चित्तौड़गढ़ में जिलास्तरीय ऋण माफी एवं रहन मुक्ति प्रमाण पत्र वितरण समारोह, 800 ऋणियों को 9.45 करोड़ से अधिक की ऋण माफी, सहकारिता मंत्री ने ऋण माफी व रहन मुक्ति प्रमाण पत्र वितरित किए, सहकारिता से जुड़कर राजस्थान को अग्रणी पहचान दिलाएं – उदयलाल आँजना

चित्तौड़गढ़, 26 अगस्त/ सहकारिता एवं इन्दिरा गांधी नहर परियोजना मंत्री उदयलाल आँजना ने कहा है कि राजस्थान को सहकारिता के क्षेत्र में अग्रणी प्रदेश बनाए जाने के लिए सरकार द्वारा भरसक प्रयास किए जा रहे हैं और इससे सहकारिता जगत को सुदृढ़ स्वरूप प्राप्त हुआ है।

       उन्होंने किसानों से आहवान किया कि वे सहकारिता से जुड़ें और सहकारी योजनाओं एवं कार्यक्रमों का पूरा-पूरा लाभ प्राप्त कर तकदीर सँवारें तथा सहकारिता के माध्यम से सुख-समृद्धि एवं खुशहाली लाने के प्रयासों में अपनी समर्पित भागीदारी अदा करें।

       सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने सोमवार को चित्तौड़गढ़ जिला मुख्यालय पर इन्दिरा गांधी प्रियदर्शिनी ऑडिटोरियम में चित्तौड़गढ़ सहकारी भूमि विकास बैंक लिमिटेड की ओर से राजस्थान कृषक माफी-2019 के अन्तर्गत आयोजित जिलास्तरीय ऋण माफी एवं रहन मुक्ति प्रमाण पत्र वितरण समारोह में मुख्य अतिथि पद से संबोधित करते हुए बड़ी संख्या में उपस्थित किसानों से यह आह्वान किया।

      दीप प्रज्वलन से हुई शुरूआत

       समारोह की अध्यक्षता जिला कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार ने की जबकि पूर्व विधायक सुरेन्द्रसिंह जाड़ावत, समाजसेवी मांगीलाल धाकड़ व जिला परिषद की मुख्य कार्यकारी अधिकारी नम्रता वृष्णि विशिष्ट अतिथि थे। इस अवसर पर भूमि विकास बैंक के अध्यक्ष कमलेश पुरोहित एवं सचिव सौरभ शर्मा, उपखण्ड अधिकारी विनोद कुमार, तहसीलदार अशोक शाह, कपासन के प्रधान भैरूलाल जाट सहित जनप्रतिनिधिगण, विभिन्न विभागों के अधिकारीगण, सहकारिता से संबंधित अधिकारी एवं कार्मिक तथा कृषकों के परिवारजन उपस्थित थे। सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने समारोह का शुभारंभ सरस्वती की तस्वीर के सम्मुख दीप प्रज्वलित कर किया।

      800 ऋणियों को 9 करोड़ 45 लाख से अधिक के ऋण माफ

       सहकारिता मंत्री ने चित्तौड़गढ़ जिले के मध्यकालीन एवं दीर्घकालीन ऋण से संबंधित जिले के 800 पात्र ऋणियों के 9 करोड़ 45 लाख 61 हजार रुपए धनराशि के ऋण माफी एवं रहन मुक्ति प्रमाण पत्र वितरण कार्य की शुरूआत की तथा सहकारी बैंक की विभिन्न शाखाओं से संबंधित किसानोें को इन प्रमाण पत्रों का वितरण किया।

      4.56 लाख लाभांश का चैक भेंट

       समारोह में बैंक द्वारा वर्ष 2017-18 की राजकीय हिस्सा पूंजी पर देय लाभांश राशि 4 लाख 56 हजार 250 रुपए का चैक राज्य सरकार को देने के लिए बैंक अध्यक्ष कमलेश पुरोहित एवं सचिव सौरभ शर्मा ने सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना को प्रदान किया।

      10 लाख का बीमा क्लेम प्रदान

       सहकारिता मंत्री ने राज सहकार व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना के अन्तर्गत बड़ी सादड़ी बैंक शाखा के बीमित ऋणी सदस्य स्व. पूरणमल जणवा के वारिस पारसमल जणवा को 10 लाख रुपए की धनराशि का चैक बीमा क्लेम के रूप में प्रदान किया।

      निर्वाचन प्रमाण पत्र प्रदान किए

       सहकारिता मंत्री ने इस अवसर पर चित्तौड़गढ़ सहकारी भूमि विकास बैंक लि. की निम्बाहेड़ा शाखा के संचालक भैरूलाल मीणा, हीरालाल धाकड़, घनश्यामसिंह राजपूत एवं मांगू गुर्जर को लघु निकाय प्रतिनिधि निर्वाचन प्रमाण पत्र प्रदान किया।

सरकार ने दी ऎतिहासिक राहत

सहकारिता मंत्री ने कहा कि घोषणा पत्र में किये वादे के अनुसार नई सरकार के शपथ लेने के 48 घंटे में ही ऋण माफी योजना लागू कर दी गई। जो लोग वास्तविक रूप से ऋण चुकाने में असमर्थ थे उनका ऋण माफ कर उनकी भूमि को बैंक से रहन मुक्त कर ऋणी सदस्यों को राहत प्रदान की गई। पहले पहल ऋण माफी की घोषणा केवल केन्द्रीय सहकारी बैंक के फसली ऋण माफ करने तक ही सीमित थी लेकिन किसानों के हित में सरकार ने पहल की और अब भूमि विकास बैंकों को भी ऋण माफी योजना में सम्मिलित किया गया है। इसी का परिणाम है कि किसानों को लाभ मिला है।

      मुख्यमंत्री का जताया आभार

       सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने किसानों की ऋण माफी योजना के सूत्रपात एवं पारदर्शी ढंग से बेहतर क्रियान्वयन के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार जताया और कहा कि उन्होंने किसानों सुख-चैन की नई जिन्दगी का अहसास कराया है। मुख्यमंत्री ने इस योजना के जरिये किसानों की चिन्ताओं को समाप्त करने के साथ ही बैंकों की भी मदद की है और इस दृष्टि से यह योजना दो तरफा सफलता दर्शा रही है। इस योजना से प्रदेश के 21 लाख किसानों को फायदा पहुंचा है।

      अधिक से अधिक संख्या में सहकारिता से जुड़ें

       सहकारिता मंत्री ने बताया कि प्रदेश में केन्द्रीय सहकारी बैंक द्वारा नए सदस्यों को भी फसली ऋण मुहैया कराया जा रहा है। उन्होंने किसानों से कहा कि वे अधिक से अधिक संख्या में सहकारिता से जुड़कर ऋण आवेदन कर लाभ पाएं तथा राजस्थान को सहकारिता के क्षेत्र में अग्रणी पहचान दिलाने के प्रयासों में सहभागिता निभाएं। उन्होंने कहा कि राजस्थान मेंं जनभावनाओं के अनुरूप बहुआयामी विकास किया जा रहा है और मुख्यमंत्री की मंशा के अनुसार किसान कल्याण का कार्य सर्वोच्च प्राथमिकता पर है।

      देश की खुशहाली के लिए किसानों का सुखी और समृद्ध होना जरूरी

       पूर्व विधायक सुरेन्द्रसिंह जाड़ावत ने किसानों के कल्याण के लिए राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की और कहा कि कर्ज माफी के  बारे में जो वादा किया गया था उसे पूरा कर दिखाया है। उन्होंने कहा कि देश की खुशहाली के लिए किसानों को सुखी एवं समृद्ध होना जरूरी है और इसके लिए यह जरूरी है कि किसानों को उनकी हर पैदावार और उत्पादों का अच्छा मूल्य मिले ताकि उन्हें ऋण लेने की विवशता ही नहीं रहे। जाड़ावत ने विदेशों से खाद्यान्न, तेल आदि के आयात को रोकने पर जोर दिया और कहा कि ऎसा हो जाने पर देश के किसानों को उनकी उपज के अच्छे भाव मिलने लगेंगे और स्थानीय खेती-बाड़ी को प्रोत्साहन प्राप्त होगा।

      जिला कलक्टर ने किसानों को दी बधाई

       समारोह की अध्यक्षता करते हुए जिला कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार ने ऋण माफी का लाभ पाने वाले सभी किसानों को बधाई दी और कहा कि सरकार ने ऋण माफी योजना का बेहतर ढंग से पारदर्शी निराकरण किया है और इसी का परिणाम है कि इस बारे में कहीं से कोई शिकायत नहीं मिली है।

जिला कलक्टर ने राज्य सरकार की ऋण माफी योजना में आने वाले ऋणी सदस्यों की त्वरित गति से कार्यवाही कर योजना का लाभ दिलाने के लिए सभी संबंधितों की सराहना की।

      बैंक अध्यक्ष एवं सचिव ने दिया प्रगति विवरण

       बैंक अध्यक्ष कमलेश पुरोहित एवं सचिव सौरभ शर्मा ने स्वागत भाषण प्रस्तुत करते हुए बैंक की प्रगति और उपलब्धियों पर जानकारी दी और बताया कि बैंक हर क्षेत्र में अव्वल पहचान रखता है। उन्होंने किसानों के हितों की रक्षा के लिए बैंक के प्रयासों के साथ ही आंकड़ों का हवाला देते हुए चित्तौड़गढ़ सहकारी भूमि विकास बैंक लि. की प्रगति पर विस्तार से जानकारी दी। आरंभ में भूमि विकास बैंक के अध्यक्ष कमलेश पुरोहित एवं सचिव सौरभ शर्मा ने अतिथियों का पुष्पहार,शॉल-पगड़ी, प्रतीक चिह्न से स्वागत किया।

अनुदान योजना पुनः लागू हो, ऋण वितरण प्रक्रिया बने सरल

बैंक के अध्यक्ष कमलेश पुरोहित ने  सहकारिता मंत्री से बैंक में नियमित रूप से ऋणों का चुकारा करने वाले सदस्यों को 5 प्रतिशत ब्याज अनुदान योजना पुनः लागू करने एवं ऋण वितरण की प्रक्रिया को सरल बनाने का आग्रह किया।

उन्होंने बताया कि राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना-2019 के अन्तर्गत चित्तौड़गढ़ जिले में कुल 800 पात्र ऋणियों के 9 करोड़ 45 लाख 61 हजार रुपए के ऋण माफ किए जाएंगे। इनमें से बैंक द्वारा अब तक 772 पात्र ऋणियों के खातों में 938.50 लाख रुपए की माफी कर ऋण खाते बन्द कर 860.28 हैक्टर भूमि रहन मुक्त कर दी गई है।

बेहतर उपलब्धियों की ओर अग्रसर है बैंक

बैंक के सचिव सौरभ शर्मा ने बताया कि वर्ष 2018-19 में बैंक द्वारा राज्य में सबसे अधिक 3180.42 लाख रुपये का ऋण वितरण कर जिले के 937 किसानों को लाभान्वित किया गया है। वर्ष 2019-20 में माह जुलाई 19 तक 253 किसानों को 760.64 लाख रुपए का ऋण वितरण किया गया है। वर्ष 2017-18 में 80.63 प्रतिशत व वर्ष 2018-19 में 82.65 प्रतिशत ऋण वसूली कर राज्य में प्रथम स्थान प्राप्त किया गया है। वर्ष 2018-19 में बैंक का शुद्ध लाभ 75 लाख एवं संचित लाभ 463.00 लाख रहा है। यह बैंक प्रतिवर्ष अपने सदस्यों को लाभांश वितरण कर रहा है।

       समारोह का संचालन बैंक के सहायक सचिव दिनेश कुमार खत्री एवं आभार प्रदर्शन लक्ष्मीलाल चण्डालिया ने किया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: