Posted On by &filed under राजनीति.


पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय की संसदीय सलाहकार समिति की बैठक दिल्ली में आयोजित

पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय की संसदीय सलाहकार समिति की बैठक दिल्ली में आयोजित

पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय की संसदीय सलाहकार समिति की बैठक का आज स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण) विषय पर आयोजन किया गया। पेयजल और स्‍वच्‍छता मंत्री श्री बीरेन्‍द्र सिंह की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में स्‍वच्‍छता के क्षेत्र में हुई प्रगति की समीक्षा की गई और लोगों की पूर्ण सहभागिता के साथ अक्‍टूबर, 2019 तक भारत को खुले में शौच से मुक्‍त बनाने के लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने की आवश्‍यकता पर भी खास जोर दिया गया। इस अवसर पर मंत्री महोदय ने कहा 2 अक्‍टूबर 2014 से स्‍वच्‍छ भारत अभियान के शुभारंभ के बाद से 31.03.2016 को 42.05 प्रतिशत की तुलना में ग्रामीण स्वच्छता दायरे में 51.53 प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है। उन्‍होंने संसद सदस्‍यों को जानकारी दी कि इस अभियान के शुभारंभ के बाद से स्‍वच्‍छता में प्रगति हई है और 31.03.2016 को मनरेगा के अंतर्गत 10.72 लाख सहित करीब 182.62 लाख शौचालयों का निर्माण पहले से ही किया जा चुका है। उन्‍होंने कहा कि 31.03.2016 को 13 जिले, 161 ब्‍लॉक, 22,513 ग्राम पंचायते और 53,973 ग्रामों को खुले में शौच से मुक्‍त किए जाने की घोषणा की जा चुकी है।

इस बैठक में लोकसभा से श्री भैरो प्रसाद मिश्र, श्री चरणजीत सिंह रोरी, श्री हुकुमदेव नारायण यादव, श्रीमती कृष्‍णा राज, श्री लीलाधरभाई खोडाजी वाघेला, श्री सत्‍य पाल सिंह, श्री पंकज चौधरी, श्री प्रभुभाई नागरभाई वसावा, श्री राजेन्‍द्र अग्रवाल, श्री रंगास्‍वामी ध्रुवनारायण, श्रीमती रीति पाठक, श्री शिवाजी अधालराव पाटिल और श्री सुनील बालीराम गायकवाड़ ने और राज्‍य सभा से श्री मेघराज जैन और श्री ऑस्‍कर फर्नाडीज ने भाग लिया।

बैठक के दौरान संसद सदस्‍यों ने विभिन्‍न सुझाव दिए और केन्‍द्रीय मंत्री ने उनके सुझावों का उपयोग करने का भी आश्‍वासन दिया।

पंचायतीराज राज्‍य मंत्री श्री निहाल चंद, पेयजल और स्‍वच्‍छता राज्‍य मंत्री श्री राम कृपाल यादव, ग्रामीण विकास राज्‍य मंत्री श्री सुदर्शन भगत और पेयजल एवं स्‍वच्‍छता, ग्रामीण विकास और पंचायतीराज मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारियों के अलावा छत्‍तीसगढ़ और असम से आए हुए अधिकारियों ने भी इस बैठक में हिस्‍सा लिया।

( Source – PIB )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *