जलवायु चिंताओं का वार, झेल रहा है LNG बाज़ार

अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (IEA) की नेट-ज़ीरो रिपोर्ट के मद्देनज़र LNG (लिक्विफाइड नैचुरल गैस) के लिए निवेश का माहौल बदल चुका है। इस बात की तसदीक़ करती है ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर की नवीनतम वार्षिक LNG रिपोर्ट, जिसके अनुसार, महामारी से उबरने के बावजूद दुनिया के कुछ हिस्सों में कुल नियोजित LNG आपूर्ति का लगभग 38% महत्वपूर्ण निवेश निर्णयों या फिर अन्य गंभीर अड़चनों का सामना कर रही है।

सरल शब्दों में कहें तो निवेशक LNG परियोजनाओं से मूंह मोड़ रहे हैं क्योंकि उन्हें इसमें उज्ज्वल भविष्य की सम्भावनाएं कम दिख रही हैं। LNG से जुड़े मीथेन एमिशन और अन्य जलवायु-सम्बन्धित नुकसानों के चलते इससे हरित ऊर्जा का तमगा लगभग छिन ही चुका है। IEA की रिपोर्ट में तो आने वाले वर्षों में गैस की मांग में उल्लेखनीय गिरावट और रिन्यूएबल ऊर्जा के माध्यम से बिजली क्षेत्र के पूर्ण डीकार्बोनाइज़ेशन के लिए एक वैश्विक बदलाव को रेखांकित किया गया है।

इसी क्रम में अब ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर की रिपोर्ट से पता चलता है कि यूरोप में LNG परियोजनाओं को गैस के जलवायु प्रभाव पर चिंताओं के कारण वित्तीय चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच, अमेरिका जैसे प्रमुख क्षेत्रों में क़तर और रूस से सस्ती आपूर्ति की वजह से निर्यात में कमी आ रही है, और यह दोनों ही LNG बाजार हिस्सेदारी में आक्रामक वृद्धि की योजना बना रहे हैं।

रिपोर्ट की प्रमुख लेखक, लिडिया प्लांट, ने कहा, “ये परियोजनायें इतनी बड़ी हैं कि निवेशकों को समझ आ रहा है कि इनमें नुक्सान झेलना आसान नहीं होगा।”

पिछले एक साल में, केवल एक LNG परियोजना ही अनुकूल वित्तीय फ़ैसले तक पहुँच पायी है। कोविड-19 की वजह से लागत में वृद्धि वैसे ही हो चुकी है क्योंकि कई जगह कुछ काम ही नहीं हो पाया।

ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर ने आज तरल प्राकृतिक गैस (LNG) टर्मिनल परियोजनाओं के विश्वव्यापी सर्वेक्षण के परिणाम जारी किए। रिपोर्ट, “नर्वस मनी: ग्लोबल LNG टर्मिनल अपडेट 2021,” के हाइलाइट्स निम्नलिखित हैं:

· कोविड रिकवरी के बावजूद, कुल मिलाकर 265 मिलियन टन प्रति वर्ष (MPTA) क्षमता वाले कम से कम 26 LNG निर्यात टर्मिनलों ने अंतिम निवेश निर्णय (FID) में देरी या अन्य गंभीर व्यवधान की रिपोर्ट जारी रखी है – दुनिया भर में डिवेलप की जा रही निर्यात क्षमता के 700 MTPA का 38%।

· विद्रोहियों के हमले के बाद मोज़ाम्बिक LNG टर्मिनल एक उदाहरण बन गया और इस घटना से अरबों डॉलर की कीमत वाले टर्मिनलों की भेद्यता को उजागर किया है।

· लागत में बढ़ती वृद्धि, समय-निर्धारण में देरी, और खराबी की ऊंची दर जिसने LNG क्षेत्र को त्रस्त किया, पिछले एक साल में कोविड से संबंधित कार्यबल व्यवधान द्वारा और बढ़ गए।

· एक समय पर संभावित जलवायु समाधान के रूप में माना जाने वाला, LNG क्षेत्र को, विशेष रूप से यूरोपीय खरीदारों के लिए, तेज़ी से जलवायु समस्या के रूप में देखा जा रहा है। IEA के अनुसार, 2050 के नेट ज़ीरो परिदृश्य के तहत अंतर-क्षेत्रीय LNG व्यापार में 2025 के बाद तेज़ी से गिरावट की आवश्यकता होगी।

· विश्व स्तर पर, केवल एक LNG निर्यात परियोजना पिछले एक साल में FID तक पहुंची है, मेक्सिको में कोस्टा अज़ुल LNG टर्मिनल।

· उत्तरी अमेरिका निर्माण या पूर्व-निर्माण में वैश्विक निर्यात क्षमता का 64% हिस्सेदार है। उत्तरी अमेरिका में सबसे ज़्यादा परेशान हाल परियोजनाएं भी हैं, जिनमें 26 LNG निर्यात टर्मिनलों में से 11 में एहम वित्तीय फैसलों की देरी या अन्य गंभीर व्यवधान की रिपोर्ट है।

· कम उत्पादन लागत वाले क़तर और रूसी आर्कटिक में क्षमता के आक्रामक विस्तार ने यूनाइटेड स्टेट्स LNG निर्यात डेवलपर्स के लिए जोखिम बढ़ा दिया है।

· वैश्विक क्षमता को 70% तक बढ़ा पाने के लिए निर्माण या पूर्व-निर्माण में पर्याप्त परियोजनाओं के साथ LNG आयात क्षमता तेज़ी से विस्तार पथ पर जारी है। र्माण या पूर्व-निर्माण की क्षमता में से 32% चीन में है, 11% भारत में है, और 7% थाईलैंड में है। एशिया के बाहर, ब्राजील निर्माण या पूर्व-निर्माण में 13 LNG आयात टर्मिनलों के साथ एक हॉटस्पॉट है।

रिपोर्ट की प्रमुख लेखक, लिडिया प्लांट, ने कहा, “LNG को नीति निर्माताओं और निवेशकों को एक सुरक्षित, स्वच्छ, सुरक्षित विकल्प के रूप में बेचा गया था। अब वे सभी विशेषताएँ देनदारियों में बदल गई हैं। परियोजनाओं की विशालता ने निवेशकों को विनाशकारी नुकसानों के लिए उजागर कर दिया है। और हाल के IEA 2050 परिदृश्य बताते हैं कि जलवायु-सुरक्षित ऊर्जा भविष्य में LNG के लिए कोई जगह नहीं है। उद्योग ने अपना जलवायु प्रभामंडल खो दिया है, और एकमात्र सवाल यह है कि क्या बिडेन प्रशासन संभावित सफ़ेद हाथी (महंगी, बोझिल और बेकार) परियोजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए कीमती राजनीतिक पूंजी बर्बाद करेगा। ”

ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर के कार्यकारी निदेशक, टेड नेस, ने कहा, “जो लोग बुनियादी ढांचे को ‘सुरक्षित’ निवेश के रूप में सोचने के आदी हैं, वे LNG टर्मिनलों के सन्दर्भ में एक चट्टानी सवारी (अड़चने) झेल सकते हैं। अधिक निर्यात क्षमता के निर्माण के लिए अवसर कम हो गया है, और उत्तरी अमेरिकी परियोजनाएं कई कारणों से पिछड़ गई हैं। फ्रैक्ड गैस पर निर्भरता के कारण उन्हें सही तरह से, विशेष रूप से यूरोपीय खरीदारों द्वारा, बहुत मैले के रूप में देखा जाता है। इसके अलावा, क़तर और रूस दोनों के पास सस्ती गैस तक पहुंच है, और वे बाज़ार हिस्सेदारी छोड़ने वाले नहीं हैं।”

Leave a Reply

26 queries in 0.183
%d bloggers like this: