राष्ट्रपति ने पोरबंदर में राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि अर्पित की

राष्ट्रपति ने पोरबंदर में राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि अर्पित की
राष्ट्रपति ने पोरबंदर में राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि अर्पित की

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुजरात के पोरबंदर स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मस्थान कीर्ति मंदिर में उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की और इस बात पर जोर दिया कि स्वच्छता एक ‘‘बहुपक्षीय’’ राष्ट्रीय आंदोलन है ।

महात्मा की 148वीं जयंती के अवसर पर राष्ट्रपति ने ग्रामीण गुजरात को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) घोषित किया और कहा, ‘‘यह महात्मा गांधी को सच्ची श्रद्धांजलि है ।’’ उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य गुजरात की 3300 ग्राम पंचायतों के लिए ठोस कचरा प्रबंधन और ग्रामीण समग्र स्वच्छता कार्यक्रम शुरू किया । गौरतलब है कि इस साल के अंत में गुजरात में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं ।

कीर्ति मंदिर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि खुले में शौच मुक्त होकर गुजरात ने ‘‘महात्मा गांधी को सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित की है ।’’ एक सरकारी विज्ञप्ति के मुताबिक, राष्ट्रपति ने इस उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री विजय रूपानी को बधाई दी ।

पोरबंदर में रूपानी और राज्य के राज्यपाल ओ पी कोहली भी राष्ट्रपति के साथ थे ।

इस अवसर पर कोविंद ने एक प्रमाण-पत्र जारी किया जिसमें गुजरात के 33 जिलों के 347 प्रखंडों की 14,060 ग्राम पंचायतों को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया गया ।

राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘स्वच्छता एक बहुपक्षीय राष्ट्रीय आंदोलन है और यह सिर्फ सफाई कर्मियों एवं सरकारी विभागों की जिम्मेदारी नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के लक्ष्यों को दो अक्तूबर 2019 तक हासिल करना राष्ट्रपिता को उचित श्रद्धांजलि होगी ।

गुजरात की ग्रामीण विकास आयुक्त मोना खांडहर ने कहा कि राज्य सभी पैमानों पर खरा उतरा और ग्रामीण गुजरात को खुले में शौच मुक्त घोषित कराने के लिए जरूरी तीन स्तरीय जांच प्रक्रिया को पूरा किया ।

मोना ने कहा कि ग्रामीण गुजरात में ओडीएफ कार्यक्रम के तहत 32,43,000 शौचालय बनवाए गए हैं ।

बाद में कोविंद जूनागढ़ जिले के मंगरोल गए, जहां उन्होंने मैंग्रो मत्स्यपालन केंद्र के तीसरे चरण की आधारशिला रखी और 45 गांवों के लिए ग्रामीण जलापूर्ति योजना का उद्घाटन किया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: