राजस्थान की हर महिला सीएम -मुख्यमंत्री

download (5)राजस्थान की हर -मुख्यमंत्री
जयपुर,। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि राजस्थान की हर महिला मुख्यमंत्री है क्योंकि मैं मुख्यमंत्री हूं। मैं चाहती हूं कि प्रदेश में नारी शक्ति सशक्त होकर उभरे और आर्थिक रूप से मजबूत हो। इसके लिए सरकार संकल्प के साथ काम कर रही है। राजे सोमवार को बिड़ला आडिटोरियम में राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद् (राजीविका) के विस्तार कार्यक्रम को सम्बोधित कर रही थीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक महिला को पुरूष से दोगुना काम करने पर पहचान मिलती है लेकिन महिलाओं में इतनी ताकत है कि वे पूरे देश और प्रदेश की तस्वीर बदल सकती है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की महिला सशक्तीकरण की योजनाओं से राजस्थान निश्चित रूप से समृद्ध शिक्षित और सम्पन्न राज्य बनेगा। उन्होंने इस अवसर पर राजीविका के माध्यम से प्रशिक्षित 465 महिला संदर्भ व्यक्तियों (कम्यूनिटी रिसोर्स पर्सन) को राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों में गरीब महिलाओं के समूह गठित करने के लिये हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। ये सीआरपी महिलायें गरीब परिवार की महिलाओं के सशक्तीकरण का कार्य करेंगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि दिसम्बर, 2003 में जब वे प्रदेश की पहली मुख्यमंत्री बनीं तब पुरूष आगे-आगे चलते थे और उनके पीछे महिलाएं घूंघट निकाले, सिर पर पोटली और हाथ में बच्चा लिये चलती थीं, लेकिन अब वो स्थिति नहीं है। आज राजस्थान की महिलाएं भी घर में, समाज में और देश के विकास में हिस्सेदार बन गई है। यह सब उनके साहस का ही नतीजा है। श्रीमती राजे ने कहा कि महिलाएं आर्थिक रूप से सम्पन्न होती हैं तो उनकी पहचान बन जाती है। हम किसी से कम नहीं- राजे ने कहा कि महिलाओं को ये बात समझनी होगी कि हम किसी से कम नहीं हैं। हम ही हैं जो अपने परिवार को, अपने घर को खड़ा करती हैं, दिन रात मेहनत करती हैं। हम ही हैं जो हमारे प्रदेश की शक्ल बदल सकती हैं। आप सब महिलाएं यहां से मन में एक संकल्प लेकर जाएं कि हम किसी से पीछे नहीं रहने वाली। हम प्रदेश के विकास की हिस्सेदार हैं।नई दुनिया बनाना है- मुख्यमंत्री ने कहा कि अब महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए शिक्षा पर ध्यान देना होगा। बच्चियों को पढ़ाना होगा। उन्होंने कहा कि अपने पिछले कार्यकाल में हमने साइकिल व स्कूटी योजना, कक्षा 12 तक की बालिकाओं को मुफ्त शिक्षा मुफ्त किताबें देने की योजना शुरू की थी जो अभी भी चल रही हैं। इसके अलावा स्कूली छात्राओं के लिये रोडवेज की निःशुल्क यात्रा योजना, सेल्फ डिफेंस ट्रेनिंग योजना सहित कई योजनाएं चल रही हैं। उन्होंने कहा कि हम सब महिलाओं को अपनी शक्ति दिखानी होगी क्योंकि हमें नई दुनिया बनानी है।राजे ने कहा कि आज पूरे प्रदेश में चिकित्सकों की कमी है। ऐसे में पीएचसी और सीएचसी पर स्वयंसहायता समूह की महिलाओं को प्राथमिक उपचार का प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए ताकि वे अपने गांव में प्राथमिक उपचार कर सकें। वे चिकित्सकों का स्थान तो नहीं ले सकती लेकिन प्राथमिक उपचार कर तात्कालिक राहत तो प्रदान कर ही सकती हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजीविका के माध्यम से प्रशिक्षित ये 465 सीआरपी महिलाएं प्रदेशभर में जायेंगी और महिलाओं के बीच पहुंचकर उन्हें ताकतवर बनाने का काम करेंगी। इससे न केवल उनके परिवार बल्कि पूरे राजस्थान की जिन्दगी बदलेगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: