भारत के महिला युवा विश्व मुक्केबाजी में पांच पदक पक्के

भारत के महिला युवा विश्व मुक्केबाजी में पांच पदक पक्के
के

भारतीय मुक्केबाज में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की ओर हैं जिन्होंने यहां क्वार्टरफाइनल के दिन तीन पदक अपने सुनिश्चित दो पदकों में जोड़ लिये।

ज्योति गुलिया (51 किग्रा), शशि चोपड़ा (57 किग्रा) और अंकुशिता बोरो (64 किग्रा) ने अपनी अपनी क्वार्टरफाइनल बाउट जीतकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया।

नेहा यादव (प्लस 81 किग्रा) और अनुपमा (81 किग्रा) ने अपने वजन वर्गों में ड्रा में कम मुक्केबाजों के कारण अंतिम चार में पहुंचकर पदक पक्का किया था।

हालांकि निहारिका गोनेला (75 किग्रा) इंग्लैंड की जार्जिया ओकोनोर से हारकर पदक की दौड़ से बाहर हो गयीं।

अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्वर्ण पदकधारी ज्योति रिंग पर उतरने वाली पहली भारतीय थी, जिन्होंने इटली की जियोवाना मार्चेसे को 5-0 से शिकस्त दी। वह तीनों दौर में आक्रामक रहीं।

अगली मुक्केबाज शशि थीं, जिन्होंने दसवीं वरीय कजाखस्तान की संदुगाश अबिखान को 5-0 से ही पराजित किया। हालांकि यह स्कोर की तरह इतना आसान मुकाबला नहीं रहा।

दो बार की अंतरराष्ट्रीय रजत पदकधारी अंकुशिता को इटली की रेबेका निकोली के खिलाफ अन्य बाउट के मुकाबले कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। लेकिन फिर भी यह भारतीय जीत दर्ज करने में सफल रही।

भारत ने इस प्रतियोगिता के पिछले चरण में महज एक कांस्य पदक जीता था और 2011 के बाद से एक भी स्वर्ण पदक नहीं जीता है।

( Source – PTI )

Leave a Reply

%d bloggers like this: