सर्वाधिक दोहरे शतक जड़ने वाले कप्तान बने कोहली, लारा को पीछे छोड़ा

सर्वाधिक दोहरे शतक जड़ने वाले कप्तान बने कोहली, लारा को पीछे छोड़ा
सर्वाधिक दोहरे शतक जड़ने वाले कप्तान बने कोहली, लारा को पीछे छोड़ा

भारतीय कप्तान विराट कोहली श्रीलंका के खिलाफ तीसरे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन श्रृंखला का लगातार दूसरा दोहरा शतक लगाते ही टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक दोहरे शतक जड़ने वाले कप्तान बन गए।

कोहली ने श्रीलंका के तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल की गेंद पर पुल शाट से दो रन बटोरकर 238 गेंद में दोहरा शतक पूरा किया।

कोहली के नाम पर अब छह दोहरे शतक हो गए हैं जो सभी उन्होंने कप्तान के रूप में जड़े हैं। भारतीय कप्तान ने वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज ब्रायन लारा को पीछे छोड़ा जिनके नाम पर कप्तान के रूप में पांच दोहरे शतक दर्ज थे।

कोहली इसके अलावा इस पारी के दौरान 231 रन बनाते ही न्यूजीलैंड के बर्ट सुटक्लिफ फिरोजशाह कोटला पर नाबाद 230 रन के सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर के 62 साल पुराने रिकार्ड को भी तोड़ने में सफल रहे। बर्ट ने दिसंबर 1955 में भारत के खिलाफ यह पारी खेली थी।

भारतीय कप्तान ने जैसे ही 234 रन बनाए वह इस साल टेस्ट क्रिकेट में 1000 रन पूरे करने वाले सिर्फ चौथे बल्लेबाज बने। उनके पहले इस साल दक्षिण अफ्रीका के डीन एल्गर, श्रीलंका के दिमुथ करूणारत्ने और भारत के चेतेश्वर पुजारा यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं।

कोहली ने 236 रन बनाने ही टेस्ट क्रिकेट में 235 रन के अपने पिछले सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत स्कोर के रिकार्ड को पीछे छोड़ा।

कोहली ने इसके साथ ही भारत की ओर से सर्वाधिक दोहरे शतक के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और पूर्व आक्रामक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के रिकार्ड की भी बराबरी कर ली। तेंदुलकर और सहवाग ने छह-छह बार 200 रन से अधिक की पारियां खेली हैं। सहवाग की इन छह पारियों में हालांकि दो तिहरे शतक भी शामिल हैं।

टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक 12 दोहरे शतक जड़ने का रिकार्ड आस्टेलिया के महान बल्लेबाज डान ब्रेडमैन के नाम दर्ज हैं। ब्रेडमैन के अलावा श्रीलंका के कुमार संगकारा (11) और महेला जयवर्धने (सात), लारा (नौ) तथा इंग्लैंड के वाली हैमंड (सात) ने ही टेस्ट क्रिकेट में कोहली से अधिक दोहरे शतक जड़े हैं।

कोहली साथ ही टेस्ट क्रिकेट में लगातार दो दोहरे शतक जड़ने वाले दूसरे भारतीय और दुनिया के सिर्फ पांचवें बल्लेबाज बने। भारत की ओर से विनोद कांबली ने 1993 में इंग्लैंड के खिलाफ मुंबई में 224 और जिंबाब्वे के खिलाफ दिल्ली में 227 रन की पारी खेलकर यह उपलब्धि हासिल की थी।

ब्रेडमैन तीन बार यह कारनामा कर चुके हैं जबकि हैमंड और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ ने एक-एक बार ऐसा किया है।

( Source – PTI )

Leave a Reply

27 queries in 0.195
%d bloggers like this: