योग दिवस के आयोजन को गिनीज बुक में दर्ज कराएगी केंद्र सरकार

bigstock-Silhouette-of-woman-doing-yoga-52184770योग दिवस के आयोजन को में दर्ज कराएगी
नई दिल्ली 21 मई (हि.स.)। केन्द्र सरकार ने अंर्तराष्ट्रीय योग दिवस पर अनूठा आयोजन करेगी । इसके आयोजन का जिम्मा संभाल रहे आयुष मंत्रायल ने इस कार्यक्रम को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराने की तैयारी में है ।आयुष मंत्रालय के प्रमुख सचिव ने गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड से इसक संबंध मे संपर्क किया है । सरकार की मंशा है कि 21 जून को अंर्तराष्ट्रीय योग दिवस को इस तरह से मनाया जाय कि यह विश्व इतिहास में दर्ज हो जाए ।मंत्रायल के सूत्रों ने बताया कि गिनीज बुक ने भारत सरकार को मानकों और नियमों के बारे में अवगत करा दिया है । मंत्रायल ने मानको को पूरा करने में जी जान से जुटा है। मंत्रायल के सचिव ने सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों से बात करेक उनसे यह सुनिश्चित करने को कहा है कि 21 जून को सभी जिला मुख्यालयों पर योग के कार्यक्रम का आयोजन किया जाए। इस कार्यक्रम के लिए आयुष मंत्रायल के अधिकारियों से एक अलग वेब पोर्टल तैयार करने को कहा है और इसको विकसित करने में भारत सरकार का सूचना एवं संचार प्रद्योगिकी विभाग सहयोग करेगा। इस पोर्टल का पासवर्ड मंत्रायल के अतिरिक्त सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों और जिला अधिकारियों के पास रहेगा। योग दिवस के आयोजन के पूरा होने के तुरंत बाद सभी जिलों से आयोजन की तस्वीर तथा सभी अन्य दूसरी जरूरी सूचनाएं पोर्टल पर अपलोड करनी होगी ।मंत्रायल इस अवसर पर विज्ञान भवन में एक दो दिवसीय सेमिनार का आयोजित करेगा जिसमे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की शिरकत केंरगें। मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि भारत की पहल पर ही वैश्विक स्तर पर योग दिवस का आयोजन किया जा रहा है ऐसे में इसके प्रति लोगों मे आर्कषण और जागरुकता पैदा करना जरुरी है । इस काम के लिए मई महीने के अंतिम दिनों से ही योग के फायदे गिनाने बडे-बडे होर्डिंग्स, टीवी और समाचार पत्रो में विज्ञापन के जरिए जागरुकता पैदा की जाएगी जिसका जिम्मा विज्ञापन एवं दृश्य प्रचार निदेशाय के सुपूर्द किया गया है ।यहां तक कि जागरुकता एवं प्रचार-प्रसार के लिए पहले तय बजट को भी बता दिया । पहले इस काम में तकरीबन 6 करोड रूपए खर्च किए जाने का प्रावधान था लेकिन वित्त मंत्राय ने इसे बढकर इसके लिए 12 करोड रूपए कर दिया है। प्रधानमंत्री की खास दिलचस्पी को ध्यान में रखते हुए सभी मंत्रालय इसमे अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने में जुटा है । इस क्रम में संस्कृति मंत्रायल के सौजन्य से एक प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जाएगा जो 15 दिनों तक चलेग

Leave a Reply

%d bloggers like this: