एम्स जैसी संस्थाओं के कामकाज और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन पर विचार करेगी संसद की उप समिति

एम्स जैसी संस्थाओं के कामकाज और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन पर विचार करेगी संसद की उप समिति
जैसी संस्थाओं के कामकाज और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन पर विचार करेगी

देश में एम्स जैसी संस्थाओं के कामकाज, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, भारत खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकार के कामकाज, सार्वभौम टीकाकरण कार्यक्रम के तहत टीका के उत्पादन एवं उपलब्धता जैसे विषयों पर विचार के लिये पर संसद की स्थायी समिति के तहत दो उप समितियों का गठन किया गया है ।

लोकसभा सचिवालय की बुलेटिन के अनुसार, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण पर संसद की स्थायी समिति के तहत गठित पहली उप समिति का संयोजक डा. मनोज राजोरिया को बनाया गया है जबकि दूसरी उप समिति का संयोजक जयराम रमेश को बनाया गया है ।

डा. मनोज राजोरिया के संयोजन में गठित उप समिति के सदस्यों में राज्यसभा से डा. सी पी ठाकुर, अशोक सिद्धार्थ, मानस रंजन भुइयां, के सोम प्रसाद, रोनाल्ड सापा तलाउ तथा लोकसभा से डा. हीना विजयकुमार गावित, डा. के कामराज, थांग्सो बैते, जे जे टी नटर्जी, नंदकुमार सिंह चौहान, अर्जुन लाल मीणा, अक्षय यादव, कंवर सिंह तंवर और सी आर पाटिल शामिल हैं ।

यह उप समिति एम्स जैसे संस्थाओं के कामकाज, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, चिकित्सा उपकरण नियमन एवं नियंत्रण जैसे विषयों पर विचार विमर्श करेगी ।

जयराम रमेश के संयोजन में गठित दूसरी उप समिति के सदस्यों में राज्यसभा से विकास महात्मे, डा. आर लक्षमणन और एस उकेयी तथा लोकसभा से ज्ञान सिंह, एम के राघवन, डा. संयज जायसवाल, मनोहर उतवाल, डा. श्रीकांत एकनाथ शिंदे, दशरथ तिर्के, महेन्द्र नाथ पांडे, अनूप मिश्रा, चिराग पासवान, रीता तराई और भारत सिंह शामिल है। यह उप समिति भारत खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकार के कामकाज, सार्वभौम टीकाकरण कार्यक्रम के तहत टीका के उत्पादन एवं उपलब्धता के अलावा आयुर्वेद, सिद्धा, यूनानी और होम्योपैथी औषधियों की गुणवत्ता नियंत्रण एवं मानकीकरण जैसे विषयों पर विचार करेगी।

( Source – PTI )

Leave a Reply

%d bloggers like this: