सरकार ने महिला खिलाड़ियों द्वारा आत्महत्या मामले में जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया

SAI_2398197gसरकार ने महिला खिलाड़ियों द्वारा आत्महत्या मामले में जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया
नई दिल्ली, । साईं प्रशिक्षण केंद्र में महिला खिलाड़ियों द्वारा आत्महत्या का प्रयास किए जाने की घटना को दुखद और दिल दहला देने वाली घटना बताते हुए केंद्र सरकार ने आज इस मामले में जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया ताकि भविष्य में ऐसी घटनाएँ नहीं हों। केरल के अलपुझा में भारतीय खेल प्राधिकरण के जल खेल क्रीड़ा केंद्र में छह मई को चार महिला खिलाड़ियों द्वारा आत्महत्या का प्रयास किए जाने के बाद एक खिलाड़ी की मौत की घटना के संबंध में खेल एवं युवा मामलों के मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने लोकसभा में एक बयान में कहा कि साई की प्रशिक्षण व्यवस्था को तत्काल सुदृढ़ किए जाने की जरूरत है। उन्होंने साथ ही कहा कि इस संबंध में साई के महानिदेशक की सिफारिशों को देखा जा रहा है। सोनोवाल की ओर से संसदीय कार्य राज्य मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने लोकसभा में यह बयान दिया।उन्होंने कहा,‘‘इस मामले में अभी कई अन्य जांच चल रही हैं जिसमें पुलिस जांच, जिला प्रशासन की जांच, राज्य खेल सचिव की जांच और राज्य मानवाधिकार आयोग की जांच शामिल हैं।’’ रूडी ने कहा, “इसलिए इस संबंध में कोई टिप्पणी करना उचित नहीं होगा। लेकिन अलपूझा की दिल दहलाने वाली और दुखद घटना से यह प्रतीत होता है कि साई प्रशिक्षण तंत्र को सुदृढ़ करने की अति आवश्यकता है।’’ उन्होंने बताया कि साई महानिदेशक ने इस संबंध में विस्तृत सुझाव दिए हैं जिनमें साई के सभी प्रशिक्षण केंद्रों में काउंसलिंग मनोवैज्ञानिकों की नियुक्ति करना, इन केंद्रों में योग को अनिवार्य कार्यकलाप के रूप में आरंभ करना, यौन उत्पीड़न मामलों की रिपोर्ट करने के लिए एक 24 घंटे की हेल्पलाइन शुरू करना आदि शामिल हैं।रूडी ने बताया कि साई महानिदेशक ने पूरे मामले में विभिन्न पक्षों से बातचीत करने के आधार पर तत्काल कार्रवाई के लिए कुछ फैसले किए हैं जिनमें प्रशिक्षु खिलाड़ियों की काउंसिलिंग के लिए मनोविज्ञान परामर्शदाताओं की नियुक्ति, उपचाराधीन तीनों लड़कियों का मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक पुनर्वास सुनिश्चित करने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि साई महानिदेशक ने हालात में सुधार के लिए कुछ प्रमुख सिफारिशें की हैं जिनमें प्रतिष्ठित खिलाड़ियों से साई के केंद्रों को अपनाने और प्रशिक्षुओं के मार्गदर्शकों के रूप में कार्य करने के लिए अनुरोध करना भी शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Captcha verification failed!
CAPTCHA user score failed. Please contact us!