प्रतिनिधित्व करती है। इस कंपनी ने हाल के दिनों में शहर में स्टर्लाइट कॉपर प्लांट के विस्तार की घोषणा की थी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: