Posted On by &filed under आर्थिक.


सरकार ने खाद्य प्रसंस्करण योजना का नाम बदलकर प्रधानमंत्री किसान संपदा किया

सरकार ने खाद्य प्रसंस्करण योजना का नाम बदलकर प्रधानमंत्री किसान संपदा किया

मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति (सीसीईए) ने नई केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण योजना संपदा का नाम प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना (पीएमकेएसवाई) किये जाने को आज मंजूरी दे दी। इसका मकसद 2020 तक 20 लाख किसानों को लाभ पहुंचाना तथा 5.30 लाख रोजगार सृजित करने हैं।

पीएमकेएसकेवाई का मकसद प्रसंस्करण को बढ़ावा देकर और कृषि उपज की बर्बादी कम कर कृषि क्षेत्र को राहत उपलब्ध कराना है।

योजना के लिये 6,000 करोड़ रुपये आबंटित किये गये हैं। इससे 31,400 करोड़ रुपये का निवेश आने का अनुमान है।

उल्लेखनीय है कि मई में सीसीईए ने केंद्रीय योजना संपदा (स्कीम फार एग्रो-मैरीन प्रोसेसिंग एंड डेवलपमेंट आफ एग्रो प्रोसेसिंग कलस्टर) को मंजूरी दी। इसमें खाद्य प्रसंस्कण से संबद्ध सभी योजना को जोड़ा गया था।

बयान के अनुसार सीसीईए ने योजना संपदा का नाम बदलकर पीएमकेएसवाई करने को मंजूरी दे दी। यह 2016-20 के लिये है।

पीएमकेएसवाई घरेलू बाजार और निर्यात मकसद से प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों की उपलब्धता बढ़ाने के लिये खाद्य प्रसंस्करण इकाई लगाने को बढ़ावा देगी। योजना खेतों से खुदरा दुकानों तक के लिये कुशल आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन के साथ आधुनिक ढांचागत सुविधा तैयार करने में प्रोत्साहित करेगी। इससे न केवल किसानों को बेहतर कीमत मिलेगी बल्कि रोजगार के अवसर भी सृजित होंगे।

( Source – PTI )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *