Posted On by &filed under राष्ट्रीय.


केरल के मुख्यमंत्री की भाजपा और आरएसएस के नेताओं से मुलाकात

केरल के मुख्यमंत्री की भाजपा और आरएसएस के नेताओं से मुलाकात

केरल में हालिया राजनीतिक हिंसा और आरएसएस के एक कार्यकर्ता की हत्या की पृष्ठभूमि में राज्य के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने आज राज्य में भाजपा-आरएसएस के नेताओं के साथ बैठक आयोजित की।

मुख्यमंत्री द्वारा बुलाई गई इस बैठक में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष कुम्मनम राजशेखरन, पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं विधायक ओ राजगोपाल और आरएसएस के नेता पी गोपालनकुट्टी हिस्सा ले रहे हैं।

माकपा के प्रदेश सचिव कोडियेरी बालकृष्णन भी इस बैठक में हैं।

जब मुख्यमंत्री बैठक स्थल पर पहुंचे तो वहां टीवी कर्मियों का एक समूह बैठक से पहले ही वीडियो फुटेज लेने के लिए मौजूद था। मुख्यमंत्री ने उन्हें वहां से जाने के लिए कह दिया।

कल केरल के राज्यपाल पी सदाशिवम ने मुख्यमंत्री और डीजीपी लोकनाथ बेहरा को इस घटना के सिलसिले में तलब किया था।

मुख्यमंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया था कि वह राज्य में भाजपा और आरएसएस के नेताओं से मिलेंगे।

विजयन और डीजीपी ने राज्यपाल से अलग-अलग मुलाकात की। राजभवन ने उन्हें 34 वर्षीय राजेश की 29 जुलाई को की गई हत्या समेत हालिया हिंसक घटनाओं के बाद कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए तलब किया था।

राज्य में हाल में भाजपा-आरएसएस और माकपा के कार्यकर्ताओं की संलिप्तता वाली हिंसक घटनाएं होती रही हैं। यहां पिछले कुछ दिनों में प्रतिद्वंद्वी पार्टी के सदस्यों के मकानों पर हमले होते रहे हैं।

भाजपा के प्रदेश कार्यालय में 28 जुलाई को तोड़फोड़ की गई थी जबकि माकपा के प्रदेश सचिव कोडियेरी बालकृष्णन के बेटे बिनेश कोडियेरी के मकान पर पथराव भी किया गया।

राजेश को शनिवार को एक हिस्ट्रीशीटर के नेतृत्व वाले गिरोह ने मार डाला था। उनका बायां हाथ काट दिया गया था और उनके शरीर पर कई घाव थे।

भाजपा ने इस घटना के विरोध में कल राज्यभर में सुबह से शाम तक की हड़ताल आहूत की थी।

पुलिस ने कहा था कि आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले में आरोपी हिस्ट्रीशीटर माणिकंदन समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

कल केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मुख्यमंत्री से बात कर केरल में राजनीतिक कार्यकर्ताओं पर होने वाले हमलों को लेकर चिंता जताई थी। उन्होंने कहा था कि लोकतंत्र में राजनीतिक हिंसा अस्वीकार्य है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष कुम्मनम राजशेखरन ने आरोप लगाया कि हमले के पीछे माकपा का हाथ है। वहीं, माकपा के जिला नेतृत्व ने कहा है कि हमले में पार्टी का कोई हाथ नहीं है।

माकपा के प्रदेश सचिव कोडियेरी बालकृष्णन ने कहा है कि आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या की वजह निजी दुश्मनी है और उनकी पार्टी का इससे कोई लेना देना नहीं है।

राजशेखरन ने आरोप लगाया कि सत्ताधारी माकपा अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को मिटाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने माकपा से हिंसा से दूर रहने को कहा।

विपक्षी कांग्रेस ने कल हिंसा की राजनीति के खिलाफ कोझीकोड में अनशन किया।

( Source – PTI )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *