Posted On by &filed under खेल, खेल-जगत.


शर्मनाक हार के बाद भारत की नजरें श्रृंखला जीतने पर

शर्मनाक हार के बाद भारत की नजरें श्रृंखला जीतने पर

आलोचना का शिकार भारतीय बल्लेबाज कल यहां वेस्टइंडीज के खिलाफ पांचवें और अंतिम एकदिवसीय मैच में पिछले मैच के लचर प्रदर्शन की भरपाई करते हुए श्रृंखला जीतने के इरादे से उतरेंगे।

भारत ने तीसरे वनडे में जब 190 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए पारी की शुरआत की थी तो माना जा रहा था कि टीम अपने शानदार बल्लेबाजी क््रम की बदौलत आसान जीत दर्ज करके श्रृंखला अपने नाम कर लेगी लेकिन टीम को अंतत: धीमी पिच पर 11 रन से शिकस्त का सामना करना पड़ा।

बल्लेबाजों में सबसे अधिक निशाने पर पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी आए जिन्होंने बेहद धीमी बल्लेबाजी की और 114 गेंद में 54 रन की पारी के दौरान 70 गेंद खाली खेली।

बड़ा शाट खेलने के अपने पहले प्रयास में ही वह नाकाम रहे और कैच थमा बैठे जिससे फिनिशर के रूप में उनकी भूमिका पर एक बार फिर सवाल उठने लगे हैं।

रविंद्र जडेजा भी खराब शाट खेलकर पवेलियन लौटे जिससे महत्वपूर्ण मौकों पर भारत के पुछल्ले बल्लेबाजों की नाकामी एक बार फिर उजागर हुई।

भारत के लिए अब तक शिखर धवन और अजिंक्य रहाणे की अगुआई वाले शीर्ष क््रम ने अधिकांश रन बनाए हैं और टीम इंडिया चाहेगी कि ये दोनों अपना बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखें। रहाणे श्रृंखला के चार मैचों में अब तक तीन अर्धशतक और एक शतक जड़ चुके हैं।

बल्लेबाजों के शाट चयन की आलोचना करने वाले कप्तान विराट कोहली अगर मध्य क््रम में बदलाव करते हैं तो किसी को हैरानी नहीं होगी।

चौथे एकदिवसीय में तीन साल से अधिक समय बाद भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले दिनेश कातर्कि प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे लेकिन टीम प्रबंधन के सिर्फ एक विफलता के बाद उन्हें बाहर करने की संभावना नहीं है।

( Source – PTI )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *