चार प्रवाह न्यास’ ने राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन

न्याय, चिकित्सा, शिक्षा, अध्यात्म, सामाजिक क्षेत्र सहित भारतीय प्रशासन सेवा से सेवानिवृत्त अधिकारियों ने ज्ञापन पर किये हैं हस्ताक्षर

भोपाल। मध्यप्रदेश के कई संवेदना युक्त नागरिकों का प्रतिनिधित्व करते हुए ‘विचार प्रवाह न्यास’ के सदस्यों ने गुरुवार को बंगाल में चुनाव नतीजों के बाद हो रही रक्तरंजित हिंसा को रोकने हेतु राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा है। इस ज्ञापन न्याय, चिकित्सा, शिक्षा, अध्यात्म, सामाजिक क्षेत्र सहित भारतीय प्रशासन सेवा से सेवानिवृत्त अधिकारियों ने हस्ताक्षर किये हैं।

न्यास ने ज्ञापन के माध्यम से अनुरोध किया है कि राष्ट्रपति बंगाल के शासन, प्रशासन को तत्काल राजनैतिक हिंसा रोकने हेतु निर्देशित करें तथा राज्य सरकार बंगाल में तुरंत शांति एवं सद्भाव की स्थापना सुनिश्चित करें। ज्ञापन के माध्यम से समाज के प्रमुख लोगों ने मांग की है कि दंगे करने वाले सभी असामाजिक तत्वों को न्याय की परिधि में लाया जाये और उनपर कड़ी कार्यवाही हो। इसके साथ इस हिंसा में मारे गए सभी को उचित मुआवजा मिले।

ज्ञापन में न्यास ने महिलाओं के साथ हो रही हिंसा को भी प्रमुखता से उठाया है। उन्होंने कहा है कि इस हिंसा में बड़ी संख्या में महिलाएं शिकार हुई हैं। तृणमूल कांग्रेस के विजय के अवसर पर, तृणमूल के गुंडों ने महिलाओं पर अत्याचार किये, सामूहिक बलात्कार किये, वह भी तब जब उनकी महिला नेता पुनः मुख्यमंत्री बनने जा रही थी। अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि शांति निकेतन जल रहा है, गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर का बंगाल जल रहा है, गुरुदेव रविन्द्रनाथ की विरासत का दावा करने वाले ही गुरुदेव का उपहास उड़ा रहे हैं, उनका अपमान कर रहे हैं। ज्ञापन में बताया गया कि बंगाल से मिली जानकारी के अनुसार चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद मात्र कुछ घंटों में 14 लोगों की हत्याएं हो गयीं थी। अगले कुछ दिनों में यह संख्या 26 तक पहुँच गई। अनेक लोग घर विहीन हो गए। उनके घर या तो जला दिए गए या नष्ट कर दिए गए। अनेक लोगों को अपना घर छोड़कर पडोसी राज्यों में शरणार्थी बनकर जाना पड़ा। यह दुर्भाग्यपूर्ण स्थितियां हैं।

ज्ञापन सौंपने के लिए मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग के पूर्व अध्यक्ष श्री अशोक पांडेय, प्रख्यात न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. सुनील मलिक, सुप्रसिद्ध हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश सेठी और उद्योगपति श्री दीपक शर्मा ने राज्यपाल महोदया से भेंट की। ज्ञापन स्वीकार कर राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल ने भी बंगाल हिंसा से ग्रस्त परिवार एवं मृत दिव्यांग आत्माओं के प्रति संवेदना व्यक्त की और ज्ञापन को राष्ट्रपति तक पहुँचाने का आश्वासन दिया।

ज्ञापन का समर्थन मध्य प्रदेश के कई गणमान्य नागरिकों ने किया है, जिनमें करुणाधाम आश्रम के संस्थापक पूजनीय सुदेश शांडिल्य महाराज जी, श्री बीआर नायडू, श्री राकेश श्रीवास्तव, श्री अरुण भट्ट, श्री एसएस उप्पल, श्री वेदप्रकाश शर्मा, श्री एसके राउत और रमेश के. दवे सहित अन्य महानुभाव शामिल हैं।

भवदीय

(डॉ. विश्वास चौहान)

Leave a Reply

91 queries in 0.232
%d bloggers like this: