Posted On by &filed under राज्य से, विविधा, समाज.


हिमाचल के उच्च लैंगिक अनुपात वाले जिलों में यौन उत्पीड़न के मामले कम: अध्ययन

हिमाचल के उच्च लैंगिक अनुपात वाले जिलों में यौन उत्पीड़न के मामले कम: अध्ययन

हिमाचल प्रदेश के जिन जिलों में लैंगिक अनुपात अधिक है, वहां महिलाओं के खिलाफ यौन उत्पीड़न के मामले कम सामने आए हैं। यह जानकारी रीजनल फोरेंसिक साइंस लेबोरेट्री के एक अध्ययन में सामने आई है।

यह अध्ययन वर्ष 2011 और 2015 के बीच राज्य के पांच जिलों में महिलाओं के खिलाफ यौन उत्पीड़न के उन मामलों के चलन पर आधारित है, जो प्रयोगशाला में आए।

अध्ययन के अनुसार, राज्य के केंद्रीय जोन में आने वाले पांच जिलों – मंडी, बिलासपुर, कुल्लू, लहौल एवं स्पीति और हमीरपुर – में यौन उत्पीड़न के मामलों की संख्या अधिक थी। ये वे स्थान हैं, जहां प्रति हजार पुरूषों पर महिलाओं की संख्या कम थी।

प्रयोगशाला के उप निदेशक राजेश वर्मा ने कहा कि 400 मामलों में से 42.5 प्रतिशत मामले मंडी जिले से, 28.6 प्रतिशत कुल्लू से, 14.8 प्रतिशत बिलासपुर से, 12.5 प्रतिशत हमीरपुर से और लगभग 1.5 प्रतिशत लाहौल एवं स्पीति से थे।

जिलों के लिए इन आंकड़ों की तुलना जब वर्ष 2011 के जनसांख्यिकी आंकड़ों में दर्ज सामाजिक संकेतकों से की गई तो इनसे कहीं अधिक निष्कर्ष निकले।

अध्ययन में पाया गया कि हर जिले में इसका संबंध लैंगिक अनुपात :प्रति हजार पुरूषांे पर महिलाओं की संख्या: से है।

इसमें पाया गया कि जिन जिलों में लैंगिक अनुपात अधिक है, वहां यौन उत्पीड़न के मामले कम हैं।

अध्ययन कहता है कि जिस समाज में महिलाओं की संख्या ज्यादा है और वे पढ़ी-लिखी हैं, वहां यौन उत्पीड़न के मामलों की संख्या कम है।

( Source – PTI )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *