ममता के खिलाफ बयान की केंद्र ने की निंदा

की युवा शाखा के एक नेता द्वारा की मुख्यमंत्री का सिर काट कर लाने वाले को 11 लाख रूपये का इनाम देने संबंधी कथित बयान की आज राज्यसभा में सरकार ने निंदा की और कहा कि राज्य सरकार इस मुद्दे पर समुचित कानूनी कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है।

उच्च सदन की बैठक शुरू होने पर के सुखेन्दु शेखर राय ने यह मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि सत्ताधारी दल के एक कार्यकर्ता ने अत्यंत आपत्तिजनक बयान दिया है। उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को ‘‘राक्षस’’ बताया और उनका सर काट कर लाने वाले को 11 लाख रूपये का इनाम देने का ऐलान किया है।

उन्होंने सदन और सरकार से इस बयान की निंदा करने की मांग करते हुए कहा कि इस पर तत्काल संज्ञान लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह और उनकी पार्टी एक निर्वाचित मुख्यमंत्री के खिलाफ दिए गए इस तरह के बयान की निंदा करते हैं।

राय ने कहा ‘‘संवैधानिक तौर पर निर्वाचित मुख्यमंत्री को राक्षस बताया जाना विकृत मानसिकता का परिचायक है।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार पश्चिम बंगाल में धर्म और अन्य बातों के नाम पर आतंक का राज स्थापित करने के लिए प्रयासरत है।

संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा ‘‘मैं इस तरह के बयान की कड़े शब्दों में निंदा करता हूं। राज्य सरकार इस मुद्दे पर समुचित कानूनी कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है।’’ उप सभापति पी जे कुरियन ने कहा कि राज्य सरकार एक प्राथमिकी दर्ज करा सकती है और कार्रवाई की जा सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों की कार्रवाइयों को कानून के दायरे में लाया जा सकता है। ‘‘प्राथमिकी दर्ज करानी चाहिए। कानून अपना काम करेगा।’’

( Source – PTI )

Leave a Reply

%d bloggers like this: