Posted On by &filed under बिहार, राष्ट्रीय.


बिहार में बाढ़ से 72 की मौत, 14 जिलों की 73.44 लाख आबादी प्रभावित

बिहार में बाढ़ से 72 की मौत, 14 जिलों की 73.44 लाख आबादी प्रभावित

पडोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आयी बाढ़ से प्रदेश में अब तक 72 लोगों की मौत हो जाने के साथ बाढ से 14 जिलों की 73.44 लाख आबादी प्रभावित हुई है ।

आपदा प्रबंधन विभाग के विशेष सचिव अनिरुद्ध कुमार ने बताया कि बाढ प्रभावित प्रदेश के 14 जिलों किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सीतामढी, शिवहर, गोपालगंज, सुपौल एवं मधेपुरा में से सबसे अधिक 20 लोग अररिया में, सीतामढी में 11, पश्चिमी चंपारण में 9, किशनगंज में 8, मधुबनी एवं पूर्णिया में 5—5, मधेपुरा एवं दरभंगा में 4—4, पूर्वी चंपारण में 3, शिवहर 2 और सुपौल में एक व्यक्ति की मौत हुई है।

उन्होंने बताया कि बाढ़ के कारण इन 14 जिलों के 110 प्रखंड और 1,151 पंचायत प्रभावित हुए हैं और कुल 73.44 लाख आबादी प्रभावित हुई है।

राज्य सरकार के द्वारा बाढ़ में घिरे लोगों को सुरक्षित निकाले जाने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। अब तक 2.74 लाख लोगों को बाढ प्रभावित इलाके से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है और 504 राहत शिविरों में 1.16 लाख व्यक्ति शरण लिए हुए हैं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के साथ बाढ प्रभावित बेतिया एवं वाल्मीकिनगर का हवाई सर्वेक्षण करने वाले थे। खराब मौसम के कारण उडान नहीं भर सके, पर वे बाढ की स्थिति और बाढ पीडितों के लिए चलाए जा रहे राहत एवं बचाव कार्यों की निगरानी और उसके बारे में वरिष्ठ अधिकारियों से जानकारी प्राप्त करने के साथ आवश्यक निर्देश देते रहे।

आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बाढ प्रभावित जिलों के अधिकारियों से जानकारी प्राप्त कर उन्हें जरूरी निर्देश दिए।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने बाढ पीडितों के लिए अपनी पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री राहत कोष में 11 लाख रूपये का चेक प्रदान किया।

बाढ के कारण आज भी रेल सेवाएं बाधित रहीं।

पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने कहा कि बाढ के कारण कई रेल खंडों पर ट्रेनों का परिचालन आज भी पूरी तरह बाधित रहा।

उन्होंने बताया कि इसमें समस्तीपुर रेल मंडल का मोतीहारी-वाल्मीकिनगर रेल खंड शामिल है। नरकटियागंज यार्ड, चामुआ-नरकटियागंज रेल खंड, नरकटियगंज-साथी रेल खंड और सेमारा यार्ड में पानी पटरी के ऊपर बह रहा है।

समस्तीपुर रेल मंडल अंतर्गत सीतामढ़ी-रक्सौल रेल खंड के छौडादनो-आदापार रेलवे स्टेशन और कुंडवा चैनपुर-बैरग्निया रेलवे स्टेशन के बीच पटरी पर बाढ का पानी आ गया है।

समस्तीपुर रेल मंडल अंतर्गत ही सुगौली-रक्सौल रेल खंड के सुगौली यार्ड, रक्सौल यार्ड और रक्सौल-रामगढ़वा रेलवे स्टेशन के बीच बाढ का पानी पटरी के ऊपर से बह रहा है।

राजेश ने बताया कि समस्तीपुर रेल मंडल के दरभंगा-सीतामढ़ी रेल खंड जनकपुर रोड-बजापट्टी रेलवे स्टेशन और कामतौल-जोगियारा रेलवे स्टेशन के बीच रेल पटरी पर पानी बह रहा है।

उन्होंने बताया कि पानी के पटरी के उपर से गुजरने के कारण इन रेल खंडों से गुजरने वाली ट्रेनों को या तो रद्द कर दिया अथवा उनके परिचालन को संक्षिप्त किया गया।

आज रद्द की गई ट्रेनों में 19305 इंदौर गुवाहाटी एक्सप्रेस ट्रेन, 13163 सियालदह सहरसा हैती बज़ारे एक्सप्रेस ट्रेन, 13164 सहरसा सियालदाह बज़ारे एक्सप्रेस ट्रेन शामिल हैं।

13248/13246 राजेंद्र नगर (पटना) न्यू जलपाईगुड़ी एक्सप्रेस ट्रेन अब कटिहार तक ही जाएगी।

( Source – PTI )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *