उ. प्र. में भाजपा की आंधी, बचने के लिये एकजुट हो रहे हैं विरोधी : मोदी

उ. प्र. में भाजपा की आंधी, बचने के लिये एकजुट हो रहे हैं विरोधी : मोदी
उ. प्र. में भाजपा की आंधी, बचने के लिये एकजुट हो रहे हैं विरोधी : मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज उत्तर प्रदेश में भाजपा की आंधी चलने का दावा करते हुए कहा कि संसद में भाजपा के और मजबूत होने के डर से विरोधी उसके खिलाफ एकजुट हो रहे हैं।

मोदी ने यहां आयोजित चुनावी रैली में सपा अध्यक्ष मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कांग्रेस से गठबंधन पर तंज कसते हुए कहा ‘‘यहां एक प्रकार से केसरिया सागर मेरे सामने उफान भर रहा है। जब आंधी तेज होती है तो छोटी उमर का इंसान भी उस आंधी में टिक नहीं पाता, इसलिये वह कोई सहारा ढूंढता है। इस बार भाजपा की आंधी इतनी तेज है कि यहां के मुख्यमंत्री किसी को भी पकड़ लेते हैं। वह और लोगों को पकड़ने में लगे हैं, लेकिन यह आंधी उनको ना टिकने देगी, ना बचने देगी।’’ नोटबंदी के कदम का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वह ऐसे-ऐसे पेंच कस रहे हैं कि विपक्षी तिलमिला उठे हैं। राजनीतिक दलों का गुस्सा अभी जितना नजर आता है, वह पहले कभी नहीं था। वे मोदी को पराजित करने के लिये एकजुट हो रहे हैं।

मोदी ने कहा ‘‘वे चुनाव जीतने के लिये नहीं आये हैं, बल्कि इस डर से एकजुट हो रहे हैं कि अगर वे अलग-अलग रहे तो राज्यसभा में भी मोदी का बहुमत हो जाएगा तो वह ऐसे कानून बनाएगा कि चोर लुटेरों को जगह नहीं मिलेगी।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि तीन मजबूत खम्भों पर विकास की मजबूत इमारत बनेगी। उनकी नजर में विकास के ‘वि’ का अर्थ विद्युत से है, ‘का’ का मतलब कानून-व्यवस्था और ‘स’ का अर्थ सड़क से है। इन तीन खम्भों पर विकास की भव्य इमारत बनायी जा सकती है।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता परिवर्तन चाहती है। भाजपा की लड़ाई नौजवानों, छोटे कारोबारियों, किसानों के न्याय के लिये है।

मोदी ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश सरकार को विकास से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा की गयी भर्तियों में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि लखनउ में भाजपा सरकार बनने के बाद एक एक नौजवान को न्याय दिलाने के लिये हम कानूनी प्रक्रिया अपनाएंगे।

( Source – PTI )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

* Copy This Password *

* Type Or Paste Password Here *

Captcha verification failed!
CAPTCHA user score failed. Please contact us!